न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

गाजा साईक्लोन तमिलनाडु तट से टकराया, भारी तबाही-11 लोगों की मौत

27

 Chennai :   गाजा साईक्लोन शुक्रवार सुबह तमिलनाडु तट से टकराया है. बता दें कि तूफान के कारण  तमिलनाडु के तटवर्ती जिलों में तेज हवाएं चल रही हैं और बारिश हो रही है.तूफान में अब तक 11 लोगों के मारे गए हैं. तमिलनाडु के नागपटि्टनम, तिरूवरूर, कुड्डालोर और रामनाथपुरम सहित सात जिलों में शैक्षाणिक संस्थानों में छुट्टी घोषित कर दी गयी है. सरकार ने निजी कंपनियों और प्रतिष्ठानों से अपने कर्मचारियों को जल्द वापस भेजने को कहा ताकि वे शाम चार बजे से पहले घर पहुंच सकें. जानकारी के अनुसार नागपट्टनम में लगभग 120 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ़्तार से हवा चली. कई जगहों पर पेड़ उखड़ गये.
गाजा तूफान के असर से हुए लैंडफॉल के दौरान वहां हवा की रफ्तार करीब 90-100 किमी प्रतिघंटा दर्ज की गई. अब तक मिली जानकारी के अनुसार तूफान में 11 लोग की मौत हो गई. राज्य सरकार ने मारे गए लोगों के परिजनों को 10-10 लाख का मुआवजा देने का ऐलान किया है.

 इसे भी पढ़ें :  कांग्रेस का आरोप,  PM मोदी ने बढ़ाया राफेल का बेंचमार्क प्राइज, चोर दरवाजे से सौदा बदल दिया

मौसम विभाग के अनुसार गाजा तूफान अगले कुछ घंटों में तमिलनाडु के अन्य जिलों में पहुंच जायेगा. तूफान को लेकर प्रशासन ने तटवर्ती इलाकों में रहने वाले 76,000 लोगों को पूर्व में ही सुरक्षित स्थान पर पहुंचा दिया है. तेज हवा और बारिश के कारण कई जगहों पर भारी नुकसान देखा गया.

silk_park

76,000 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर भेज दिया गया

मछुआरों से भी अपील की गयी है कि इस दौरान समुद्र में न जायें. खबर दी गयी है कि प्रशासन ने किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए सभी तरह के इंतजाम कर रखे हैं. तूफान की चपेट में आने की संभावना वाले जिलों में अपने तंत्र को पूरी तरह से अलर्ट कर रखा है. सरकारी सूत्रों ने बताया कि कुल 76,000 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर भेज दिया गया है. नागपट्टिनम और कुड्डालोर सहित छह जिलों में 331 राहत केन्द्र खोले गये हैं.  बता दें कि भारतीय मौसम विभाग ने कल रात एक बुलेटिन में कहा था कि तूफान का बाहरी असर पहले ही तट पर पहुंच गया है और तमिलनाडु के तटीय इलाकों में बारिश शुरू हो गयी है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: