DhanbadJharkhand

धनबाद : मधुगोड़ा नदी का अस्तित्व बचाने को ग्रामीण करेंगे आन्दोलन

Dhanbad  : बाघमारा विधानसभा क्षेत्र के राजगंज थाना अंतर्गत धावाचीता पंचायत स्थित मधुगोड़ा गांव की मधुगोड़ा नदी का अस्तित्व समाप्त होने पर है. मधुगोड़ा दलदली स्थित सीताराम सिंह हार्डकोक भट्टा के द्वारा मधुगोड़ा नदी में फैक्ट्री का मलबा गिराये जाने से मधुगोड़ा नदी सूख गयी है.  गांव गंभीर जल संकट से जूझ रहा है.

ग्रामीण चार बार सीताराम सिंह हार्डकोक भट्टा के मालिक से मिल चुके हैं, पर हर बार बस आश्वासन मिला है कि मलबे को हटाया जायेगा, लेकिन  हार्डकोक भट्टा मालिक मलबा हटाने के बदले निरंतर मलबा नदी में गिराते आ रहे हैं,  जिससे नदी का अस्तित्व समाप्त हो रहा है.

सूखी मधुगोड़ा नदी

मधुगोड़ा नदी का अस्तित्व बचाने को लेकर मधुगोड़ा गांव के ग्रामीणों ने स्थानीय नेता राजकुमार रजवार एवं छात्र नेता सुमित प्रामाणिक की अगुवाई में आज एक बार फिर भट्टा कंपनी के मालिक से की. मालिक ने एक दिन में सफाई काम शुरू करने का आश्वासन दिया है.

advt

इसे भी पढ़ेंः रेलवे बोर्ड के चेयरमैन से मिले झारखंड के चार सांसद, गरीब रथ को प्रतिदिन वाया डालटनगंज करने और राजधानी एक्सप्रेस में कोटा बढ़ाने की मांग  

  राजगंज थाना तथा अनुमंडल पदाधिकारी को आवेदन सौंपा

साथ ही सुमित प्रामाणिक की अगुवाई में गांव के एक प्रतिनिधिमंडल ने राजगंज थाना तथा अनुमंडल पदाधिकारी, धनबाद को जानकारी देते हुए नदी का अस्तित्व बचाने को लेकर आवेदन सौंपा है.  अपने आवेदन में ग्रामीणों ने कहा है कि निर्धारित समय पर यदि भट्टा संचालक मधुगोड़ा नदी की सफाई काम शुरू नहीं कराते हैं,  तो मधुगोड़ा के ग्रामीण अनिश्चित कालीन आंदोलन करेंगे.

प्रतिनिधिमंडल में  राजकुमार रजवार, राज सिंह, भोला भट्टाचार्या, बिनोद रजवार, शितेश रजवार, लालबाबू रजवार, पप्पू रजवार, प्रीतम रजवार, मनोज रजवार, प्रेम रजवार, दिनेश रजवार, नंदलाल रजवार, बबलू रजवार, चंद्रिका, रमेश, तपन आदि शामिल थे.

adv
advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button