GiridihJharkhand

कोरोना काल में ठेकेदारों ने 2 महीने से नहीं दी मजदूरी, मजदूरों के सामने अब रोटी की दिक्कत

Giridih. लॉकडाउन में घर लौटे प्रवासी मजदूरों को गिरिडीह के गांवा में पावर ग्रिड निर्माण में काम तो मिला लेकिन अब दो माह से उन्हें वेचन नहीं मिला. दरअसल, जेवीएनएल के पावरग्रिड का निर्माण कर रही एजेंसी एलएंडटी कंपनी के चार ठेकेदारों ने इन प्रवासी मजदूरों को उनके काम का भुगतान नहीं किया है.

क्यों बंद हुआ भगुतान?

जेवीएनएल के चार ठेकेदारों ने करीब 50 से अधिक मजदूरों को मजदूरी का भुगतान करना बंद कर दिया है. मजदूरों का भुगतान क्यों बंद किया गया, ये जेवीएनएल के पदाधिकारी भी नहीं बता पा रहे हैं. मजदूरी नहीं मिलने के कारण इन प्रवासी मजदूरों की आर्थिक हालात बिगड़ गया है. 50 मजदूरों का साढ़े तीन लाख रुपये का भुगतान ठेकेदारों ने रोक दिया है.

ram janam hospital
Catalyst IAS

ठेकेदारों के खिलाफ प्रदर्शन

The Royal’s
Pitambara
Pushpanjali
Sanjeevani

भुगतान नहीं मिलने से परेशान मजदूर बुधवार को गदर गांव के पावर ग्रिड निर्माण स्थल पहुंचे और जेवीएनएल और ठेकेदारों के खिलाफ प्रदर्शन किया. मजदूरों का कहना है कि स्थिति जब बेहतर थी तो महानगरों में काम कर रहे थे, लेकिन कोरोना के खौफ के कारण लौटना पड़ा. घर लौटने के बाद गांवा के गदर गांव में पावर ग्रिड निर्माण कार्य में काम मिला. लेकिन दो माह से ठेकेदारों ने मजदूरी का भुगतान तक नहीं किया है.

इसे भी पढ़ें-  Giridih: कोरोना संक्रमण के 22 नए मामले, छह पुलिसकर्मियों की रिपोर्ट भी पॉजिटिव

जिस कारण परेशानी बढ़ती जा रही है, मजदूरी मांगने पर एजेंसी के चारों ठेकेदार सारे पैसे काटने की धमकी दे रहे हैं. इधर प्रदर्शन कर रहे मजदूरों ने कहा कि अगर 15 दिनों के भीतर उनका भुगतान नहीं होता है तो निर्माण स्थल में काम ठप कर भूख हड़ताल करेंगे.

8 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button