Court NewsJharkhandRanchi

जब तक नये अस्पताल नहीं बनते, तब तक क्या मरीजों को अपने हाल पर छोड़ दिया जाएगा: HC

Ranchi: राज्य के अस्पतालों की वर्तमान स्थिति की जानकारी न देकर व भावी योजनाएं न बताए जाने पर हाईकोर्ट ने सरकार पर नाराजगी जाहिर की है. स्वत: संज्ञान लिए मामले की सुनवाई करते हुए चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन और जस्टिस सुजीत नारायण प्रसाद की अदालत ने गुरुवार को सरकार से कहा कि क्या जब तक नए अस्पताल नहीं बन जाएंगे, मरीजों को अस्पतालों में अपने हाल पर छोड़ दिया जाएगा?

अस्पतालों में मरीजों का इलाज अभी भी जमीन पर हो रहा है. उन्हें सभी सुविधाएं नहीं मिल रही है. वर्तमान स्थिति से निपटने के लिए सरकार क्या कर रही है और क्या कदम उठा रही है इसकी जानकारी देने में सरकार क्यों हिचक रही है.

इसे भी पढ़ें :त्योहारों से पहले धोती-साड़ी बांटने का काम पूरा होः हेमंत सोरेन

Chanakya IAS
Catalyst IAS
SIP abacus

अदालत ने पिछली सुनवाई के दौरान ही सराकर से अस्पतालों में वर्तमान सुविधा और स्थिति की जानकारी मांगी थी, लेकिन सरकार ने भावी योजनाएं बना कर पेश की है. ये योजनाएं कब तक पूरी होंगी?

The Royal’s
MDLM
Sanjeevani

इसकी समयबद्ध जानकारी नहीं दी गयी है.ऐसे में अदालत ने सरकार को 21 अक्तूबर तक अस्पतालों की बदहाली दूर करने को लेकर रिपोर्ट पेश करने का निर्देश दिया है.

इसे भी पढ़ें :महत्वपूर्ण खबर :  1 अक्टूबर से बदल रहे हैं कई नियम, आपके लिए जानना है बेहद जरूरी

वहीं दूसरी ओर मामले की सुनवाई के दौरान सरकार की ओर से बताया गया कि एमजीएम अस्पताल में अतिरिक्त एक हजार बेड बढ़ाने की योजना है.

इसके अलावा देवघर, पलामू, हजारीबाग में भी मेडिकल कॉलेज खोला गया है. यहां भी भविष्य में क्षमता बढ़ेगी. इस पर अदालत ने नाराजगी जाहिर की और वर्तमान स्थिति की जानकारी मांगी.

इसे भी पढ़ें :केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय का आदेश, सहायक प्रोफेसर की नियुक्ति के लिए फिलहाल अनिवार्य नहीं होगी PHD

Related Articles

Back to top button