न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

शहीद नीलांबर-पीतांबर को भूली रघुवर सरकार, बिना उनके गांव की मिट्टी के शौर्य पार्क के लिए हुआ मिट्टी संग्रह

2,009

Ranchi: झारखंड के वीर शहीदों और स्वतंत्रता सेनानियों के सम्मान में हर शहीद के गांव से पावन मिट्टी संग्रहण कार्यक्रम का राज्य सरकार की ओर से रांची में भव्य तरीके से किया गया. लेकिन सरकार की ओर से प्रकाशित किये गये विज्ञापन में कई शहीदों के नाम छूट गये. इनमें शहीद शेख भिखरी भी शामिल हैं. वहीं नीलाम्बर-पीताम्बर के गांव चेनो सरीया से मिटटी लायी गयी है कि नहीं पूछे जाने पर खिजरी विधायक राम कुमार पहान ने कहा- उस गांव से भी मिट्टी लायी गयी होगी, हमें जनकारी नहीं है. मनिका विधायक हरिकृष्ण सिंह बता सकते हैं. जबकि चेनो सरिया नीलाम्बर-पीताम्बर का गांव मंडल डैम में डूबने वाला है. इस बात की जानकारी भी विधायक राम कुमार पाहन को नहीं थी. इधर, पावन मिट्टी संग्रहण कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास कहा कि आजादी के बाद से राज्य के वीर शहीदों का नाम काली स्याही से मिटाने का प्रयास किया गया लेकिन अब ऐसा नहीं होगा. राज्य सरकार उनकी प्रतिमा भी बनवायेगी. उनकी वीर गाथा को स्वर्ण अक्षर से विश्व पटल पर अंकित किया जायेगा. गौरतलब है कि राज्य के वीर शहीदों के प्रतिमा निर्माण हेतु 25 करोड़ की राशि केन्द्र ने दी है.

वर्त्तमान सरकार के रहते कोई आपकी जमीन नहीं छीन सकता

मुख्यमंत्री ने कहा कि संथाल परगना में जन चौपाल के दौरान मैंने पूछा कि क्या सरकार ने आपकी जमीन छीनी तो एक महिला ने कहा कि नहीं छीनी. मैं आपको भरोसा दिलाता हूं वर्त्तमान सरकार के रहते कोई आपकी जमीन नहीं छीन सकता. आदिवासी कल्याण के लिए आदिवासी विकास समिति का गठन किया गया है, जिसके तहत 5 लाख रुपये गांव के विकास हेतु दिया जायेगा. साथ ही 1200 आदिवासी गांव में पेयजल हेतु पानी की उपलब्धता सुनिश्चित की जायेगी. ताकि गांव की मां-बहनों को पानी के लिए परेशान ना होना पड़े. राज्य सरकार 1857 के शहीदों की प्रतिमा का भी निर्माण बिरसा मुंडा कारागार स्थित संग्रहालय में करेगी.

hosp3

पूरा झारखंड आज गौरवान्वित है 

संग्रहण कार्यक्रम में केंद्रीय राज्य मंत्री श्री सुदर्शन भगत ने कहा कि वीर शहीदों को श्रद्धा सुमन अर्पित करता हूँ. ब्रिटिश हुकूमत के खिलाफ राज्य के शहीदों का बड़ा योगदान रहा है. केंद्र और राज्य सरकार के प्रयास से ऐसे वीरों को सम्मान देने के लिए उनकी प्रतिमाओं का एक साथ भव्य निर्माण हो रहा है. ऐसा पहली बार हो रहा है.

आजादी की सांस वीर शहिदों की देन है

अपने स्वागत संबोधन में मंत्री लुईस मरांडी ने कहा कि आजादी के बाद राज्य के वीरों की शौर्य गाथा को किसी ने सामने लाने का प्रयास नहीं किया. शौर्य पार्क के रूप में जनजातीय समाज को दिये गये सम्मान से बड़ा सम्मान और कुछ नहीं हो सकता. इस अवसर पर खिजरी विधायक श्री रामकुमार पाहन ने कहा कि राज्य के विभिन्न गांव की मिट्टी से झारखंड के वीर शहीदों की प्रतिमा का निर्माण होगा. हम शहीदों के नाम और राजनीति नहीं करते बल्कि उनका सम्मान करते है. इससे पूर्व मुख्यमंत्री ने शहीदों के प्रतिमा निर्माण में उपयोग होने वाली पावन मिट्टी का विधान से पूजन कर नमन किया.

मौके पर ये लोग थे मौजूद 

कार्यक्रम में मंत्री सीपी सिंह, मंत्री नीलकंठ सिंह मुंडा, सांसद लक्ष्मण गिलुआ, राज्य सभा सांसद समीर उरांल,  मेयर आशा लकडा, विधायक हरेकृष्ण सिंह, विधायक शिवशंकर उरांव, विधायक राधाकृष्ण किशोर, विधायक जीतुचरण राम, विधायक गंगोत्री कुजूर, विधायक मेनका सरदार, मुख्य सचिव सुधीर त्रिपाठी, वरीय अधिकारी व विभिन्न जिलों से आये सैकड़ों लोग मौजूद थे.

इसे भी पढ़ेंः महाराष्ट्र एटीएस ने आतंकी साजिश नाकाम की, आईएसआईएस से संबंध रखने वाले नौ संदिग्ध गिरफ्तार

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: