न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू : मॉब लिंचिंग में युवक की पीट-पीटकर हत्या

गोली मारने की घटना पर ग्रामीणों ने उतारा मौत के घाट

76

Palamu : पलामू जिले के हरिहरगंज थाना क्षेत्र के सरसोंत एकौनी गांव में मॉब लिंचिंग की घटना सामने आयी है. शुक्रवार को दिनदहाड़े छेड़छाड़ का विरोध करने पर मिथिलेश यादव नामक युवक को गोली मारकर घायल कर दिया गया. गोली मारने के बाद भाग रहे आरोपी युवक को ग्रामीणों ने पकड़ लिया और उसकी जमकर धुनाई कर दी, इससे वह अधमरा हो गया. बाद में उसकी मौत इलाज के दौरान हो गयी. गोली लगने से घायल युवक को हरिहरगंज प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र से बिहार के गया रेफर कर दिया गया है. जिले के पुलिस अधीक्षक इंद्रजीत महथा ने घटना की पुष्टि करते हुए बताया कि मामला प्रेम प्रसंग से जुड़ा है. मामले की छानबीन की जा रही है.

इसे भी पढ़ें: झारखंड में विकास सिर्फ होडिंग और भाषण में ही नजर आता है : हेमंत सोरेन

प्रेमी मिथिलेश को थी अपनी पूर्व प्रेमिका की आने की खबर

जानकारी के अनुसार हरिहरगंज के चौखटवा गांव से रामसुंदर यादव की पुत्र रंजू देवी अपने चचेरे देवर धीरेंद्र यादव के साथ अपने मायके पररिया जा रही थी. एकौनी गांव में पहुंचने पर रंजू के साथ उसका देवर छेड़छाड़ करने लगा. इधर, रंजू के प्रेमी मिथिलेश यादव को सूचना मिली थी कि वह अपने ससुराल जा रही है. मिथिलेश पीछे से आ रहा था. अचानक धीरेंद्र को रंजू के साथ गलत हरकत करते देखकर उसने विरोध किया तो धीरेंद्र मारपीट पर उतारू हो गया.

इसे भी पढ़ें: न्यूज विंग ब्रेकिंग: फंस गई राज्य में सरकारी नौकरियां, परीक्षा लेने में एसएससी भी असमंजस में

उग्र ग्रामीणों ने कर दी धीरेंद्र की पिटाई

मिथिलेश के साथ उसका दोस्त रामराज भी था. दोनों को भारी पड़ता देख धीरेंद्र ने गोली चला दी. गोली मिथिलेश की आंख के समीप लगी. गोली चलने की सूचन मिलने पर स्थानीय ग्रामीण उग्र हो गए और धीरेंद्र की पिटाई शुरू कर दी. हालांकि सूचना पा कर मौके पर पहुंचे हरिहरगंज थाना के एएसआई इंद्रदेव राम ने किसी तरह भीड़ के बीच से धीरेंद्र को बचाया और इलाज के लिए हरिहरगंज स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया. रंजू की दो वर्ष पूर्व पररिया निवासी निरंजन यादव से शादी हुई थी. रंजू का मिथिलेश के साथ पूर्व से प्रेम संबंध रहा था, रंजू का पति निरंजन बाहर रहकर काम करता है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: