न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पाकुड़ की इलामी पंचायत की मुखिया मिस्फिका बनीं BJP की प्रदेश प्रवक्ता, बीजेपी ज्वॉइन करते ही मिला था बॉडीगार्ड

BJP में अब हो गये सात प्रदेश प्रवक्ता, मिस्फिका को प्रदेश प्रवक्ता बनाये जाने पर पार्टी के अंदरखाने में वरीयता को लेकर खड़े हो रहे सवाल

2,412

Ranchi : पाकुड़ की इलामी पंचायत की मुखिया मिस्फिका और पूर्व महाधिवक्ता अनिल सिन्हा को बीजेपी का प्रदेश प्रवक्ता बनाया गया है. प्रदेश अध्यक्ष सह सांसद लक्ष्मण गिलुवा ने दोनों नये प्रदेश प्रवक्ताओं को मनोनीत किया है. यह जानकारी प्रदेश महामंत्री सह मुख्यालय प्रभारी दीपक प्रकाश ने दी. बता दें कि मिस्फिका को बीजेपी ज्वॉइन करते ही बॉडीगार्ड मिल गया था. संतालपरगना क्षेत्र की नेत्री मिस्फिका को प्रदेश स्तर पर जगह देने की चर्चा पहले से ही चल रही थी. इधर, मिस्फिका को प्रदेश प्रवक्ता बनाये जाने से पार्टी के अंदरखाने में चर्चाएं भी तेज हो गयी हैं. कई वरीय नेताओं का कहना है कि पुराने और सक्रिय कार्यकर्ताओं सहित वरीय नेताओं की अनदेखी हुई है.

अब बीजेपी में हो गये सात प्रदेश प्रवक्ता

अब बीजेपी में सात प्रदेश प्रवक्ता हो गये हैं. इससे पहले छह प्रदेश प्रवक्ता थे. इनमें एक प्रदेश प्रवक्ता सरिता श्रीवास्तव को हटाकर बीजेपी में मंत्री बनाया गया. अब जेबी तुबिद, प्रवीण प्रभाकर, प्रतुल शाहदेव, दीनदयाल वर्णवाल, राजेश शुक्ल के अलावा मिस्फिका और अनिल सिन्हा बीजेपी के प्रदेश प्रवक्ता हैं.

कौन हैं मिस्फिका

पाकुड़ की इलामी पंचायत की मुखिया मिस्फिका बनीं BJP की प्रदेश प्रवक्ता, बीजेपी ज्वॉइन करते ही मिला था बॉडीगार्ड
मिस्फिका.

एम्स, दिल्ली में कैंसर पर रिसर्च कर रहीं मिस्फिका ने दूसरों की लाइफ सुधारने के लिए अपना करियर छोड़ दिया. कभी आईएएस बनने का सपना देखनेवाली मिस्फिका इस वर्ष झारखंड में हुए पंचायत चुनाव में पाकुड़ जिले की इलामी पंचायत की मुखिया चुनी गयी हैं. अफसरों से फर्राटेदार अंग्रेजी में बात करनेवाली महज 25 साल की मिस्फिका के मुखिया बनने से गांव के लोगों में भी काफी खुशी है.

माता-पिता हैं काफी खुश

25 साल की इस बायोटेक्नोलॉजी एक्सपर्ट ने साइंटिस्ट बनने व आईएएस बनने का सपना छोड़ मुखिया बनने की राह अपनायी. पाकुड़ जिले के सदर ब्लॉक की इलामी पंचायत के ग्रामीणों की आस और मिस्फिका के जज्बे को देख उनके माता-पिता भी बेहद खुश नजर आते हैं. मिस्फिका के पिता लुत्फुल शेख ने कहा कि गांव की बदहाली दूर करने के मिस्फिका के निर्णय से पहले तो उन्हें आश्चर्य हुआ, लेकिन अब लोगों के प्यार व उसके सपनों को उड़ान भरता देख उन्हें खुशी हो रही है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: