न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

डीएलएओ कार्यालय ने लाभुकों को दोबारा दिया 1.5 करोड़ का मुआवजा

जिला भू-अर्जन पदाधिकारी ने कहा गड़बड़ी को दुरुस्त करने की हो रही है कोशिश

37

Ranchi: राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग की तरफ से राष्ट्रीय उच्च पथ-33 (एनएच-33) के लिए अधिगृहित भूमि के मुआवजे के भुगतान में गड़बड़ी की शिकायत सामने आयी है. एनएच-33 के सेक्शन बुंडू-तमाड़ को लेकर जिला प्रशासन की तरफ से जमीन अधिग्रहण को लेकर 1.50 करोड़ रुपये से अधिक का भुगतान लाभुकों को कर दिया गया. जिला भू-अर्जन पदाधिकारी सीमा सिंह के कार्यालय से मुआवजे को लेकर दो बार चिट्ठी निर्गत किये जाने से ऐसी स्थिति उत्पन्न हुई है. आनन-फानन में बुधवार को कोटक महिंद्रा बैंक की रांची शाखा से भी रिपोर्ट मांगी गयी है कि किन-किन लाभुकों के खाते में कितना पैसा भेजा गया है. जिला भू-अर्जन कार्यालय की तरफ से अब कहा जा रहा है कि सभी लाभुकों से दोबारा ली गयी राशि की जांच करा कर अधिक भुगतान की वसूली की जाये. लाभुकों के सामने विषम परिस्थिति उत्पन्न हो गयी है, क्योंकि अधिकतर लाभुकों ने अपने खाते से रकम की मुआवजे की राशि की निकासी कर ली है. ऐसे में निकाली गयी राशि को दोबारा सरकारी खाते में जमा करने के आदेश से गांववाले भी पशोपेश में हैं. नेशनल हाईवे अथोरिटी और राज्य सरकार के संयुक्त खाते से लाभुकों के एकाउंट में पैसे ट्रांसफर किये गये थे.

राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग ने मांगी रिपोर्ट

उधर राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग ने पूरे मामले पर डीएलएओ से रिपोर्ट मांगी है. विभागीय अधिकारियों ने कहा है कि लाभुकों को दोबारा किसके कहने पर भुगतान करने का आदेश दिया गया है, इसे स्पष्ट किया जाये.

एनएच-33 सेक्शन के लिए कोटक महिंद्रा बैंक रांची से भुगतान किया गया है. डीएलएओ कार्यालय के आदेश से सावित्री देवी, संजीव कुमार, रास बिहारी मांझी, रमेश चंद्र महतो, श्याम महतो, छत्रधारी महतो के खाते ब्लॉक कर दिये गये हैं. इतना ही नहीं इस तरह अन्य लाभुकों के खातों की पहचान भी की जा रही है. जिला प्रशासन की तरफ से सभी लाभुकों की सूची फिर तैयार की जा रही है. यहां बताते चलें कि गैर-मजरुआ भूमि के अधिगृहण के बाद उसके जोतकार अथवा मूल रैयत को एनएचएआइ की तरफ से पैसे दिये जाते रहे हैं. एनएच-33 के बुंडू सेक्शन में सीताराम मुंडा, अनंत लाल भगत, खुटूल महतो और अर्जुन महतो को उनके हिस्से से अधिक का पैसा मिल चुका है.

इस संबंध में रांची के डीएलएओ सीमा सिंह ने कहा कि हमारी तरफ से किसी को अतिरिक्त राशि का भुगतान नहीं किया गया है. यदि गड़बड़ी हुई होगी, तो राशि की वसूली कानूनी प्रावधान से कर ली जायेगी.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: