न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अरूण जेटली लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर, दुआओं और हवन का दौर जारी

705

New Delhi : पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली की हालत नाजुक है. उन्हें उनको लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया है. अब इलाज के साथ ही उनके लिए दुआएं मांगी जा रही हैं. वहीं शनिवार को अरुण जेटली के जल्द स्वस्थ होने के लिए हवन भी किया गया.

जेटली का हाल जानने के लिए एम्स में लगातार सभी नेता पहुंच रहे हैं. जेटली के स्वास्थ्य का हाल जानने के लिए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल समेत कई नेता अस्पताल पहुंचे.

सूत्रों ने बताया कि जेटली (66) को लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया है और विभिन्न विभागों के डॉक्टरों की एक टीम उनकी स्थिति की निगरानी कर रही है. जेटली को नौ अगस्त को अस्पताल में भर्ती कराया गया था. एम्स ने जेटली की स्वास्थ्य की स्थिति के बारे में 10 अगस्त से कोई बुलेटिन नहीं जारी किया है.

इसे भी पढ़ें – मनुस्मृति : इन लोगों के लिए पीछे हटकर छोड़ देना चाहिए रास्ता

hotlips top

जेटली को देखने का दौर जारी

सूत्रों ने बताया कि जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्द्धन, भाजपा के सतीश उपाध्याय और कांग्रेस नेता अभिषेक सिंघवी और ज्योतिरादित्य सिंधिया तथा एयर चीफ मार्शल बी एस धनोआ भी जेटली का हाल जानने अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) पहुंचे.

वहीं बसपा प्रमुख और उत्तरप्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती भी उनके स्वास्थ्य के बारे में जानने के लिए अस्पताल पहुंचीं. मायावती ने ट्वीट किया, ‘‘पूर्व केन्द्रीय वित्त एवं रक्षा मंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली के स्वास्थ्य का हालचाल लेने आज नयी दिल्ली के एम्स अस्पताल गयी.

उनके परिवार के लोगों से मिलकर उन्हें दिलासा दिलाने के साथ-साथ भगवान से प्रार्थना भी है कि वह जेटली जल्दी ही स्वस्थ हो जाएं.

सांस लेने में हो रही था तकलीफ

गौरतलब है कि जेटली को सांस लेने में तकलीफ और बेचैनी की समस्या के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था. इस साल मई में उपचार के लिए वह एम्स में भर्ती हुए थे. पेशे से वकील जेटली प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पहले कार्यकाल में उनकी कैबिनेट का महत्वपूर्ण हिस्सा थे. उनके पास वित्त और रक्षा का प्रभार था और सरकार के लिए वह संकटमोचक की भूमिका में रहे.

लेकिन खराब स्वास्थ्य के कारण जेटली ने 2019 का लोकसभा चुनाव नहीं लड़ा. पिछले साल 14 मई को एम्स में उनका किडनी ट्रांसप्लांट हुआ था. उस समय रेल मंत्री पीयूष गोयल को उनके वित्त मंत्रालय की जिम्मेदारी दी गयी थी.

पिछले साल अप्रैल की शुरुआत से ही वह कार्यालय नहीं आ रहे थे और वापस 23 अगस्त 2018 को वित्त मंत्रालय आये. लंबे समय तक मधुमेह रहने से वजन बढ़ने के कारण सितंबर 2014 में उन्होंने बैरिएट्रिक सर्जरी करायी थी.

जेटली के स्वास्थ्य को लेकर हर्षवर्द्धन ने शुक्रवार को कहा था कि एम्स में डॉक्टर अपना हर मुमकिन प्रयास कर रहे हैं. वहीं राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी जेटली के स्वास्थ्य के बारे में जानने के लिए शुक्रवार को एम्स पहुंचे थे.

इसे भी पढ़ें – JSCA चुनाव को लेकर घेराबंदी शुरू, अमिताभ चौधरी गुट की मनीष जायसवाल से सीधी टक्कर संभव

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

o1
You might also like