BusinessLead NewsNational

Zomato: अब ‘हिंदी’ को लेकर फंस गया जोमैटो कर्मी, ग्राहक ने सुनाई खरी खोटी, पैसे वापस मांगे

चेन्नई के एक ग्राहक का आरोप हिंदी न जानने के लिए 'झूठा' करार दिया गया

Chennai : खाना डिलीवरी करने वाली कंपनी जोमैटो एक बार फिर विवादों में घिर गई है. दरअसल इस बार का मामला हिंदी भाषा सीखने को लेकर है. चेन्नई के एक ग्राहक ने आरोप लगाया है कि उसे हिंदी न जानने के लिए ‘झूठा’ करार दिया गया. ग्राहक का कहना है कि कंपनी में काम करने वाले एक अधिकारी ने उससे कहा कि उसे हिंदी तो थोड़ी बहुत आनी चाहिए क्योंकि यह हमारी ‘राष्ट्र भाषा’ है. इस विवाद के बारे में ग्राहक ने ट्वीट किया और कर्मचारी के साथ हुई बातचीत का स्क्रीनशॉट शेयर किया.
ग्राहक विकास ने अपनी शिकायत में कहा कि उसने जो ऑर्डर दिया उसमें से एक आइटम नहीं पहुंचा है.

इसे भी पढ़ें : झारखंड में आदिवासियों के बीच खोई साख को वापस पाने की मुहिम में जुटी भाजपा

advt

ग्राहक ने कहा पैसे लौटाओ, भाषा का मुद्दा मेरा विषय नहीं

विकास ने जो चैट्स का स्क्रीनशॉट साझा किया है उसमें वह ऑर्डर को लेकर जोमैटे के अधिकारी के साथ बहस करता नजर आया है. इस बातचीत में जोमैटो चैट सपोर्ट एक्जीक्यूटिव ग्राहक से कहता है कि उसकी रेस्तरां से पांच बार बात हो चुकी है लेकिन वहां ‘भाषा की बाधा’ है. इस पर ग्राहक जवाब देता है यह मेरी समस्या नहीं है. आप जल्द से जल्द पैसे लौटाइए.

इसे भी पढ़ें : साइबर अपराधियों से सावधान! कहीं आप न बन जायें कैटफिशिंग के शिकार

सोशल मीडिया पर यूजर्स ने की खिंचाई

जोमैटो के साथ बहस का यह ट्वीट पोस्ट किए जाने के बाद सोशल मीडिया पर यह मामला तेजी से वायरल हो गया. लोगों ने भाषा पर सवाल उठाने के लिए सोशल मीडिया पर कर्मचारी की खिंचाई की और उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग की. वहीं, जोमैटो केयर ने इसे ‘अस्वीकार्य’ बताया. बाद में जोमैटो ने कहा, ‘विकास, टेलीफोन पर हमारी बातचीत के अनुसार, आपकी शिकायतों का समाधान हो गया है. आगे किसी भी तरह की मदद के लिए आप हम तक जरूर आएं.

इसे भी पढ़ें : कांग्रेस का नया नारा: ‘लड़की हूं…लड़ सकती हूं’, प्रियंका का एलान- UP में 40 % टिकट महिलाओं को

डीएमके सांसद ने की जवाबदेही तय करने की मांग

डीएमके के सांसद सेंथिल कुमार ने भी अपने हैंडल पर विकास का ट्वीट साझा किया. सांसद ने जोमैटो से इसकी जवाबदेही तय करने की मांग की. उन्होंने कहा, ‘तमिलनाडु में एक ग्राहक को हिंदी क्यों आनी चाहिए और किस आधार पर आपने यह कहा कि उसे थोड़ी-बहुत हिंदी की जानकारी होनी चाहिए.

इसे भी पढ़ें : आदित्यपुर के नये थानेदार आलोक दुबे ने संभाला पदभार, विवादों में घिरे थे राजेंद्र महतो

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: