न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

राजस्थान में जीका वायरस की दस्तकः 22 लोग संक्रमित, PMO ने मांगी रिपोर्ट

बिहार सरकार भी सतर्क

157

Jaipur: राजस्थान के जयपुर में जीका वायरस के संक्रमण की पुष्टि के बाद से राज्य सरकार की नींद उड़ी हुई है. जयपुर में जीका वायरस से 22 लोग संक्रमित हैं. जीका वायरस के भारत में फैलने को लेकर राज्य सरकार ही नहीं केंद्र सरकार भी सख्ते में है. पूरे मामले को लेकर पीएमओ ने स्वास्थ्य मंत्रालय से रिपोर्ट मांगी है.

इसे भी पढ़ेंःपाकिस्तान को सूचना लीक करने वाला ब्रह्मोस एयरोस्पेस का इंजीनियर गिरफ्तार, ATS ने दी जानकारी

बिहार सरकार अलर्ट

hosp3

बीमार 22 लोगों में से एक बिहार के सीवान का रहनेवाला है. और बताया जा रहा है कि वो कुछ दिनों पहले ही बिहार से वापस आया है. ऐसे में बिहार सरकार भी इस बात को लेकर आशंकित है कि वायरस बिहार से तो नहीं फैल रहा. मामले को लेकर, बिहार सरकार ने अपने सभी 38 जिलों को नजर रखने के निर्देश दिये हैं.

पीएमओ ने मांगी रिपोर्ट

जीका वायरस के पांव पसारने की खबर के बीच पीएमओ ने जयपुर में इसे लेकर रिपोर्ट मांगी है. स्वास्थ्य मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र (एनसीडीसी) में एक नियंत्रण कक्ष भी तैयार किया गया है. स्वास्थ्य मंत्रालय का कहना है कि राजस्थान में जीका वायरस के 22 मामलों की पुष्टि हुई है. सभी जयपुर के निर्धारित इलाके से आए हैं. फिलहाल, यहां मच्छरों के नमूनों की जांच की जा रही है. वही गर्भवती महिलाओं की खासतौर पर निगरानी की जा रही है. क्योंकि उनमें जीका वायरस फैलने का डर सबसे ज्यादा है.

इसे भी पढ़ें – 8 अरब की वन भूमि निजी और सार्वजनिक कंपनियों के हवाले, फिर भी प्रोजेक्ट पूरे नहीं 

उल्लेखनीय है कि जीका वायरस अब तक दुनिया भर के 86 देशों में मिला है. यह भारत में पिछले साल जनवरी और फरवरी में पहली बार अहमदाबाद में ये पाया गया था. इसके बाद तमिलनाडु में भी इसकी पुष्टि हुई थी. हालांकि, उस वक्त इस पर काबू पा लिया गया था.

कैसे फैलता है संक्रमण

डॉक्टर्स का कहना है कि डेंगू, मलेरिया और चिकनगुनिया की तरह ही जीका एक बड़ी जन-स्वास्थ्य समस्या है. जीका वायरस से संक्रमित कई लोग खुद को बीमार महसूस नहीं करते. और मच्छर किसी संक्रमित व्यक्ति को काटता है, जिसके खून में वायरस मौजूद हैं, तो यह किसी अन्य व्यक्ति को काटकर वायरस फैला सकता है.

इसे भी पढ़ेंः CM का विभाग : 441.22 करोड़ का घोटाला, अफसरों ने गटका अचार और पत्तों का भी पैसा

जीका वायरस से होनेवाला खतरा

डॉक्टर के अनुसार, जीका वायरस से संक्रमित गर्भवती महिला से ये उनके शिशु में आ सकता है. वायरस गर्भ में फैल सकता है और शिशुओं में माइक्रोसिफेली और अन्य गंभीर मस्तिष्क रोगों का कारण बन सकता है. वही वयस्कों में यह गुलैन-बैरे सिंड्रोम का कारण बन सकता है. इस बीमारी में शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली नसों पर हमला करती है, जिससे कई जटिलताओं की शुरुआत होती है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: