न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

जेड-प्लस सुरक्षा वाले मोहन भागवत की जान खतरे में, ब्लैक कैट कमांडो तैनात करने की सिफारिश

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत की जान को खतरा है. यह आकलन सुरक्षा एजेंसियों का है.  कहा जा रहा है कि खतरे का आकलन भारतीय उपमहाद्वीप में अल-कायदा (AQIS) और इस्लामिक स्टेट (IS) के भारत में मॉड्यूल द्वारा कथित साजिश का विश्लेषण करके किया गया है

944

NewDelhi :  आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत की जान को खतरा है. यह आकलन सुरक्षा एजेंसियों का है.  कहा जा रहा है कि खतरे का आकलन भारतीय उपमहाद्वीप में अल-कायदा (AQIS) और इस्लामिक स्टेट (IS) के भारत में मॉड्यूल द्वारा कथित साजिश का विश्लेषण करके किया गया है, जो दक्षिणपंथी नेताओं, विशेष रूप से आरएसएस और भाजपा के लोगों के खिलाफ हमले करते हैं. बता दें कि 2019 के लोक सभा चुनाव से पूर्व राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के  चीफ मोहन भागवत की जान के खतरे को लेकर केंद्रीय और स्टेट एजेंसियों ने एक सुरक्षा ऑडिट किया. खबरों के अनुसार इन एजेंसियों ने आरएसएस चीफ की सिक्योरिटी राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (एनएसजी) के ब्लैक कैट कमांडो में अपग्रेड करने की सिफारिश की है. वर्तमान में मोहन भागवत को जेड-प्लस सुरक्षा कवर प्राप्त है.  एसपीजी और एनएसजी के बाद यह तीसरी उच्चतम सुरक्षा है. वर्तमान में 60 से अधिक सीआईएसएफ कमांडो उनकी सुरक्षा में चौबीस घंटे तैनात रहते हैं. लेकिन  खुफिया एजेंसियों ने भागवत के सुरक्षा जोखिम को बढ़ा दिया है.  साउथ ब्लॉक के अधिकारियों के अनुसार   वे अभी भी इन रिपोर्टों का मूल्यांकन कर रहे हैं. मोहन भागवत की सुरक्षा पर जल्द ही निर्णय लिया जायेगा.  अधिकारियों के अनुसार राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में हाल के चुनावों के दौरान मोहन भागवत की सुरक्षा का उल्लंघन हुआ था.  

एनआईए ने दिल्ली और यूपी में 10 युवाओं को गिरफ्तार किया था

एनआईए ने हाल ही में दिल्ली और यूपी में 10 युवाओं को गिरफ्तार किया था.  पिछले साल पंजाब में कांग्रेस सरकार ने राज्य में आरएसएस नेताओं की हत्याओं को अंजाम देने के लिए पाकिस्तान स्थित ISI द्वारा एक कथित साजिश का खुलासा किया था.  2017 में लुधियाना में दो अज्ञात मोटरसाइकिल सवार हमलावरों ने 60 साल के आरएसएस नेता रविंदर गोसाई की गोली मारकर हत्या कर दी थी;  इससे पूर्व आरएसएस नेता ब्रिगेडियर जगदीश गगनेजा (टीटीडी) को जालंधर में गोली मार दी गयी थी. बता दें कि हाल ही में तमिलनाडु पुलिस ने छह युवकों को संदेह के आधार पर गिरफ्तार किया कि वे इस्लामिक स्टेट से संबंध रखते हैं और आरोप था कि राज्य में दक्षिणपंथी नेताओं को निशाना बनाने की योजना बना रहे थे. 

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: