JharkhandRanchi

लॉजिस्टिक के क्षेत्र में युवाओं को मिलेंगे रोजगार के अवसर 

ग्रामीण युवाओं को बेहतर रोजगार से जोड़ा जायेगा :विष्णु परीदा,

सीएक्सओ मीट का आयोजन

Ranchi: आजादी का अमृत महोत्सव अंतर्गत दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना के तहत सीएक्सओ मीट का आयोजन किया गया. झारखंड स्टेट लाईवलीहुड प्रमोशन सोसाईटी के द्वारा इस कार्यक्रम का ऑनलाईन आयोजन किया गया, जिसमें उद्योग जगत एवं कौशल विकास से जुड़े अनेक लोग शामिल हुए.

advt

इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य राज्य में इंडस्ट्री एवं कौशल विकास संस्थाओं के बीच सहभागिता बढ़ाकर समावेशी माहौल तैयार करना था. इस ऑनलाईन चर्चा में ग्रामीण युवाओं के लिए अभिनव ट्रेड्स एवं नौकरी के अवसर के लिए मंथन किया गया. विभिन्न क्षेत्रों में कुशल मैनपावर की जरूरत एवं अहतार्ओं पर विस्तृत चर्चा की गई. इस अवसर पर मुख्य परिचालन पदाधिकारी विष्णु परिदा ने जेएसएलपीएस की अपेक्षाओं से अवगत कराया. राज्य के ग्रामीण युवाओं को कुशल बनाकर अच्छी नौकरी से जोड़ने के संकल्प को दोहराया.

इसे भी पढ़ें – सोने के सिक्के देकर सम्मानित किए गए आईसीएसई एवं आईएससी टॉपर्स

परिदा ने डीडीयूजीकेवाई के जरिए युवाओं को बेहतर भविष्य से जोड़ने की बात कही. सेफएडुकेट कंपनी की सीईओ दिव्या जैन ने बताया कि लॉजिस्टिक सेक्टर में आने वाले दिनों में बेहतर रोजगार के अवसर उपलब्ध हैं. ईकॉमर्स कंपनियों के बढ़ते व्यवसाय के जरिए अकेले हमारी कंपनी में आने वाले 2 साल में करीब 1 लाख लोगों के लिए रोजगार के अवसर बनेंगे. लॉजिस्टिक ट्रेड में युवाओं को कुशल बनाने की जरुरत है. अपैरल एवं होम फर्निशिंग सेक्टर स्किल काउन्सिल के डॉ रूपक वशिष्ट ने बताया कि स्किल गैप स्टडी के अनुसार इस सेक्टर में 86 लाख कुशल कामगार की जरूरत है. झारखण्ड के लिए भी यह स्टडी सही है. सिलाई मशीन ऑपरेटर के ट्रेड में अच्छे अवसर हैं.

डॉ रुपक ने राज्य सरकार से अपैरल सेक्टर के लिए इंडस्ट्री लगाने की एसओपी तय करने की मांग की. इस पहल से झारखण्ड में लाखों लोगों को रोजगार मिलने के अवसर खुलने की बात कही. स्किल अप संस्था के प्लेसमेंट हेड मनीष शर्मा ने बताया कि झारखंड के युवा अपने कार्य को लेकर बहुत संजीदा एवं मेहनती होते है. यहां के युवाओं को अगर सही कौशल दिया जाए तो देश ही नहीं विदेशों में भी नौकरी के अवसर उपलब्ध है.

लॉजिस्टिक सेक्टर स्किल काउन्सिल के सीओओ रविकान्त यामार्थी ने बताया की ल़ॉजिस्टिक के क्षेत्र में बढ़ते अवसरों को देखते हुए वेयरहाउस प्रोफेशनल्स एवं ड्राइवर्स की भारी डिमांड है. आने वाले दिनों में वेयरहाउंसिंग के जरिए उद्यमिता को भी बढ़ावा मिलेगा. इस कार्यक्रम में  50 से ज्यादा उद्योग जगत के हस्ती एवं जेएसएलपीएस के अधिकारी जुड़े थे.

इसे भी पढ़ें – गिरिडीह : विदेशी पॉर्न साइट पर महिला का अश्लील फोटो वायरल, साइबर थाना में केस दर्ज

राज्य कार्यक्रम प्रबंधक हसनैन वारसी ने सीएक्सओ मीट में जुड़ने के लिए सभी को धन्यवाद दिया एवं उनके सुझावों पर अमल करने की बात कही ताकि ग्रामीण युवाओं को सुनहरे कल से जोड़ा जा सके.

राज्य में दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना का क्रियान्वयन जेएसएलपीएस के द्वारा किया जा रहा है. कोविड लॉकडाउन के बाद पुन: करीब 47 ट्रेनिंग सेंटर्स का संचालन शुरू किया जा चुका है जहां करीब 3800 ग्रामीण युवा विभिन्न ट्रेड्स में प्रशिक्षण ले रहे हैं.

इसे भी पढ़ें – गरीबों को आवास देने का वादा भूल मंत्रियों के लिए 70 करोड़ में महल बनवा रही सरकार : कुणाल

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: