न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

न्याय की आस में गिरिडीह से रांची पहुंचा युवक, लगातार होती मारपीट से परेशान

युवक ने राज्यपाल भवन के पास खड़े होकर लगाई मदद की गुहार. एक खास समुदाय के लोगों पर परेशान करने का आरोप

1,137

Ranchi: इंसाफ की आस में गिरिडीह से एक युवक झारखंड की राजधानी रांची पहुंचा है. न्याय की गुहार लगाते हुए वो राजभवन के पास खड़ा है.

दरअसल, गिरिडीह के मुफस्सिल थाना क्षेत्र के फुलजोरी गांव निवासी संतोष महली का कहना है कि उसके बगल गांव दुधपनिया में रहने वाले खास सुमदाय के कुछ लोग तकरीबन एक साल से लगातार उसे और उसके परिवार को परेशान कर रहे हैं. लगातार मिलती धमकियों से युवक और उसका पूरा परिवार त्रस्त है.

इसे भी पढ़ेंःक्या #IL&FS, #DHFL के बाद अगला नंबर #इंडियाबुल्स हाउसिंग फाइनेंस लिमिटेड का है?

अब राजभवन के सामने खड़े होकर गले में बैनर लटकाये युवक ने मदद की गुहार लगाई है. युवक का कहना है कि जबतक उसकी जिंदगी है, वो इंसाफ के लिए लड़ता रहेगा. साथ ही कहा कि मैं इंसाफ के लिए आज से नंगे पैर चलूंगा, जब तक मुझे न्याय नहीं मिलता, फिर चाहे मेरी मृत्यु ही क्यों ना हो जाये.

मदद की गुहार

युवक संतोष महली का कहना है कि दुधपनिया गांव के रहने वाले सद्दाम अंसारी द्वारा जान से मारने की धमकी दी जा रही है. सद्दाम उस पर निगरानी रख रहा है.

युवक द्वारा लिखा गया आवेदन

अपनी पीड़ा सुनाते हुए उसने कहा कि मैं एक साल से परेशान हूं. मदद की गुहार लगाते हुए कहा कि मेरे गांव से निकलने का रास्ता भी उन्ही के मोहल्ले से होते हुए आता है. मैं किसी तरह जंगल होते हुए 20 किलोमीटर पैदल चलकर फिर गाड़ी पकड़ कर रांची पहुंचा हूं.

इसे भी पढ़ेंःसेंट्रल यूनिवर्सिटी के लिए कांके के चेरी-मनातू में 510 एकड़ जमीन का अधिग्रहण शुरू

जान से मारने की धमकी

संतोष महली के द्वारा लिखे आवेदन में कहा गया है कि उसके गांव फुलजोरी के बगल वाले को दूधपनिया में रहने वाले एक समुदाय के लोग एक हिंदू आदिवासी परिवार के साथ हमेशा मारपीट करते हैं.

कुछ दिन पहले उन लोगों से मवेशियों के बारे में भी जानकारी मांगी गई. मामले पर जानकारी नहीं होने की बात पर सद्दाम अंसारी उसके साथ मारपीट की.

साथ ही दूधपनिया से अपने ही समुदाय के और लोगों को हथियार के साथ बुलवाकर संतोष और उसके पड़ोसी घनश्याम महली की बेरहमी से पिटाई की गयी. साथ ही पूरे परिवार को जान से मारने की धमकी भी दी गई.

गांव खाली करने के लिए दिया जा रहा दबाव

संतोष ने अपने आवेदन में ये भी कहा कि सद्दाम और उसके गांव के लोगों ने उसे, अपने पूरे परिवार के साथ गांव छोड़ने को कहा है. और ऐसा नहीं करने पर जान से मारने की धमकी दी.

इस दौरान उनके खिलाफ जातिसूचक शब्दों का इस्तेमाल किया गया. साथ ही उसकी मां के साथ भी मारपीट की गयी.

मारपीट और परेशान करने वालों में सद्दाम अंसारी,विभून अंसारी, इरफान अंसारी, मंटू अंसारी, तैयब अंसारी और परवेज अंसारी शामिल हैं. सभी पर अक्सर मारपीट करने और जान से मारने की धमकी देने का आरोप है.

अभी तक संज्ञान में नहीं आया मामला- एसपी

इस मामले में गिरिडीह एसपी सुरेंद्र कुमार झा से बात करने पर उन्होंने बताया कि अभी तक ये मामला उनकी संज्ञान में नहीं आया है. अगर इस तरह की बात है तो निश्चित तौर पर जांच के बाद कार्रवाई की जाएगी.

इसे भी पढ़ेंःसपना टूट गया ! हरियाणा में 208 सरकारी स्कूल बंद, 974 प्राइवेट स्कूलों को मंजूरी…

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्या आपको लगता है हम स्वतंत्र और निष्पक्ष पत्रकारिता कर रहे हैं. अगर हां, तो इसे बचाने के लिए हमें आर्थिक मदद करें.
आप अखबारों को हर दिन 5 रूपये देते हैं. टीवी न्यूज के पैसे देते हैं. हमें हर दिन 1 रूपये और महीने में 30 रूपये देकर हमारी मदद करें.
मदद करने के लिए यहां क्लिक करें.-

you're currently offline

%d bloggers like this: