न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अब सांसद से मिलने रांची नहीं आना पड़ेगा, मैं आपके पास पहुंच जाऊंगाः संजय सेठ

892

Ranchi: रांची के नव निर्वाचित सांसद संजय सेठ जीत के बाद बहुत ही उत्साहित हैं. माथे पर तिलक गाल में गुलाल और बंडी में मोदी, देश के साथ सांसद के मोदीमय होने की तस्वीर साफ बयां कर रही है.

संजय सेठ ने जिन वादों के साथ चुनाव लड़ा था वो जुनून और जज्बा अब भी कायम है. नवनिर्वाचित सांसद ने आज भी पत्रकार वार्ता के दौरान कहा कि रांची की जनता को किसी भी काम के लिए रांची आने की जरुरत नहीं है, वे खुद लोगों के पास पहुंच जाएंगे.

इसे भी पढ़ेंःलोकसभा चुनाव में रघुवर की रणनीति मानी जा रही सटीक, लेकिन विस चुनाव में होगा रिपीट टेलीकास्ट, जरूरी नहीं!

चुनावी कार्यालय को समाधान केंद्र में बदलने की बात पर कायम हैं. उन्होंने कहा कि समाधान केंद्रों में सारी सुविधाएं होंगी और वहीं जनता समस्याओं के निपटारे के लिए अर्जी लगेगी.

उन्होंने कहा कि जनता की परेशानियों के निपटारे के लिए वे खुद जनता के पास जाएंगे. उन्होंने 12 लाख मतदाताओं को अपनी जीत का श्रेय दिया.

जीत के बाद भाजपा प्रदेश कार्यालय में आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान उन्होंने ये बातें कहीं. इस दौरान आजसू सुप्रीमो सुदेश महतो, मंत्री सीपी सिंह, समीर उरांव, नवीन जायसवाल, रामकुमार पाहन,जीतुचरण राम, आशा लकड़ा, संजीव विजयवर्गीय मौजूद थे.

समस्याओं की आवाज बनूंगा, आवाज धीमी नहीं होगी

संजय सेठ ने कहा कि समस्याओं की आवाज बनूंगा और ये आवाज धीमीं नहीं होगी. बल्कि पूरे देश में सुनाई देगी. उन्होंने कहा कि मैं बैकबेंचर बनकर नहीं रहूंगा.

SMILE

इसे भी पढ़ेंः14 सीटों पर 229 उम्मीदवार लोकसभा चुनाव में उतरे, 202 जमानत भी नहीं बचा सके

साथ ही कहा कि एक सप्ताह या दस दिन में हर विधानसभा के समाधान केंद्र में बैठकर लोगों की समस्याओं के निपटारे की कोशिश करेंगे.

रांची लोकसभा में सबका साथ-सबका विकास के दायित्व को प्राथमिकता में सबसे पहले बताया. उन्होंने बताया कि पांच साल के बाद कोई उत्तराधिकारी नहीं होंगे.

सबसे अधिक खुश दिखे सुदेश महतो

प्रेस वार्ता के दौरान आजसू सुप्रीमो सुदेश महतो भी मौजूद थे. इस दौरान वे सबसे अधिक खुश दिखे. हो भी क्यों नहीं पहली बार संसद तक पहुंचने का स्वाद सुदेश महतो की पार्टी ने चखा है.

भाजपा प्रदेश कार्यालय पहुंच कर उन्होंने एक-एक कर सभी से मुस्कराते हुए मुलाकात की. सबको शुभकामनाएं दी. उन्होंने कहा कि वे भले ही एक सीट से संसद पहुंच रहे हैं. लेकिन पूरे राज्य की आवाज बनेंगे.

इसे भी पढ़ेंःधनबाद: बहुचर्चित तिहरे हत्‍याकांड में सिविल कोर्ट का फैसला, मुख्य आरोपी को सजा-ए-मौत

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: