NationalUttar-Pradesh

योगी का PM से अनुरोध, कहा- दिल्ली और उससे सटे जिलों में आवागमन के लिए बने ओवरऑल पॉलिसी

विज्ञापन

Lucknow: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से दिल्ली और उससे सटे जिलों में ट्रैफिक के लिए एक ओवरऑल पॉलिसी बनाने का आग्रह किया है.

राज्य सरकार के एक प्रवक्ता के अनुसार योगी ने बुधवार को प्रधानमंत्री के विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से हुए संवाद के दौरान आग्रह किया कि दिल्ली एवं उससे सटे जनपदों के लिए एक ओवरऑल पॉलिसी बनायी जानी चाहिए.

स्क्रीनिंग की व्यवस्था होनी चाहिए: योगी

उन्होंने कहा कि इन क्षेत्रों में लगातार आवागमन होता रहता है. इसके मद्देनजर कोविड-19 के संदिग्ध और लक्षणरहित संक्रमित व्यक्तियों की स्क्रीनिंग की व्यवस्था होनी चाहिए, जिससे संक्रमण पर प्रभावी नियंत्रण लगाया जा सके. मुख्यमंत्री ने कोविड-19 संक्रमित लोगों को होम क्वॉरेंटाइन के बजाय कोविड अस्पतालों में रखे जाने की इजाजत देने की भी गुजारिश की.

advt

उन्होंने कहा कि कोविड-19 से संक्रमित लक्षणरहित मामलों को घरों में क्वॉरेंटाइन में रखने पर जरूरी अनुशासन का पालन संभव नहीं हो पाता. इससे संक्रमित के परिजनों को संक्रमण के जोखिम के साथ ही, परिवार के संपर्क में आये अन्य व्यक्तियों के माध्यम से संक्रमण फैलने की आशंका बनी रहती है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि संक्रमण की श्रृंखला तोड़ने व इसके प्रसार पर नियंत्रण के लिए लक्षणरहित कोविड-19 संक्रमित मरीजों को कोविड अस्पतालों में रखे जाने की अनुमति दी जाए. प्रवक्ता के अनुसार योगी ने केंद्र सरकार द्वारा प्रदान किये जा रहे मार्गदर्शन के लिए आभार व्यक्त करते हुए कहा कि केंद्र के सहयोग से राज्य में चिकित्सा के मूलभूत ढांचे को सुदृढ़ करने में बहुत मदद मिली है. इस समय प्रदेश में लेवल-1, लेवल-2, लेवल-3 के कुल 503 कोविड अस्पताल एक्टिव हैं. इन अस्पतालों में कुल 1,01,236 बिस्तर उपलब्ध हैं.

राज्य में 5 लाख से अधिक नमूनों की हो चुकी है जांच

उन्होंने कहा कि अब तक राज्य में कोविड-19 के संक्रमण की जांच के लिए पांच लाख से अधिक नमूनों की जांच हो चुकी है. वर्तमान में कोविड-19 के संक्रमण से संबंधित प्रतिदिन लगभग 16,000 टेस्ट किए जा रहे हैं. 20 जून तक इसे बढ़ाकर 20,000 किए जाने का लक्ष्य है.

मुख्यमंत्री ने श्रमिक स्पेशल रेलगाड़ियों की व्यवस्था के लिए प्रधानमंत्री मोदी और रेल मंत्री पीयूष गोयल का आभार प्रकट करते हुए कहा कि अभी तक राज्य में 1,650 से अधिक श्रमिक स्पेशल रेलगाड़ियां आयीं. साथ ही, उत्तर प्रदेश परिवहन निगम की 12,000 से अधिक बसें संचालित की गईं.

adv

उन्होंने कहा कि वापस लौटे कामगारों की 80 श्रेणियों में स्किल मैपिंग भी की गयी. इसके लिए एक पोर्टल तैयार किया गया. क्वॉरेंटाइन सेंटर से बाहर आने वाले कामगारों को उनकी स्किल के अनुरूप कार्य उपलब्ध कराने की कार्यवाही की जा रही है. योगी ने कहा कि राज्य में कामगारों के लिए ‘उत्तर प्रदेश कामगार और श्रमिक (सेवायोजन एवं रोजगार) आयोग’ का गठन किया गया है। इस आयोग ने कार्य करना भी शुरू कर दिया है.

उन्होंने कहा कि अनलॉक की प्रक्रिया शुरू होने के बाद अब तक राज्य सरकार को प्रदेश में रह रहे और वापस लौटे श्रमिकों को सम्मिलित करते हुए 95 लाख श्रमिकों और कामगारों को रोजगार, नौकरी और स्वरोजगार से जोड़ने में सफलता मिली है. कृषि और उससे जुड़े क्षेत्रों में यह संख्या लगभग 60 लाख है.

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button