न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

नसीरुद्दीन शाह से योगेश्वर दत्त ने पूछा, याकूब मेमन की फांसी की दया याचिका पर साइन करते हुए डर नहीं लगा?

फिल्म अभिनेता नसीरुद्दीन शाह द्वारा देश में बढ़ रही हिंसा और असहिष्णुता पर दिये गये बयान की आलोचना जारी है. इस क्रम में अब ओलंपिक कांस्य पदक विजेता पहलवान योगेश्वर दत्त ने ट्वीट कर नसीरुद्दीन शाह के बयान की आलोचना करते हुए लताड़ा हे

1,508

NewDelhi : फिल्म अभिनेता नसीरुद्दीन शाह द्वारा देश में बढ़ रही हिंसा और असहिष्णुता पर दिये गये बयान की आलोचना जारी है. इस क्रम में अब ओलंपिक कांस्य पदक विजेता पहलवान योगेश्वर दत्त ने ट्वीट कर नसीरुद्दीन शाह के बयान की आलोचना करते हुए लताड़ा हे. बता दें कि नसीरुद्दीन शाह ने एक बयान जारी कर   कहा था कि देश के मौजूदा माहौल में उन्हें डर लगता है क्योंकि आज देश में गाय एक पुलिस इंस्पेक्टर से ज्यादा अहम हो गयी है. नसीरुद्दीन शाह ने कहा था कि उन्हें अपने बच्चों को लेकर चिंता होती है. नसीरुद्दीन शाह के इस बयान को बुलंदशहर में हुई हिंसा से जोड़कर देखा जा रहा है, जहां गोहत्या के आरोप में भड़की हिंसा में एक पुलिस इंस्पेक्टर समेत दो लोग मारे गये थे. इसके बाद शाह की आलोचना का दौर शुरू हो गया. दक्षिणपंथी जहां नसीरुद्दीन शाह के बयान की आलोचना कर रहे हैं, वहीं कांग्रेस ने नसीरुद्दीन शाह के बयान का समर्थन किया है.  

सभी 39 भारतीयों को मार दिया. तब आपको गुस्सा नहीं आया?

अपने योगेश्वर दत्त ने भी ट्वीट करते हुए नसीरुद्दीन शाह के बयान के प्रति नाराजगी जाहिर की और सवाल किया कि जब 1984 दंगे, 1993 बम धमाके और 26/11 जैसे हमले हुए थे तब उन्हें डर नहीं लगा था? योगेश्वर दत्त ने शुक्रवार को ट्वीट कर नसीरुद्दीन शाह को संबोधित करते हुए लिखा है कि एक आतंकवादी संगठन ने भारत और बांग्लादेश के नागरिकों का अपहरण कर लिया और बाद में बांग्लादेशियों का धर्म देखकर छोड़ दिया, बाकी के सभी 39 भारतीयों को मार दिया. तब आपको गुस्सा नहीं आया? इस क्रम में कहा कि आतंकी याकूब मेमन की फांसी की दया याचिका पर साइन करते हुए आपको डर नहीं लगा?” बता दें कि मुंबई बम धमाके के मामले में दोषी ठहराये गये याकूब मेमन की फांसी की दया याचिका पर कई हस्तियों ने साइन कर उसकी फांसी रुकवाने की अपील की थी. उनमें नसीरुद्दीन शाह भी शामिल थे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: