HazaribaghJharkhand

यशवंत सिन्हा ने बिगाड़ा लोकसभा सीट से महागठबंधन उम्मीदवार की जीत का रास्ता : भुवनेश्वर प्रसाद

Hazaribagh : झारखंड में पांचवें चरण के तहत छह मई को हजारीबाग लोकसभा में मतदान होने हैं. चुनाव में महज सात दिन बाकी रह गए हैं लेकिन प्रत्याशियों में आरोप प्रत्यारोप का दौर जारी है.

हजारीबाग से महागठबंधन प्रत्याशी के नाम को लेकर पहले से अफवाहों का बाजार गर्म था. लेकिन कांग्रेस ने अफवाह को विराम देते हुए गोपाल साहू को हजारीबाग से उम्मीदवार बनाया. जिसके बाद उन्होंने 18 अप्रैल को नामांकन दर्ज किया.

महागठबंधन से कांग्रेस उम्मीदवार गोपाल साहू ने कहा कि जयंत सिन्हा को खौफ है कि कांग्रेस से दमदार उम्मीदवार के आने से उनकी परेशानी बढ़ गई है. उन्होंने यह भी कहा कि जयंत सिन्हा की ओर से उन्हें रोकने की कोशिश की गई.

इसे भी पढ़ें- व्हाट्सएप ग्रुप में गलत खबर पोस्ट करने पर जैप 2 का जवान निलंबित

भुवनेश्वर मेहता का यंशवंत सिन्हा पर वार

इधर, सीपीआई के उम्मीदवार भुवनेश्वर मेहता ने यशवंत सिन्हा पर कई आरोप लगाए, उन्होंने कहा कि हजारीबाग में कांग्रेस उम्मीदवार की घोषणा में देरी की वजह यशवंत सिन्हा है.

उन्होंने आरोप लगाया कि यशवंत सिन्हा महागठबंधन से कमजोर उम्मीदवार खड़ा करवा कर अपने बेटे को जीत दिलवाना चाहते थे. सीपीआई को महागठबंधन में जगह नहीं दिए जाने के पीछे भी यशवंत सिन्हा ने अहम भूमिका निभाई है.

इसे भी पढ़ें- जेट एयरवेज की आर्थिक तंगी बनी जानलेवा, कर्मचारी ने चार मंजिला इमारत से कूदकर दी जान

adv

क्या डरे हुए हैं यशवंत सिन्हा

इसकी वजह बताते हुए उन्होंने कहा कि हजारीबाग में बीजेपी को चुनौती देने वाली पार्टी सीपीआई ही थी. सीपीआई ने यशवंत सिन्हा को 2004 में लोकसभा चुनाव हराया था जिस वजह से यशवंत सिन्हा डरे हुए हैं.

गौरतलब है कि हजारीबाग लोकसभा क्षेत्र में कुल 1872 मतदान केंद्र बनाए गए हैं. वहीं 1348445 मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे.

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: