न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

चाय के कप पर “मैं भी चौकीदार” लिखना आचार संहिता का उल्लंघन, तो वीसी का “ईमानदार चौकीदार बनें” कहना कितना सही!

वीसी ने कहा अगर चौकीदार कहना गलत, तो इस शब्द को शब्दकोष से हटा दिया जाए 

746

Akshay Kumar Jha

eidbanner

Ranchi: लोकसभा के इस चुनावी महासमर में एक ऐसे शब्द का इजाद बीजेपी और कांग्रेस दोनों की तरफ से किया है, जो पूरे देश के लोगों की जुबान पर है. कांग्रेस वाले “चौकीदार चौर है” का नारा दे रहे हैं. तो वहीं बीजेपी “मैं भी चौकीदार” का नारा बुलंद करने में लगी हुई. इस बीच ट्रेन में कैंटीन चलानेवाले पर केस हो गया है. जुर्माना भी लगा है. दरअसल नई दिल्ली-काठगोदाम शताब्दी एक्सप्रेस में यात्रियों को “मैं भी चौकीदार हूं’ स्लोगन लिखे पेपर कप में दो बार चाय दी गई. एक यात्री पायल मेहता ने इस कप की फोटो ट्वीट कर दी. विवाद बढ़ने पर रेलवे ने कॉन्ट्रैक्टर पर एक लाख जुर्माना लगाया है. झारखंड के मुख्य निर्वाचन अधिकारी एल ख्यांगते ने “मैं भी चौकीदार हूं’ लिखे कप में चाय देने को आचार संहिता का उल्लंघन बताया. उन्होंने सभी डीसी को ऐसे मामलों पर नजर रखने की हिदायत दी. कहा किसी भी जिले में ट्रेन में या बाहर “मैं भी चौकीदार हूं’ लिखे कप-प्लेट आदि के वितरण का मामला सामने आए तो सप्लायरों पर तुरंत एफआइआर दर्ज कराएं.

इसे भी पढ़ें – जेएनयू राजद्रोह मामले में कोर्ट ने कहा- मंजूरी पर दिल्ली सरकार से होंगे सवाल, पुलिस की भूमिका खत्म

रांची विवि के कुलपति ने भी इस्तेमाल किया चौकीदार शब्द

ऐसे में एक और मामला सामने आया है. दरअसल रांची युनिवर्सिटी के वीसी रमेश कुमार पांडे ने भी चौकीदार शब्द का इस्तेमाल किया है. इस शब्द का इस्तेमाल उन्होंने करीब 5000 स्टूडेंट्स के सामने किया है. इनमें से कई इस बार के लोकसभा चुनाव में मतदान भी करेंगे. मौका था रांची युनिवर्सिटी के 32 वें कन्वोकेशन का. उन्होंने मौजूद स्टूडेंट्स के सामने कहा कि “शिक्षा ने, ज्ञान ने आपको खुला मस्तिक दिया है. चीजों को बेहतर ढंग से देखने की आंखें दी है. विवेचना विश्लेषण करने का विवेक दिया है. समय की नब्ज को पहचाने. समय की पुकार को सुनें. देश का प्रहरी बने. ईमानदार चौकीदार बनें.”

इसे भी पढे़ं – हेमंत सोरेन ने विधायक विकास मुंडा से खूंटी लोकसभा सीट के लिए मांगा सहयोग

अभिभाषण के दौरान “पहरेदार” भी कहा

रांची युनिवर्सिटी के वीसी के अभिभाषण में पहरेदार शब्द का भी जिक्र था. उन्होंने कहा कि अपने बारे में महसूस करें झूठ के कपाल पर मैं सत्य का प्रहार हूं. तू अकेला नहीं है. अब मैं भी तेरी कतराल हूं. नए भारत की कल्पना का मैं भी हकदार हूं. मैं देश के विकास में छोटा सा भागीदार हूं. मैं देश का पहरेदार हूं.

इसे भी पढ़ें – बाकी है पूरी गर्मी-झेलना होगा बिजली संकट, सिकिदिरी हाइडल प्लांट के लिए पानी ही नहीं

मैंने किया चौकीदार शब्द का इस्तेमाल, लेकिन बच्चों को कोई गलत संदेश नहीं दियाः वीसी 

पूरे मामले पर न्यूज विंग से बात करते हुए रांची युनिवर्सिटी के वीसी रमेश कुमार पांडेय ने अपने अभिभाषण को पूरा पढ़ कर सुनाया. अभिभाषण में चौकीदार शब्द का का उल्लेख था. उन्होंने चौकीदार शब्द पर कहा कि मेरा अभिभाषण किसी राजनीतिक एंगल को सोच कर नहीं लिखा गया था. मैंने बच्चों को कोई गलत संदेश नहीं दिया है. हां एक बार चौकीदार शब्द का इस्तेमाल हुआ है. वो किसी राजनीतिक चश्मे से ना देखा जाए. मैं बच्चों के उज्ज्वल भविष्य की बात की है. अगर चौकीदार कहना इतना ही गलत है, तो इस शब्द को शब्दकोष से ही हटा दिया जाए. मेरे चौकीदार शब्द के इस्तेमाल पर मत जाइए. मेरा इरादा साफ है.

इस मामले पर सीईओ निर्वाचन विभाग, झारखंड से प्रतिक्रिया लेने की कोशिश की गयी. लेकिन उनसे संपर्क नहीं हो पाया.

इसे भी पढ़ें – पाकुड़ः एक घर में रखे तीन दर्जन से अधिक बमों में विस्फोट, कोई हताहत नहीं

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: