न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सीओ को चिट्ठी लिखकर कहा- 20 लाख लेवी दो, नहीं तो हैंड ग्रेनेड से दफ्तर उड़ा देंगे

कांग्रेसी कार्यकर्ता के लेटर पैड पर माओवादी के नाम से लिखी गयी है चिट्ठी

892

Barkagaon: भाकपा माओवादी के नाम पर बड़कागांव के अंचलाधिकारी वैभव कुमार सिंह से 20 लाख रुपये लेवी की मांग गयी है. यह चिट्ठी गिरिडीह से भेजी गयी है. चिट्ठी लिखने के लिए लेटर पैड का प्रयोग किया गया है. लेटर पैड में नरेंद्र कुमार सिन्‍हा उर्फ छोटन कांग्रेसी कार्यकर्ता गिरिडीह बरमसिया लिखा गया है. उक्त धमकी भरी चिट्ठी में अंचलाधिकारी वैभव कुमार सिंह से 10 दिनों के अंदर में 20 लाख रुपए पहुंचाने को कहा गया है. अन्‍यथा हैंड ग्रेनेड बम से अंचल कार्यालय को उड़ा देने की धमकी भरी बात चिट्ठी में लिखी गयी है.

इसे भी पढ़ें- झारखंड सरकार की आधिकारिक वेबसाइट Jhargov.In में कई खामियां

एसपी व डीजीपी समेत कई लोगों के हैं चिट्ठी में नाम

चिट्ठी में इतना ही नहीं गिरिडीह के एसपी और झारखंड के डीजीपी के साथ संबंध होने की बात कही गयी है. भाकपा माओवादी के नाम पर लिखी गयी चिट्ठी में अंजन कुमार सिन्हा उर्फ मंटू, निवेदक भाकपा माओवादी संगठन झारखंड के अंजनी कुमार सिंहा (पत्रकार), नरेंद्र कुमार सिन्हा उर्फ छोटन रविंद्र वर्मा उर्फ कारू का नाम लिखा हुआ है. जिसमें बरमसिया शमशान रोड गिरिडीह का पता दिया गया है.

इसे भी पढ़ें- उर्दू भाषा के प्रति उदासीन शिक्षा विभाग, HC के आदेश के बाद भी नहीं निकला नियुक्ति का विज्ञापन 

पहले भी मिली है ऐसी धमकी भरी चिट्ठी

बताते चलें कि 2 साल पूर्व इसी प्रकार की बड़कागांव बीडीओ और अंचलाधिकारी के नाम भाकपा माओवादी के द्वारा पोस्ट ऑफिस के द्वारा चिट्ठी आयी थी. मामले को लेकर अंचलाधिकारी वैभव कुमार सिंह ने बताया कि गुरुवार को चिट्ठी आयी थी .शुक्रवार को ऑफिस में कार्य के दौरान चिट्ठी को देखा. जिसमें भाकपा माओवादी के नाम से चिट्ठी आयी है. जिस पर त्वरित कार्रवाई करने के लिए बड़कागांव पुलिस को चिट्ठी भेज दी गयी है. मामले की जानकारी जिला उपायुक्त एवं पुलिस अधीक्षक को भी दी जायेगी.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें
स्वंतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता का संकट लगातार गहराता जा रहा है. भारत के लोकतंत्र के लिए यह एक गंभीर और खतरनाक स्थिति है.इस हालात ने पत्रकारों और पाठकों के महत्व को लगातार कम किया है और कारपोरेट तथा सत्ता संस्थानों के हितों को ज्यादा मजबूत बना दिया है. मीडिया संथानों पर या तो मालिकों, किसी पार्टी या नेता या विज्ञापनदाताओं का वर्चस्व हो गया है. इस दौर में जनसरोकार के सवाल ओझल हो गए हैं और प्रायोजित या पेड या फेक न्यूज का असर गहरा गया है. कारपोरेट, विज्ञानपदाताओं और सरकारों पर बढ़ती निर्भरता के कारण मीडिया की स्वायत्त निर्णय लेने की स्वतंत्रता खत्म सी हो गयी है.न्यूजविंग इस चुनौतीपूर्ण दौर में सरोकार की पत्रकारिता पूरी स्वायत्तता के साथ कर रहा है. लेकिन इसके लिए जरूरी है कि इसमें आप सब का सक्रिय सहभाग और सहयोग हो ताकि बाजार की ताकतों के दबाव का मुकाबला किया जाए और पत्रकारिता के मूल्यों की रक्षा करते हुए जनहित के सवालों पर किसी तरह का समझौता नहीं किया जाए. हमने पिछले डेढ़ साल में बिना दबाव में आए पत्रकारिता के मूल्यों को जीवित रखा है. इसे मजबूत करने के लिए हमने तय किया है कि विज्ञापनों पर हमारी निभर्रता किसी भी हालत में 20 प्रतिशत से ज्यादा नहीं हो. इस अभियान को मजबूत करने के लिए हमें आपसे आर्थिक सहयोग की जरूरत होगी. हमें पूरा भरोसा है कि पत्रकारिता के इस प्रयोग में आप हमें खुल कर मदद करेंगे. हमें न्यूयनतम 10 रुपए और अधिकतम 5000 रुपए से आप सहयोग दें. हमारा वादा है कि हम आपके विश्वास पर खरा साबित होंगे और दबावों के इस दौर में पत्रकारिता के जनहितस्वर को बुलंद रखेंगे.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Open

Close
%d bloggers like this: