JharkhandLatehar

मंडलकारा लातेहार में राइटर और प्रभारी जमादार ने बंदी अकरम से की मारपीट

Manoj Dutt Dev

Latehar : बीते शाम मंगलवार को मंडल कारा लातेहार में हाजत बंदी मोहम्‍मद अकरम  के साथ मारपीट की घटना सामने आयी है. पीड़ि‍त बंदी ने जेल के ही राइटर अरविंद सिंह और प्रभारी जमादार सोमरा भगत पर मारपीट का आरोप लगाया है.

बंदी ने बताया कि उसे तब तक मारा गया जब तक वह बेहोश नहीं हो गया. मारपीट के बाद मोहम्‍मद अकरम को जेल के अस्‍पताल में भर्ती करा दिया गया. सूत्रों की माने तो अभी भी बंदी अकरम की हालत गंभीर बनी हुई है.

इसे भी पढ़ें – मई में सेवामुक्त हो रहे हैं डीजीपी डीके पांडेय लेकिन नक्सल मुक्त झारखंड बनाने का उनका दावा हो गया…

 कौन है राइटर अरविंद और प्रभारी जमादार सोमरा भगत

राइटर अरविंद सिंह एक विचाराधीन कैदी है, लेकिन वह जेल का राइडर बना हुआ है. वहीं प्रभारी जमादार सोमरा भगत पूर्व सैनिक है. आपको बता दें कि मंडल कारा लातेहार में गृह विभाग ने जमादार पर सीधी पोस्टिंग राधेश्‍याम सिंह को किया था लेकिन जेल प्रशासन ने मनमानी करते हुए उसे पद से हटाकर जेल सिपाही सोमरा भगत को जमादार बना दिया.

इसे भी पढ़ें – 4.50 करोड़ का विश्वा भवन, 22 कमरे, 27 लाख का सालाना मेंटेनेंस और बुकिंग मात्र 45-60 दिन ही

हाजत बंदी ही नहीं, किसी भी बंदी के साथ मारपीट नहीं कर सकते : अधिवक्ता

मामले पर जब न्‍यूज विंग ने जिला के डीसी राजीब कुमार और एसपी प्रशांत आनंद को फोन किया तो उन्‍होंने फोन नहीं उठाया. इसके बाद लातेहार सिविल कोर्ट के अधिवक्‍ता सुनील कुमार से पक्ष जानना चाहा. अधिवक्‍ता ने बताया कि जेल में बंद किसी भी बंदी के साथ मारपीट नहीं की जा सकती है. सजा देने का काम न्‍यायालय का है. आरोपी पर कार्रवाई की जानी चाहिए.

इसे भी पढ़ें – PHD छात्रों के भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रहा रांची यूनिवर्सिटी, फिर से टाली प्रवेश परीक्षा की तारीख

कौन है बंदी मोहम्‍मद अकरम

हाजत बंदी मोहम्‍मद अकरम को चंदवा थाना पुलिस ने मंगलवार को गिफ्तार कर लातेहार न्यायालय के सौंपा गया था. जिसके बाद उसे कोर्ट हाजत में रखा गया और शाम को लातेहार मंडल कारा लातेहार में भेजा गया था. मोहम्‍मद अकरम चतरा जिला का रहने वाला है. चंदवा थाना पुलिस ने अकरम को 32/19 धारा 376 एवं 386 के तहत चंदवा बाज़ार से गिरफ्तार किया था.

इसे भी पढ़ें – राम की भक्ति में डूबा पलामू, दूसरी मंगलवारी पर निकली शोभायात्रा, ‘जयश्रीराम’ के उद्घोष से गूंजा…

अब सवाल अकरम को बेहरहमी से क्यों मारा गया

चंदवा थाना प्रभारी मोहन पांडेय ने बताया कि मंगलवार को अकरम को आसानी से गिरफ्तार किया गया था. वहीं उसके साथ चदवा थाना का कोई स्टाफ ने उसे छुआ तक नहीं है. मंगलवार को ही उसका मेडिकल करा कर उसे न्यायालय के सुपूर्द किया था. कोर्ट में पूछा भी जाता है क्या मारपीट हुई है.

यदि अभियुक हां बोलता है तो संबंधित पुलिस पदाधिकारी पर कार्यवाही होती है, यदि ना बोलता है तो उसे जेल भेज दिया जाता. पुलिस पर यदि आरोप लगाता तो यह गलत है. जेल प्रशासन मामले की जांच करे.

इसे भी पढ़ें – झारखंड कांग्रेस : रांची से सुबोधकांत, सिंहभूम से गीता कोड़ा और लोहरदगा से सुखदेव भगत लड़ेंगे चुनाव

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: