Court NewsJharkhandRanchi

JSSC में क्षेत्रीय एवं जनजातीय भाषाओं की श्रेणी से हिंदी-अंग्रेजी को बाहर करने के खिलाफ हाइकोर्ट में रिट याचिका दायर

Ranchi: झारखंड कर्मचारी चयन आयोग परीक्षा (जेएसएससी) की नियमवाली में संशोधन कर क्षेत्रीय एवं जनजातीय भाषाओं की श्रेणी से हिंदी और अंग्रेजी को बाहर करने के खिलाफ आज झारखंड हाईकोर्ट में रिट याचिका दायर की गई है. प्रार्थी रमेश हांसदा व अन्य लोगों की ओर से अधिवक्ता अपराजिता भारद्वाज और कुमारी सुगंधा ने झारखंड हाईकोर्ट में रिट याचिका दाखिल कर नयी नियमावली को रद्द करने की मांग की गयी है.

इसे भी पढ़ें : संताल विश्वविद्यालय घाटशिला के भवन निर्माण को लेकर सूर्य सिंह बेसरा केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा से मिले, मदद की मांग

याचिका में कहा गया है कि उर्दू को जनजातीय भाषा की श्रेणी में राजनीतिक मंशा के कारण रखा गया है. झारखण्ड के ज्यादातर सरकारी स्कूलों में पढ़ाई का माध्यम हिंदी है जबकि उर्दू की पढ़ाई एक खास वर्ग के लोग मदरसे में करते हैं. ऐसे में किसी खास वर्ग को सरकारी नौकरी में अधिक अवसर देना और हिंदी भाषी अभ्यर्थियों के मौके में कटौती करना संविधान की भावना के मुताबिक सही नहीं है. इसलिए राज्य सरकार द्वारा लागू की गई नई नियमवाली को निरस्त किया जाना चाहिए.

advt

इसे भी पढ़ें : डेंटिस्ट को दिखाने निकला कांड्रा के कपड़ा व्यापारी का पुत्र लापता, पुलिस तलाश में जुटी

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: