JharkhandRanchi

विश्व आदिवासी दिवस अपने अधिकार लेने और प्रकृति बचाने का देता है संदेश : सुदेश महतो

Ranchi: विश्व आदिवासी दिवस के अवसर पर आजसू पार्टी ने झारखंड के वीर शहीदों को नमन किया. इस अवसर पर केंद्रीय अध्यक्ष सुदेश कुमार महतो ने झारखंड के आदिवासी समुदाय को बधाई दी. उन्होंने कहा कि  आदिवासियों को अपने हक, अधिकार, सम्मान लेने तथा प्रकृति, अस्मिता से और करीब लाने का संदेश लेकर आया यह दिवस झारखंड के लिए बेहद महत्वपूर्ण है.

उन्होंने झारखंड में आदिवासियों की अद्भुत संस्कृति, समृद्ध भाषा, जीवन दर्शन और संघर्ष का इतिहास इस दिवस के तानाबना को और मजबूत करने पर बल दिया. महतो ने कहा कि हम सभी सौभाग्यशाली है जो उलगुलान के महानायक बिरसा मुंडा, हूल विद्रोह के क्रांतिकारी योद्धा सिदो-कान्हू, चांद-भैरव झारखंड की धरती में जन्म लिये. महान व्यक्तित्व जयपाल सिंह मुंडा ने संविधान में आदिवासियों को अधिकार दिलाने का संघर्ष किया. शिक्षा, संस्कृति, राजनीति, आंदोलन और सृजन के रचनाधर्मी पद्मश्री डॉ रामदयाल मुंडा की महान छवि और अमूल्य योगदान भी हमारे सामने है.

जाहिर है आज का दिन हमें अपनी धरती के उन तमाम शख्सियतों और अलग- अलग आंदोलनों के कर्मठ लड़ाके को याद करने के साथ धरती के इस संघर्षशील और जल, जंगल, जमीन से बेइंतिहा प्यार करने वाले समुदाय को उत्साहित करने के साथ आनेवाली पीढ़ी को और सशक्त बनाने के लिए प्रेरित करता है.

advt

इसे भी पढ़ें – जमीन दिलाने के नाम पर पुलिसकर्मी सहित कई लोगों से करोड़ों की ठगी करने का आरोपी गिरफ्तार

आदिवासी विकास विरोधी नहीं, अपने विनाश के विरोधी हैं: देवशरण भगत

विश्व आदिवासी दिवस के अवसर पर आजसू पार्टी के केंद्रीय प्रवक्ता देवशरण भगत ने ऑनलाइन माध्यम से जनता को संबोधित किया. सभी को विश्व आदिवासी दिवस की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि हमें इस दिवस के महत्व को समझना चाहिए. यह दिवस मूल्यांकन करने का है, चिंतन एवं मनन करने का है कि आज आदिवासी समाज की स्थिति राज्य तथा देश में क्या है.

आज का आदिवासी समाज के मूल समस्याओं तथा उन समस्याओं का निदान कर, इस समाज के उत्थान के लिए निरंतर कार्यरत रहने का प्रण लेने का दिन है. जल, जंगल, जमीन आदिवासियों के जीवन का आधार हैं. प्रकृति ही इनके देवी, देवता हैं तथा इसका संरक्षण करना ही इनका धर्म है.

झारखण्ड के उलगुलान और उनके नायकों के विचारों को समझना होगा और उनके विचारों के अनुरूप ही इस राज्य को ढालना होगा, तभी हम भगवान बिरसा मुंडा तथा अन्य शहीदों के सपनों के अनुरूप नये झारखण्ड का निर्माण कर सकेंगे.

adv

इसे भी पढ़ें –9 अगस्त को 512 नये कोरोना संक्रमित मिले, 9 की मौत, झारखंड में हुए 18084 केस

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button