ChaibasaJamshedpurJharkhand

World Tribal Day: झारखंड बनने के बाद सबसे ज्यादा मुख्यमंत्री आदिवासी बने लेकिन विकास और हक नहीं ले पाने का दोषी खुद आदिवासी: जसाई मार्डी

Jamshedpur: विश्व आदिवासी  दिवस के अवसर पर जमशेदपुर के बिष्‍टुपुर स्थि‍त गोपाल मैदान में आदिवासी छात्र एकता केंद्रीय कमेटी की ओर से एक समारोह का आयोजन किया गया जिसमें मुख्य अतिथि आदिवासी छात्र एकता के मुख्य संरक्षक जसाईं मार्डी सहित काफी संख्या में कार्यकर्ता और आदिवासी समुदाय के महिला- पुरुष एवं बच्चे शामिल हुए. इस मौके पर महिलाओं ने पारंपरिक नृत्य पाटा डांस कर अपनी परंपरा का निर्वाह किया. इस मौके पर मुख्य संरक्षक जोसाई मार्डी ने कहा क‍ि झारखंड के गठन के बाद सबसे ज्यादा मुख्यमंत्री आदिवासी समाज के ही रहे लेकिन आदिवासियों का विकास नहीं होने का दोषी सिर्फ नेता और मुख्यमंत्री ही नहीं बल्कि आदिवासी समाज खुद है. वे इसके लिए सजग नहीं हैं. छात्र एकता यह जागरूकता फैला रहा है कि वे किसी भी समुदाय के वैसे नेता को चुने जो राज्य और आदिवासी के विकास के लिए कार्य कर सकें. उन्होंने कहा कि 2021 में आदिवासी जनगणना होनी थी लेकिन कोरोना काल की वजह से इसे स्थगित किया गया है. वे केंद्र सरकार से मांग करते हैं कि 2023 में जनगणना के साथ सरना कोड को लागू करे.

ये भी पढ़ें- Congress Gaurav Yatra : आजादी की 75 वीं वर्षगांठ पर कांग्रेस‍ियों ने न‍िकाली गौरव यात्रा

Related Articles

Back to top button