न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

दुनिया पर आर्थिक मंदी का खतरा, पर भारत 7.5 फीसदी की गति से विकास करेगा : वर्ल्ड बैंक

वर्ल्ड बैंक ने कहा है कि भारत 7.5 फीसदी की गति से विकास करेगा. 2019 में दोबारा सत्ता में लौटी मोदी सरकार को  वर्ल्ड बैंक से अच्छी खबर दी है.

83

NewDelhi : वर्ल्ड बैंक ने कहा है कि भारत 7.5 फीसदी की गति से विकास करेगा. 2019 में दोबारा सत्ता में लौटी मोदी सरकार को  वर्ल्ड बैंक से अच्छी खबर दी है.  वर्ल्ड बैंक के अनुसार आने वाले सालों में ग्लोबल ग्रोथ रेट में कमी आयेगी, लेकिन भारत की रफ्तार अच्छी रहेगी.  वर्ल्ड बैंक का अनुमान है कि निवेश और निजी उपभोग में वृद्धि की बदौलत भारत 7.5 फीसदी की गति से विकास करेगा.  मंगलवार को जारी रिपोर्ट में कहा गया है कि चीन की रफ्तार अगले तीन सालों में लगातार कम होती चली जायेगी.  वर्ल्ड बैंक ने कहा है कि भारतीय अर्थव्यवस्था दुनिया में सबसे तेज गति से बढ़ती रहेगी.

इसे भी पढ़ेंःचुनावी बॉन्ड : EC को BJP, कांग्रेस सहित अन्य दलों ने अब तक नहीं दिया चंदे का ब्यौरा

वैश्विक अर्थव्यवस्था की  रफ्तार 2.6 फीसदी तक सिमट सकती है

Related Posts

अमेरिकी उद्योग जगत ने भारत में # CompanyTax घटाने की सराहना की

अमेरिकी उद्योग जगत का कहना है कि यह आर्थिक नरमी को पलट देगा और वैश्विक कंपनियों को भारत में विनिर्माण का केंद्र शुरू करने में मदद करेगा.

कहा कि भारत 2021 तक चीन की तुलना में 1.5 फीसदी अधिक रफ्तार से बढ़ रहा होगा. 2018 में चीन की रफ्तार 6.6 फीसदी रही, जो 2019 में 6.2 फीसदी रह जायेगी. 2020 में 6.1 फीसदी और 2021 में इसकी गति 6 फीसदी तक सिमट जायेगी. रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि भारत वित्त वर्ष 2019-20 में भारत की विकास दर 7.5 फीसदी रह सकती है और अगले 2 वित्त वर्ष तक रफ्तार इतनी बनी रहेगी.

रिपोर्ट में कहा गया है, महंगाई दर रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के लक्ष्य से नीचे रहने और उदार मौद्रिक नीति के बीच निजी उपभोग और निवेश से क्रेडिट ग्रोथ को मजबूती मिलेगी. वर्ल्ड बैंक की रिपोर्ट में भले ही भारत के लिए अच्छी तस्वीर पेश की गयी हो, लेकिन दुनिया पर आर्थिक मंदी का खतरा बताया गया है.  दुनिया की बड़ी अर्थव्यवस्थाओं के बीच बढ़ते ड्रेड वॉर से वैश्विक विकास दर में कमी आ सकती है.  वैश्विक अर्थव्यवस्था 2018 में 3 फीसदी की गति से बढ़ी थी, जबकि इस साल रफ्तार 2.6 फीसदी तक सिमट सकती है, यह जनवरी में लगाये गये अनुमान से कम है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्या आपको लगता है हम स्वतंत्र और निष्पक्ष पत्रकारिता कर रहे हैं. अगर हां, तो इसे बचाने के लिए हमें आर्थिक मदद करें.
आप अखबारों को हर दिन 5 रूपये देते हैं. टीवी न्यूज के पैसे देते हैं. हमें हर दिन 1 रूपये और महीने में 30 रूपये देकर हमारी मदद करें.
मदद करने के लिए यहां क्लिक करें.-

you're currently offline

%d bloggers like this: