JharkhandLead NewsRanchiTOP SLIDER

एचईसी में दूसरे दिन भी काम ठप, प्रबंधन की अपील- काम पर लौटें कर्मचारी नहीं तो नो वर्क नो पे

दो दिनों की हड़ताल से कंपनी को लगभग एक करोड़ का नुकसान

Ad
advt

Ranchi : आर्थिक संकट के दौर से गुजर रहे एचईसी के तीनों प्लांटों में शुक्रवार को भी काम बंद रहा. कर्मचारियों ने गुरुवार से ही वेतन भुगतान की मांग को लेकर हड़ताल कर रखी है. इस वजह से तीनों प्लांट में उत्पादन ठप रहा. दो दिनों से उत्पादन नहीं होने के कारण कंपनी को लगभग एक करोड़ का घाटा हुआ है. हड़ताल को देखते हुए निगम प्रबंधन ने शुक्रवार को एक उच्चस्तरीय बैठक की और कर्मियों के लिए एक अपील पत्र जारी किया है. निगम के डायरेक्टर मार्केटिंग राणा एस चक्रवर्ती, डायरेक्टर पर्सनल एमके सक्सेना और डायरेक्टर फाइनांस अरुंधति पांडा ने संयुक्त रूप से अपील की है.

पत्र में कहा गया है कि निगम कर्मी काम पर वापस लौटें. कर्मी काम पर वापस नहीं लौटेंगे, कार्यशालाओं में काम शुरू नहीं करेंगे, तो नो वर्क नो पे लागू होगा.

advt

इसे भी पढ़ें:BIG NEWS : दिल्ली पहुंचा कोरोना का खतरनाक वेरिएंट ‘ओमिक्रॉन’! LNJP अस्पताल में 12 संदिग्ध मरीज भर्ती

पत्र में कहा गया है कि कंपनी कठिन परिस्थितियों के दौर से गुजर रही है. ऐसे समय में सभी कर्मचारियों, ठेका कर्मियों को एकजुट होकर पूरे अनुशासन के साथ अपने-अपने कार्यों में पूर्ण रूप से समर्पित होना होगा.

advt

ऐसे मौके पर हमारे द्वारा ऐसे कोई भी कार्य नहीं किया जाना चाहिए, जिससे कंपनी को किसी भी प्रकार का नुकसान पहुंचे.

हमें यह याद रखना होगा कि उत्पादन एवं ग्राहकों तक निर्धारित समय पर माल पहुंचने से ही राजस्व प्राप्त होता है. इसी से उत्पादन प्रक्रिया के साथ-साथ कर्मचारियों की सभी आवश्यकताओं की पूर्ति हो पाती है.

इसे भी पढ़ें:पटना हाइकोर्ट के दारोगा बहाली के स्टे के बाद अभ्यार्थियों ने पुलिस मुख्यालय को घेरा

अत: इस बारे में हमें पूरा ध्यान देना होगा एवं किसी भी प्रकार की भ्रामक बातों में न आते हुए अपनी-अपनी जिम्मेदारियों को निभाते हुए कर्मशालाओं एवं प्लांटों के लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए पूर्ण रूप से मेहनत करनी होगी. प्रबंधन ने अपील पत्र में बताया है कि इस वित्तीय वर्ष 2021-22 में हमारा उत्पादन अत्यंत ही कम है.

कंपनी का नुकसान बढ़ता ही जा रहा है. ऐसी परिस्थिति में उत्पादन बंद करके हम सभी अपनी कंपनी को और क्षति पहुंचा रहे हैं. जो कि किसी हालत में उचित नहीं है.

इसे भी पढ़ें:एक करोड़ से अधिक की परिसंपत्तियों का वितरण, सात करोड़ की योजनाओं का शिलान्यास व उद्घाटन

पत्र में नहीं है वेतन भुगतान का जिक्र

एचईसी के कर्मचारियों ने बकाया वेतन भुगतान के लिए टूड डाउन स्ट्राइक शुरू किया है. स्थाई कर्मचारियों का छह माह और अफसरों का सात माह से वेतन बकाया है. कर्मचारियों का कहना है प्रबंधन कर्मचारियों की समस्या को लेकर गंभीर नहीं है. बिना वेतन कर्मचारी काम कर रहे थे, मगर बिना पैसे के परिवार चलाना मुश्किल हो गया है.

ऐसे में जबतक प्रबंधन वेतन भुगतान के लेकर कोई ठोस निर्णय नहीं लेता है, तबतक कर्मचारियों का टूल डाउन स्ट्राइक जारी रहेगा. कर्मचारियों का कहना है कि प्रबंधन के अपील पत्र में वेतन भुगतान को लेकर कोई चर्चा नहीं है.

प्रबंधन नो वर्क नो पे सिद्धांत लगा कर कर्मचारियों को डराने का प्रयास कर रहा है. कर्मचारियों का कहना है कि जब तक उन्हें प्रबंधन की ओर से ठोस आश्वासन नहीं मिलेगा, तब तक वे काम बंद रखेंगे.

इसे भी पढ़ें:कफन बांटती है और खून बेचती है राज्य सरकार : बाबूलाल मरांडी

प्लांट हेड का भी किया था घेराव

एचएमबीपी के कामगारों ने वेतन की मांग को लेकर प्लांट हेड का घेराव किया था. तब प्रबंधन ने आश्वासन दिया था कि वेतन का भुगतान जल्द होगा. लेकिन 1 दिसंबर को भी जब वेतन नहीं मिला तो वे हड़ताल पर उतर आये.

इसे भी पढ़ें:जनप्रतिनिधि भी नहीं लगा सकेंगे गाड़ी में नेम प्लेट और बोर्ड, हाईकोर्ट में हुई सुनवाई

advt
Adv

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: