न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

वीमेन पावर : महिलाओं की शारीरिक क्षमता पुरुषों से कम नहीं, रिसर्च से आया सामने

महिलाएं भी पुरुषों के बराबर मजबूत होती हैं और उनका शरीर भी उन प्रतिकूल परिस्थितियों का मुकाबला कर सकता है, जिनका सामना पुरुष कर सकते हैं.

20

NwDesk : महिलाएं भी पुरुषों के बराबर मजबूत होती हैं और उनका शरीर भी उन प्रतिकूल परिस्थितियों का मुकाबला कर सकता है, जिनका सामना पुरुष कर सकते हैं. यह एक रिसर्च से प्रमाणित हुआ है. हालांकि हम सदियों से मानते आये हैं कि महिलाएं शारीरिक रूप से पुरुषों से कमजोर होती हैं. स्टडी करने वाले डॉ रॉबर्ट ग्लिफर्ड का कहना है कि इस रिसर्च के परिणामों से कई मिथक टूट रहे हैं.  इससे उन स्थितियों का सामना करने में सहायता मिलेगी जहां लगता है कि किसी कार्य को करने में महिलाएं शारीरिक रूप से कमजोर हैं. बता दें कि अन्टार्टिक पहुंची महिलाओं की एक टीम पर की गयी स्टडी में पता चला कि उनके शरीर ने भी कठिन परिस्थितियों का सामना वैसे ही किया जैसै एक पुरुष का शरीर करता है.  जानकारी के अनुसार यह रिसर्च ग्लासगो में सोसायटी ऑफ एंडोक्राइनॉलजी के वार्षिक सम्मेलन में रखा गया. रिसर्च के अनुसार अगर महिलाओं को प्रशिक्षित किया जाये तो विकट परिस्थितियों में उनका शरीर भी उतना ही सक्षम होता है जितना एक पुरुष का. बताया गया है बता दें कि   स्टडी के तहत छह अमेरिकी महिला सैनिकों ने जनवरी में अन्टार्टिक की यात्रा की. इन महिलाओं ने यह यात्रा 62 दिन में पूरी की.

80 किलो सामान के साथ तेज हवाओं और कम तापमान में 1056 मील की ट्रेकिंग की

टीम की ताकत का अंदाजा आप इस बात से लगता सकते हैं कि इस दौरान उन्होंने 80 किलो सामान के साथ तेज हवाओं और कम तापमान में 1056 मील की ट्रेकिंग की. यात्रा शुरु होने से पहले टीम की हर महिला को कड़ी ट्रेनिंग दी गयी.  यात्रा शुरू होने के पहले व बाद में डॉक्टरों ने उनके स्वास्थ्य का परीक्षण किया.  यात्रा खत्म होने के बाद जब उनका परिक्षण किया तो पाया गया कि महिलाओं का स्त्री स्वास्थ्य और हड्डियां पहले की तरह ही थीं.  यानी कि महिलाओं को शरीर ने यात्रा के दौरान प्रतिकूल परिस्थिति पर वैसी ही प्रतिक्रिया दी जैसी कि एक पुरुष का शरीर देता. इस यात्रा में शामिल मेजर टेलर ने बताया कि मानसिक रूप से उन लोगों ने काफी अच्छे ढंग से प्रतिकूल परिस्थितियों का सामना किया. उनकी हड्डियां भी मजबूत थीं.  हारमोन का लेवल थोड़ा कम हुआ था लेकिन कुछ ही दिनों में वह सामान्य हो गया.  कहा कि इस दौरान उन्होंने और उनकी साथियों ने फैट कम किया लेकिन उनकी मांस-पेशियां मजबूत बनी रहीं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: