न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मिट्टी को आकार देकर अपना भविष्य संवार रही हैं बुंडू की महिलाएं

19

Chhaya

Ranchi : इंसान अपने हुनर से अपना भविष्य संवार सकता है. कुछ ऐसा ही कर रही हैं बुंडू की महिलाएं, जो मिट्टी से घर की साज-सज्जा के सामान के साथ गहनें बनाती हैं. मिट्टी को अलग-अलग आकृति दे ये घरों उपयोग किये जानेवाले सामान भी बनाती हैं. जेसोवा की ओर से आयोजित दिवाली मेला में इन महिलाओं ने अपने बनाये उत्पादों का स्टॉल लगाया है. इनके मिट्टी के बने गहनों को देखकर आपको एकाएक जरूर यह लगेगा कि ये मिट्टी और हाथ से नहीं, बल्कि मेटल और मशीन से बना होगा, लेकिन ऐसा नहीं है. ये महिलाएं मिट्टी से अपने हाथों से गहने और साज-सज्जा के सामान बनाती हैं.

इसे भी पढ़ें- झारखंड सरकार की आधिकारिक वेबसाइट Jhargov.In में कई खामियां

महिलाओं को दिया गया है प्रशिक्षण

मिट्टी से कलाकारी करनेवाली ये महिलाएं आधार महिला शिल्प उद्योग नामक संस्था से जुड़ी हैं. इसकी स्थापना 2003 में रेशमा दत्ता ने की थी. शुरू में इस संस्था से मात्र तीन महिलाएं जुड़ी थीं, जिन्हें रेशमा ने मिट्टी से गहने समेत अन्य चीजें बनाने का प्रशिक्षण दिया. अब इनके संस्थान से 60 महिलाएं जुड़ी हुई हैं, जिन्हें ये मिट्टी की कलाकारी सिखा रही हैं.

लगता है तीन माह का समय

महिलाओं ने बताया कि इन्हें मिट्टी के सामान बनाने की कला सीखने में कम से कम तीन माह का समय लगता है. मिट्टी को आकार देना और फिर पकाना काफी मुश्किल होता है. इस काम को सीखने में कई बार अधिक समय भी लगता है. प्रशिक्षण पूरा होने के बाद ही महिलाएं दक्ष होती हैं और बाजार के लिए सामान बनाती हैं.

इसे भी पढ़ें-  ऐसी है झारखंड की विकास गाथा : केंद्र ने 14वें वित्त आयोग के पहले किस्त के 6.4 अरब दिये, राज्य ने…

किया जाता है बारीक काम

palamu_12

इन मिट्टी के गहनों में हाथ से बारीक कारीगरी की जाती है. मिट्टी को आकृति देकर पकाने के बाद ही इनमें डिजाइन उकेरे जाते हैं. साथ ही रंग भराई का काम भी आखिरी में किया जाता है, ताकि मिट्टी में दरारें न आयें. चंदा खातून नामक महिला ने बताया कि इन गहनों में एक्रिलिक रंगों का प्रयोग किया जाता है, साथ ही रंग भराई के दौरान इसमें काफी सावधानी बरती जाती है.

इसे भी पढ़ें- उर्दू भाषा के प्रति उदासीन शिक्षा विभाग, HC के आदेश के बाद भी नहीं निकला नियुक्ति का विज्ञापन 

हो जाती है अच्छी कमाई

इन महिलाओं ने बताया कि मिट्टी के सामान को बेचने से इनकी अच्छी-खासी कमाई हो जाती है. अब ये किसी पर निर्भर नहीं हैं. साथ ही ये अपने परिवार का भरण-पोषण भी कर रही हैं.

दूसरे राज्यों में भेजती हैं

इनके बने मिट्टी के गहने, झूमर, मिट्टी की बोतल, कप, मास्क, गणेश-लक्ष्मी की मूर्ति समेत अन्य सजावटी सामान को ये राज्य के अलग-अलग हिस्सों के साथ ही दिल्ली, कोलकाता, चेन्नई जैसे स्थानों में भी बेचती हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: