न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बीएयू में महिलाओं ने सीखी फलों और सब्जियों के मूल्यसंवर्धन की व्यावहारिक तकनीक

17

Ranchi : महिला सशक्तीकरण और ग्रामीण विकास के लिए विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग के कौशल विकास कार्यक्रम के तहत बिरसा कृषि विश्वविद्यालय (बीएयू) में आयोजित ‘फलों एवं सब्जियों का मूल्यसंवर्धन’ विषयक तीन दिवसीय प्रशिक्षण गुरुवार को समाप्त हुआ. इस प्रशिक्षण में गृह विज्ञान विभाग की अध्यक्ष डॉ रेखा सिन्हा तथा तकनीकी एक्सपर्ट बिंदु शर्मा एवं नीलिका चंद्रा ने महिलाओं को आंवला कैंडी एवं मुरब्बा, मिश्रित जैम, फल जेली, आंवला शरबत, आंवला की चटनी, लाल मिर्च अचार, मशरूम अचार, टमाटर सॉस, टमाटर अचार, महुआ अचार, महुआ लड्डू एवं बथुआ बड़ी आदि उत्पादों के मूल्यवर्धन की व्यावहारिक तकनीकों की जानकारी दी.

प्रतिभागियों को मिला प्रमाणपत्र

समापन समारोह के अवसर पर निदेशक प्रसार शिक्षा डॉ जगन्नाथ उरांव ने महिला प्रतिभागियों को प्रमाणपत्र और प्रशिक्षण सामग्री प्रदान की. उन्होंने फल एवं सब्जी प्रसंस्करण तथा मूल्यसंवर्धन को ग्रामीण स्तर का लाभदायक व्यवसाय और महिलाओं के जीवन स्तर को बढ़ाने का बेहतर साधन बताया. उन्होंने कहा कि प्रसंस्करण तथा मूल्यसंवर्धन के प्रचलित उत्पादों के अधीन राज्य की परंपरागत फसलों में तीसी व मड़ुआ तथा क्षमतावान व गौण फसलों में रामदाना, राजमूंग, पंखिया सेम, कुल्थी एवं बथुआ को भी बढ़ावा देने पर जोर दिया जाना चाहिए. तीन दिनों तक चले प्रशिक्षण शिविर में नगड़ी, एकम्बा, पिस्का नगड़ी एवं नामकुम की महिला समितियों की 200 महिलाओं ने भाग लिया.

इसे भी पढ़ें- कठौतिया कोल ब्लॉक की जमीन खरीद की हेराफेरी में फंसे तत्कालीन अनुमंडल पदाधिकारी सुधीर कुमार

इसे भी पढ़ें- नहीं हो पा रहा ILO 189 के निर्देशों का पालन, घरेलू कामगारों के लिए बनाना था कानून

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: