Lead NewsNationalOFFBEAT

फेसबुक की लत छुड़ाने के लिए थप्पड़ जड़ने के लिए नौकरी पर रखा महिला को, एलन मस्क को पसंद आया नुस्खा, देखें VIDEO

थप्पड़ जड़ने की एवज में करीब 600 रुपये प्रति घंटे मिलते हैं कारा को

advt

New Delhi : अगर आप सोशल मीडिया पर एक्टिव हैं और दिन भर में कई घंटे फेसबुक आदि सोशल साइटस पर गुजारते हैं तो ये नुस्खा आपके काम आ सकता है. दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति टेस्ला के मालिक एलन मस्क को तो ये मजेदार नुस्खा पसंद आया है उन्होंने इसे शेयर किया है. इसके बाद से इसका वीडियो सोशल मीडिया पर ट्रेंड कर रहा है.

ये नुस्खा है कि जब भी फेसबुक आप फेसबुक ओपन करें, कोई आपको थप्पड़ मार दे. सोचिए आपको कैसा लगेगा. हालांकि फेसबुक से अपनी लत को छुड़ाने के लिए एक शख्स ने ऐसा किया है. ये शख्स मनीष सेठी है जो एक भारतीय-अमेरिकी उद्यमी हैं. उनकी कंपनी पावलोक जिम, मेडिटेशन से जुड़े डिवाइस बनाती है.

advt

इसे भी पढ़ें:ICC T-20 World Cup : आस्ट्रेलिया से हार पर बिफरे पाकिस्तानी, वेड का कैच छोड़ने वाले हसन अली के शिया होने और भारतीय पत्नी को लेकर की अभद्र टिप्पणियां

क्या है पूरा मामला

मनीष ने अपनी फेसबुक की लत को छुड़ाने के लिए एक महिला को नौकरी पर रखा है. इस महिला का नाम कारा है. मनीष जब भी फेसबुक को खोलने की कोशिश करते हैं, कारा उन्हें जोरदार थप्पड़ जड़ देती है.

advt

इस काम के लिए कारा को 8 डॉलर (करीब 600 रुपए) प्रति घंटे मिलते हैं. फेसबुक की लत छुड़ाने वाली इस अजीबो-गरीब नौकरी पर एलन मस्क ने रिएक्शन दिया है.

इसे भी पढ़ें:आपके अधिकार-आपकी सरकार आपके द्वार” कार्यक्रम की तैयारी की समीक्षा, डीसी ने अधिकारियों को दिये कई निर्देश

मस्क के रिएक्शन के बाद वायरल हुई खबर

जब दुनिया के सबसे अमीर शख्स एलन मस्क ने इस वायरल खबर पर रिएक्शन दिया, तो यह सबके सामने आ गई. मस्क ने इस घटना को शेयर करते हुए फायर की इमोजी बनाई.

जैसे ही मस्क ने इसे शेयर किया तो मनीष सेठी इस पर रिप्लाई भी किया. उन्होंने लिखा कि इस तस्वीर में लड़का मैं ही हूं. एलन मस्क के शेयर करने के बाद शायद मेरी रीच अब ज्यादा हो जाएगी.

इसे भी पढ़ें:नक्सली कुंदन पाहन की जमानत याचिका पर एनआइए की विशेष अदालत में हुई सुनवाई

थप्पड़ वाले प्रयोग से काम की क्षमता बढ़ी

मनीष 9 साल से फेसबुक की लत को छुड़ाने के लिए थप्पड़ वाला प्रयोग कर रहे हैं. उन्होंने कारा को 2012 से नौकरी पर रखा है. सेठी ने 2012 के विज्ञापन में लिखा था, “जब मैं समय बर्बाद कर रहा हूं, तो आपको मुझ पर चिल्लाना होगा या जरूरत पड़ने पर मुझे थप्पड़ मारना होगा.”

मनीष ने ये भी बताया कि कारा के थप्पड़ मारने से उनके काम करने की क्षमता भी बढ़ी है. पहले ज्यादातर दिनों में उनकी काम करने की औसतन क्षमता लगभग 35-40% थी. जब कारा उनके पास बैठीं तो काम की क्षमता बढ़कर 98% हो गई.

इसे भी पढ़ें:पोस्ट कोविड के मरीज रहें अलर्ट, ठंड बढ़ा रही है परेशानी 

advt

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: