Crime NewsDhanbad

धनबाद में संपति हड़पने की नीयत से बड़े भाई ने कराई छोटे भाई की हत्या, व्यवसायी ज्योति रंजन हत्याकांड का हुआ खुलासा

Dhanbad : धनबाद के राजगंज थाना क्षेत्र स्थित खरनी सनशाइन सिटी के पास गुरुवार की देर शाम हुए व्यवसायी ज्योति रंजन हत्या कांड की गुत्थी पुलिस ने सुलझा ली हैं. पुलिस ने इस हत्या मामले में ज्‍योति रंजन के बड़े भाई सौरभ शर्मा समेत एक अन्‍य आरोपित को गिरफ्तार किया है. पुलिस की माने तो ज्योति रंजन को उसके अपने सगे भाई सौरव कुमार ने ही अपने एक साथी श्रीकांत मिश्रा की मदद से मौत के घाट उतार दिया. फैक्ट्री, जमीन और मकान पे एकक्षत्र राज करने के लिए सौरव ने यह षडयंत्र रचा था.

इसे भी पढ़ें: धनबाद नगर निगम क्षेत्र के नदी, तालाब व अन्य जल स्रोतों में मूर्ति विसर्जन करना वर्जित

धनबाद SSP संजीव कुमार के अनुसार साजिश रचकर बड़े भाई ने छोटे भाई ज्योति रंजन को मारने के लिए अपने दोस्त को हत्या की सुपारी दी थी. एसएसपी ने बताया कि सौरव के दोस्त श्रीकांत मिश्रा ने आरा से शूटर मंगवाया था. तीन की संख्या में आए अपराधियों ने घटना को अंजाम दिया था.शनिवार को एसएसपी संजीव कुमार ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर मामले जानकारी देते हुए कहा कि इस हत्याकांड के मुख्य षडयंत्रकर्ता के रूप में ज्योति के छोटे भाई सौरव कुमार व सेटर तेतुलमारी निवासी श्रीकांत मिश्रा को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. आरोपितों की गिरफ्तारी शुक्रवार को ही मृतक ज्योति रंजन के अंतिम संस्कार के दौरान ही लिलोरी स्थान स्थित श्मशान घाट से कर ली गई.

एसएसपी ने बताया ज्योति रंजन, गौरव और श्रीकांत के काॅल डिटेल टॉवर लोकेशन से पुलिस को कई अहम सुराग मिले थे. श्रीकांत ने ही घटनास्थल की रेकी करवाई थी. घटना को अंजाम देने के बाद रास्ते में चेकिंग के डर से हथियार को वही छुपाकर अपराधी भाग निकले थे.धनबाद एसएसपी ने कहा कि बहुत गहराई से अनुसंधान की गई तो कई तथ्य सामने आए. पुलिस को मर्डर के बाद से ही इन दोनों पर शक था. पुलिस को जांच के दौरान कई सुराग हाथ लगे थे. पुलिस ने जांच के क्रम में मृतक के भाई से उसका मोबाइल मांगा था, लेकिन आरोपित भाई ने फोन नहीं दिया. वह पुलिस से उलझ गया. वहीं शक्ति चौक निवासी युवक ज्योति रंजन की बॉडी पहुंचने के बाद उसके घर पहुंचा था. इस दौरान वह पुलिस की गतिविधि पर वह नजर रख रहा था. एसएसपी एवं एसपी के जाने के बाद बाघमारा डीएसपी ने उक्त युवक को टारगेट में लिया. बताया जाता है कि इस दौरान ज्योति की बॉडी काॅलोनी परिसर में ही था, जिस कारण पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की, लेकिन बॉडी के अंतिम संस्कार के बाद पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार किया.

धनबाद एसएसपी संजीव कुमार ने बताया कि मृतक ज्योति रंजन अपने छोटे भाई के साथ मिलकर मंझलाडीह में प्लांट लगाकर लीची जूस एवं कई अन्‍य प्रकार के सॉफ्ट ड्रिंक्स का बिजनस करता था. यह जमीन किराये की थी, लेकिन हाल ही में ज्योति ने प्लांट लगाने के लिए नई जमीन खरीदी थी. सभी बिजनस को हड़पने के लिए बड़े भाई सौरभ शर्मा ने शॉर्टकट अपनाया और प्लानिंग के साथ छोटे भाई की गोली मारकर हत्या कर दी.

कब और कैसे हुई थी घटना

मालूम हो कि गुरुवार की शाम करीब साढ़े सात बजे अपराधियों ने गोली मारकर कार सवार ज्‍योति रंजन की गोली मारकर हत्‍या कर दी थी. घटना के वक्‍त ज्‍योति रंजन का पांच साल का बेटा भी कार में ही था. ज्‍योति रंजन को गोली मारने के बाद अपराधियों ने उसे हिलाकर भी देखा था. इस दौरान मृतक की पत्‍नी दीपा से अपराधियों का आमना-सामना भी हुआ था. वहीं ज्योति रंजन की हत्या के दूसरे दिन शुक्रवार को सुबह करीब 10 बजे राजगंज थाना की पुलिस सनसाइन कंट्री कॉलोनी में छानबीन के लिए पहुंची. इस दौरान काॅलोनी के मुख्य गेट के बगल में स्थित खाली जमीन पर पड़े दो हथियार, एक कारतूस और मैगजीन पुलिस ने बरामद की. जब्‍त हथियार में से एक देसी कट्टा और एक ऑटोमेटिक पिस्टल है. बता दें कि गुरुवार की रात भी वारदात के बाद मृतक की कार से पुलिस ने मैगजीन एवं कारतूस बरामद किया था.

Related Articles

Back to top button