न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

चुनावी दस्तक के साथ ही राजनीतिक पार्टियों की रैलियां शुरू, अपनी खोयी जमीन तलाश रहीं कुछ पार्टियां

64
  • कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की परिवर्तन उलगुलान रैली से संजीवनी ढूंढ रहे कांग्रेसी

Ranchi : लोकसभा चुनाव के दस्तक देने के साथ ही राज्य में राजनीतिक पार्टियां जनता के समक्ष अपनी उपस्थिति दर्ज कराने को प्रयासरत हैं. इस कड़ी में सभी पार्टियां लगातार रैली कर जनता के समक्ष अपनी मजबूती दर्ज कराने की कोशिश में हैं. लंबे-लंबे दावे कर रही हैं, मोदी और रघुवर सरकार के कार्यकाल की जमकर बुराई भी जनता के समक्ष कर रही हैं. इसके साथ ही अधिकांश पार्टियां अपनी खोयी जमीन को फिर से पाने की कोशिश में हैं. इसमें ऑल झारखंड स्टूडेंट्स यूनियन (आजसू) की स्वराज अभियान यात्रा, झारखंड विकास मोर्चा (जेवीएम) की लोकसभा स्तरीय सम्मेलन प्रमुख हैं. जेवीएम तो चुनाव के पूर्व अपने बागी विधायकों की बात उस क्षेत्र की जनता को बताकर भाजपा की पोल खोलने को प्रयासरत है. इसमें पार्टी का हल्ला बोल, पोल खोल, चोर मचाये शोर कार्यक्रम शामिल है. प्रमुख विपक्षी पार्टी जेएमएम ने तो करीब पांच माह पहले ही इस तरह की रैली की शुरुआत कर दी थी. पार्टी ने इसे झारखंड संघर्ष यात्रा का नाम दिया है. कांग्रेस भी अपनी प्रमंडलीय रैली से अपनी जमीन को मजबूत करना चाहती है. पार्टी तो राहुल गांधी की प्रस्तावित परिवर्तन उलगुलान रैली में खुद के लिए संजीवनी ढूंढने का प्रयास कर रही है.

क्षेत्रीय पार्टी है जेएमएम, लोकसभा से ज्यादा तवज्जो विधानसभा को

बात सबसे पहले जेएमएम की. जेएमएम जानता है कि एक क्षेत्रीय पार्टी होने के नाते जरूरी है लोकसभा चुनाव से ज्यादा विधानसभा चुनाव में उसकी मजबूत स्थिति हो. इसे देख पार्टी ने पहले ही स्वीकार किया है कि महागठबंधन बनने पर साझा विपक्ष कांग्रेस के नेतृत्व में लोकसभा चुनाव और जेएमएम कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन के नेतृत्व में विधानसभा चुनाव लड़ेगा. इसी मजबूती के लिए पार्टी ने गत वर्ष सितंबर में पांचों प्रमंडल में रैली की शुरुआत कर दी. पांच चरणों में चलनेवाली इस रैली को पार्टी ने झारखंड संघर्ष यात्रा का नाम दिया. 27 सितंबर से दो अक्टूबर तक चले पहले चरण की शुरुआत कोल्हान प्रमंडल स्थित जमशेदपुर से हुई. दूसरा चरण दक्षिणी छोटानागपुर प्रमंडल में 28 अक्टूबर से दो नवंबर तक बिरसा मुंडा की जन्मभूमि उलिहातू से हुआ. तीसरे चरण की यात्रा पलामू में 28 नवंबर से तीन दिसंबर तक निकाली गयी. चौथे चरण की यात्रा 10 से 17 फरवरी तक उत्तरी छोटानागपुर प्रमंडल में शहीद शेख भिखारी की धरती चुटुपालू से की गयी. अंतिम चरण की यात्रा संतालपरगना प्रमंडल में 20 फरवरी से 28 फरवरी तक चली है.

Mayfair 2-1-2020

भाजपा सरकार को उखाड़ फेंकने का हेमंत का दावा

हेमंत सोरेन ने बताया कि पार्टी की यह यात्रा विशेषकर भाजपा सरकार को उखाड़ फेंकने के लिए निकाली जा रही है. उन्होंने बताया कि पार्टी भाजपा सरकार की जमीन लूट,  भूख से मौत,  मंहगाई की मार,  स्कूलों का विलय, पुलिसिया बर्बरता,  जेपीएससी में भ्रष्टाचार,  महिलाओं पर हो रहे अत्याचार,  बेरोजगारी,  दारोगा भर्ती में गड़बड़ी,  डोभा व कंबल घोटाला,  दलितों पर अत्याचार, पारा शिक्षकों व होमगार्ड की अनदेखी, लचर बिजली व्यवस्था को लेकर जनता के बीच जायेगी. युवाओं से संवाद स्थापित कर भाजपा सरकार की जनविरोधी नीतियों को उजागर किया जायेगा.

चुनावी दस्तक के साथ ही राजनीतिक पार्टियों की रैलियां शुरू, अपनी खोयी जमीन तलाश रहीं कुछ पार्टियां

कांग्रेस की मंशा, लोकसभा चुनाव में मजबूत होकर उभरे पार्टी

बात अगर कांग्रेस की करें, तो पार्टी जानती है कि राज्य में इसकी स्थिति काफी कमजोर है. हाल में तो पार्टी ने अपनी मजबूत स्थिति कोलेबिरा जीत के बाद दिखा दी है, लेकिन ज्यादा जरूरी है कि पहले लोकसभा चुनाव में पार्टी मजबूत होकर उभरे. इसके लिए पार्टी ने पांचों प्रमंडलों में रैली करने का काम किया. नाम दिया कांग्रेस लाओ देश बचाओ रैली. तीन फरवरी को बाघमारा, 13 फरवरी को देवघर, 15 फरवरी को पलामू के शिवाजी मैदान में, 24 फरवरी को गुमला में इस तरह की रैली आयोजित की गयी थी. राहुल गांधी की परिवर्तन उलगुलान रैली के माध्यम से कांग्रेस नेतृत्व प्रदेश में कमजोर पड़ चुके संगठन को संजीवनी देने की कोशिश में है. वर्षों से कांग्रेस की कोई ऐसी रैली नहीं हुई है, जिसमें अपार भीड़ पहुंची हो, कम से कम एक लाख लोगों का आगमन हुआ हो. विपक्ष के संयुक्त कार्यक्रमों में भीड़ की बात अलग है. हाल के कुछ वर्षों में लोगों को पीएम मोदी की रैली में भीड़ के पहुंचने की याद है और कांग्रेस के नेता कोशिश कर रहे हैं कि राहुल की रैली में कम से कम इतने लोग पहुंचें कि चुनाव तक स्मृति पटल पर यह छाया रहे.

Vision House 17/01/2020

चुनावी दस्तक के साथ ही राजनीतिक पार्टियों की रैलियां शुरू, अपनी खोयी जमीन तलाश रहीं कुछ पार्टियां

लोकसभा सम्मेलन से जेवीएम दर्ज करा रहा उपस्थिति

इस तरह के कार्यक्रम करने में झारखंड विकास मोर्चा (प्रजातांत्रिक) भी पीछे नहीं रहा है. पार्टी ने लोकसभा चुनाव को देखते हुए रांची, चतरा, गोड्डा, कोडरमा में जिलास्तरीय लोकसभा सम्मेलन चला रखा है. लेकिन, पार्टी का कार्यक्रम हल्ला बोल, पोल खोल, चोर मचाये शोर कार्यक्रम काफी चर्चा में रहा है. गत विधानसभा चुनाव में पार्टी के टिकट पर चुनाव जीते जिन छह विधायकों ने भाजपा की सदस्यता ली थी, उस क्षेत्र में पार्टी ने इस तरह का कार्यक्रम आयोजित किया. इसमें हटिया विधायक नवीन जायसवाल, डालटनगंज विधायक आलोक चौरसिया, चंदनकियारी से अमर बाउरी, सारठ से रणधीर सिंह, बरकट्ठा से जानकी प्रसाद यादव, सिमरिया से गणेश गंझू का क्षेत्र शामिल है. पार्टी ने दावा किया कि भाजपा ने उनके विधायकों की खरीद-फरोख्त करने का काम किया. इसी सच को पार्टी इस क्षेत्र की जनता को बताना चाहती है.

चुनावी दस्तक के साथ ही राजनीतिक पार्टियों की रैलियां शुरू, अपनी खोयी जमीन तलाश रहीं कुछ पार्टियां

अपनी जमीन तलाशने में लगे हैं सुदेश महतो

तीनों पार्टियों से अलग आजसू पार्टी भले ही सरकार में हो, लेकिन उसकी स्थिति भी राज्य में काफी कमजोर हो चुकी है. पार्टी के केंद्रीय अध्यक्ष सुदेश महतो को जेएमएम ने दो बार सिल्ली से पटकनी दी है. इससे कार्यकर्ताओं में निराशा का भाव है. इसी भाव को हटाने और अपनी जमीनी स्थिति को एकबार फिर मजबूत करने के लिए सुदेश महतो ने गत वर्ष दो अक्टूबर, यानी महात्मा गांधी की जयंती पर ‘स्वराज स्वाभिमान यात्रा’ की शुरुआत की थी. पांच चरणों में होनेवाली इस यात्रा का पहला चरण हजारीबाग के मांडू के हेसालौंग से शुरू हुआ. दूसरे चरण में कोल्हान के खरसावां से, तीसरे चरण को गुमला जिले के विशुनपुर विधानसभा क्षेत्र से, चौथा चरण संतालपरगना के पाकुड़ जिले से और पांचवां चरण मझगांव से किया गया. इस दौरान सुदेश आधा दर्जन से अधिक गांवों में पदयात्रा कर ग्रामीणों से मिल चुके हैं.

चुनावी दस्तक के साथ ही राजनीतिक पार्टियों की रैलियां शुरू, अपनी खोयी जमीन तलाश रहीं कुछ पार्टियां

इसे भी पढ़ें- तो बताएं… झारखंड के नेताओं में अमर्यादित भाषा के लिए किसे मिल सकता है फर्स्ट प्राइज

इसे भी पढ़ें- सुखाड़ से निपटने के लिए झारखंड ने मांगी थी 818 करोड़ की सहायता राशि, केंद्र ने 272 करोड़ की दी…

Ranchi Police 11/1/2020

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like