न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

चार जजों की नियुक्ति के साथ 11 साल में पहली बार SC के जजों की संख्या 31 हुई

राष्ट्रपति द्वारा चार जजों को शपथ दिलाने के बाद 2009 के बाद पहला मौका है जब  SC  के जजों की कुल संख्या 31 हो गयी है.

31

NewDelhi : राष्ट्रपति द्वारा चार जजों को शपथ दिलाने के बाद 2009 के बाद पहला मौका है जब SC  के जजों की कुल संख्या 31 हो गयी है. इनमें बॉम्बे हाईकोर्ट के जस्टिस बीआर गवई, हिमाचल प्रदेश हाई कोर्ट के सूर्यकांत, झारखंड हाई कोर्ट अनिरुद्ध बोस और गुवाहाटी हाई कोर्ट के एएस. बोपन्ना ने SC  के जज के रूप में शपथ ली.  संसद ने सुप्रीम कोर्ट के जजों की संख्या को 26 से बढ़ाकर 31 कर दिया था. सीजेआइ रंजन गोगोई के नेतृत्व वाले कलिजियम ने 12 अप्रैल की अपनी सिफारिश को फिर से दोहराया.

केंद्र ने नामों को राज्यों के प्रतिनिधित्व में समानता के नाम पर लौटाया था

बता दें कि केंद्र ने पहले इन नामों को वरिष्ठता और राज्यों के प्रतिनिधित्व में समानता के नाम पर लौटा दिया था. आठ मई को कलिजियम के सीजेआई रंजन गोगोई, जस्टिस एसए बोबड़े, एनवी रमाना, अरुण मिश्रा और आरएफ नरीमन ने भी बॉम्बे हाई कोर्ट के जस्टिस गवई और हिमाचल प्रदेश हाई कोर्ट के सीजे कांत की सुप्रीम कोर्ट जज के तौर पर नियुक्ति की सिफारिश की थी.

Related Posts

जमानत के विरोध पर  #CBI पर पी चिदंबरम का तंज, मैं उड़कर चांद पर चला जाऊंगा, होगी मेरी सेफ लैंडिंग

ट्वीट में  बिना नाम लिये चांद, चंद्रयान 2 का जिक्र करते हुए सीबीआई पर निशाना साधा  गया है.

इससे पूर्व चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया आरएम लोढ़ा, एचएल दत्तू, टीएस ठाकुर, जेएस खेहर और दीपक मिश्रा के नेतृत्व में कलिजियम कभी भी इतनी बड़ी संख्या में सुप्रीम कोर्ट के जजों की नियुक्ति नहीं करा पाया था. कलिजियम की सिफारिशों पर काम करने में केंद्र सरकार ने भी शीघ्रता दिखाई. केंद्र ने जस्टिस गुप्ता, रेड्डी, शाह और रस्तोगी की नियुक्ति में 48 घंटे से भी कम समय लिया.

कांग्रेस कार्य समिति की बैठक शनिवार को, राहुल गांधी इस्तीफे की पेशकश कर सकते हैं

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्या आपको लगता है हम स्वतंत्र और निष्पक्ष पत्रकारिता कर रहे हैं. अगर हां, तो इसे बचाने के लिए हमें आर्थिक मदद करें.
आप अखबारों को हर दिन 5 रूपये देते हैं. टीवी न्यूज के पैसे देते हैं. हमें हर दिन 1 रूपये और महीने में 30 रूपये देकर हमारी मदद करें.
मदद करने के लिए यहां क्लिक करें.-

you're currently offline

%d bloggers like this: