न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

जेल से छूटे अपराधियों की मदद से जेल में बंद अपराधी कारोबारियों से वसूल रहे हैं रंगदारी

55

Ranchi : जेल में बंद अपराधी शहर के व्यवसायियों,  ठेकेदारों व जमीन कारोबारियों से रंगदारी वसूल रहे हैं. इसके लिए वे वैसे अपराधियों का इस्तेमाल कर रहे हैं, जो हाल ही में जेल से छूटे हैं. जेल से जमानत पर छूटे अपराधियों के साथ मिलकर ये वसूली कर रहे हैं. इस तरह की वसूली को रोक पाने में पुलिस भी नाकाम साबित हो रही है. सूत्र बताते हैं कि इसमें पुलिस की भूमिका को भी नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है.

जेल में बंद अपराधियों के कहने पर शाहिद ने मांगी थी मुंशी से रंगदारी

मिली जानकारी के अनुसार जेल में बंद किसी कुख्यात अपराधी के कहने पर ही कल्याण विभाग द्वारा बन रहे आदिवासी हॉस्टल (हिंदपीढ़ी) का निर्माण करा रहे मुंशी से शाहिद और मुस्ताक नाम के दो अपराधियों ने पांच लाख रुपये की रंगदारी मांगी थी. रंगदारी नहीं देने पर अंजाम भुगतने की धमकी दी गयी थी. इसके बाद मुंशी द्वारा हिंदपीढ़ी थाना में शिकायत दर्ज करायी गयी थी. इस मामले में पुलिस ने एक आरोपी मुस्ताक को गिरफ्तार किया, लेकिन अभी तक शाहिद की गिरफ्तारी नहीं हो पायी है. उसकी गिरफ्तारी के बाद कुछ और जानकारी मिल सकती है. हालांकि, पुलिस उसकी गिरफ्तारी के लिए लगातार छापामारी कर रही है.

गजेंद्र पांडेय हत्याकांड में जेल गया था शाहिद

शाहिद नौ जनवरी 2017 को आदिवासी हॉस्टल का निर्माण करा रही एएन कंस्ट्रक्शन कंपनी के सीनियर सुपरवाइजर गजेंद्र पांडेय की हत्या के मामले में जेल गया था. वह कुछ महीने पहले जमानत पर बाहर आया है. मिली जानकारी के अनुसार जेल से बाहर आने के बाद शाहिद ने जेल में बंद किसी बड़े अपराधी के कहने पर मुंशी से पांच लाख रुपये की रंगदारी की मांग की थी.

जेल प्रशासन की भूमिका संदिग्ध

जेल के विभिन्न सेलों में बंद अपराधियों को यह पता रहता है कि कौन अपराधी कब जेल से छूट रहा है. इससे जेल प्रशासन की भूमिका भी संदिग्ध हो जाती है. छूटनेवाले कैदियों पर तरह-तरह से दबाव डाला जाता है. या उनका ब्रेन वॉश किया जाता है. फिर अपराधियों को बाहर निकलने के बाद रंगदारी मांगने को कहा जाता है. रंगदारी की रकम में आधा हिस्सा देने की बात कही जाती है. जेल से छूटे ऐसे अपराधी पैसे कमाने के लिए रंगदारी,  हत्या और फायरिंग करने की घटना तक को अंजाम देते हैं.

रंगदारी के पैसों से करोड़ों की संपत्ति अर्जित की

जेल में बंद अपराधी सुजीत सिन्हा, संदीप थापा, गेंदा सिंह, मो इम्तियाज समेत अन्य ने रंगदारी और फिरौती के पैसों से करोड़ों की संपत्ति अर्जित की है. जेल में बंद होने के बाद भी इन अपराधियों का खौफ कम नहीं हुआ है. कोयला कारोबारी, ट्रांसपोर्टर्स, व्यापारी,  जमीन दलाल आदि इन अपराधियों को रंगदारी देते हैं. हर माह इनके लोग क्षेत्र से पैसे की वसूली करते हैं. ये अपराधी वसूले गये पैसे अब रियल-एस्टेट में अपने करीबियों के नाम से लगा रहे हैं.

इसे भी पढ़ें- आरसीआइ की ऑनलाइन परीक्षा के बाद भी खाली हैं 9196 सीटें

इसे भी पढ़ें- आय से अधिक संपत्ति के मामले में सीबीआई ने बंधु तिर्की को किया गिरफ्तार, 14 दिनों की न्यायिक हिरासत…

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: