न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

जल्द ही बनेगी “योर ऑन थॉट” आपकी अपनी थॉट

दिसंबर के दूसरे सप्ताह में प्रकाशित होनेवाली है यह किताब

1,354

Ranchi: परिस्थिति चाहे जो भी हो अगर उस परिस्थिति के हिसाब से व्यक्ति अपने आप को उसमें ढाल सकता है तो वह व्यक्ति अपनी आनेवाली जिंदगी में काफी कुछ कर सकता है. पर वह उस व्यक्ति पर निर्भर करता है कि वह कितना मेहनती है और अपनी जिंदगी के प्रति कितनी गंभीरता रखता है. कोई भी व्यक्ति तभी संतुष्ट होता है जब वह अपनी सोच को पूरा कर सके क्योंकि हर इंसान बस कल्पना ही कर सकता है कि उसे क्या चाहिए और किस चीज में उसे खुशी मिलेगी.

इसे भी पढ़ें – रिम्स के जिस कैंसर विंग पर सरकार 82 करोड़ से अधिक कर चुकी है खर्च, वहां हैं सिर्फ दो डॉक्टर

हम उस शख्स की बात कर रहे हैं, जिन्होंने अपनी सोच को हकीकत में बदला. क्योंकि उन्हें अपनी काबिलियत पर पूरा भरोसा है. हर सफल व्यक्ति सफल बनने से पहले यही सोचता है कि उसके अंदर ऐसी कौन सी बात है, जिससे वह सही मुकाम तक पहुंचे और अंशुमन इसी चीज को साथ लेकर अपने सपनों को पूरा करने के लिए तत्पर रहते थे.

अपनी जिंदगी में कई बदलाव किये अंशुमन ने

अंशुमन ने अपनी जिंदगी में काफी जोखिम भरे फैसले लिए हैं, जो किसी के लिए लेना बहुत ही मुश्किल होता है और सफल बनने का राज यही होता है कि वह अपनी जिंदगी में जोखिम ले. अंशुमन ने अपनी निजी जिंदगी में काफी बदलाव किए हैं अपने आप को बदलने के लिए और शायद यही कारण है कि अंशुमन आज एक मुकाम पर खड़े हैं. अंशुमन अपनी जिंदगी में काफी सामान्य लोगों की तरह ही बर्ताव करते हैं. ऐसे काफी सारी बातें हैं, जिससे यह मालूम पड़ता है कि अंशुमन अपनी जिंदगी में कितने आदर्श व्यक्ति हैं, जैसे अपने पुराने मित्रों के साथ संबंध बनाए रखना, जैसे हर व्यक्ति जीता है अपनी जिंदगी परिवार के साथ और मित्रों के साथ.

इसे भी पढ़ें – कौन है शिव शक्ति बख्शी? जिसकी चर्चा से गिरिडीह लोकसभा की टिकट के दावेदारों के होश उड़ रहे हैं

अंशुमन को भली भांति सब पता है कि आज वह जिस मुकाम पर हैं कहीं ना कहीं उसमें परिवार और मित्रों का भी सहयोग है. हाल ही में अंशुमन ने अपनी एक किताब लिखी थी “योर ऑन थॉट” यह किताब दिसंबर के दूसरे सप्ताह में प्रकाशित होनेवाली है जिसका लोगों को काफी बेसब्री से इंतजार है.

इसके अलावा वो अपनी कंपनी एसके एंटरटेनमेंट चलाते हैं, जो एक कास्टिंग कंपनी है. उन्होंने मुंबई के काफी कलाकारों को टीवी शो में काम दिया है और वो अब एसके एंटरटेनमेंट के बैनर तले एक लघु फिल्म की तैयारी कर रहे हैं. इस लघु फिल्म के जरिये वो लोगों के सामने आदर और सद्भाव कैसे रखें यह बताने की कोशिश कर रहे हैं.

इसे भी पढ़ें – झरिया : जीतपुर कोलियरी में घुसे कोयला चोरों ने किया मैनेजर पर हमला, एक चोर को कर्मचारियों ने धर दबोचा

वो कहते हैं ना…

जिंदगी कांटों का सफ़र है,

हौसला इसकी पहचान है,

रास्ते पर तो सभी चलते हैं,

पर जो सही चले वही इन्सान है,

और इसी प्रकार अंशुमन अपनी मंजिल की तरफ सही तरीके से और अपने किये हुए परिश्रम से चल रहे हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: