National

क्या फ्लोर टेस्ट पास कर पायेंगे कमलनाथ? दिग्विजय बोले- बहुमत नहीं

Bhopal: शुक्रवार शाम को होने वाले फ्लोर टेस्ट से पहले मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ इस्तीफा दे सकते हैं. फ्लोर टेस्ट से पहले शुक्रवार दोपहर प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलायी गयी है. इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में कमलनाथ इस्तीफे का ऐलान कर सकते हैं. 

वहीं दूसरी ओर कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह का कहना है कि 22 विधायकों के इस्तीफे के बाद कमलनाथ सरकार के पास बहुमत का आंकड़ा नहीं है. दिग्विजय सिंह ने कहा कि पैसे और सत्ता के दमपर बहुमत वाली सरकार को अल्पमत में लाया गया है.

इसे भी पढ़ें- #NirbhayaJustice: सात साल बाद देश की बेटी को मिला इंसाफ, तिहाड़ जेल में चारों दोषियों को फांसी

advt

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने मध्य प्रदेश विधानसभा के अध्यक्ष एन पी प्रजापति को शक्ति परीक्षण के लिये शुक्रवार को सदन का विशेष सत्र बुलाये जाने का निर्देश दिया है. साथ ही कहा कहै कि यह प्रक्रिया शाम पांच बजे तक पूरी कर ली जाए. यह निर्देश दिये जाने के बाद प्रदेश की कमलनाथ के नेतृत्व वाली कांग्रेस नीत सरकार का भविष्य अब कांग्रेस के 16 बागी विधायकों पर टिका है.

बागी विधायक बचा सकते हैं सरकार

मालूम हो कि मध्यप्रदेश में कांग्रेस के 22 बागी विधायकों के त्यागपत्र देने से सियासी संकट पैदा हुआ है. इनमें से छह के इस्तीफे विधानसभा अध्यक्ष ने मंजूर कर लिए हैं जबकि अन्य 16 के इस्तीफे अब तक मंजूर नहीं हुए हैं.

यदि इन 16 बागी विधायकों में से कम से कम 13 बागी विधायक कांग्रेस के पक्ष में मतदान करते हैं, तो तभी यह सरकार बच सकती है, नहीं तो इस सरकार का जाना तय है. वहीं, यदि इन 16 बागी विधायकों के इस्तीफे मंजूर भी कर लिए जाते हैं, तो कमलनाथ सरकार अल्पमत में आ जाएगी और सरकार का गिरना तय है.

इसे भी पढ़ें- 12,000 ट्रेनों में यात्रा के दौरान कोरोना की जांच हो, पैसेंजर्स एसोसिएशन ने प्रधानमंत्री और केंद्रीय मंत्रियों को लिखी चिट्ठी

adv

मध्यप्रदेश विधानसभा में कुल 230 सीटें हैं. इनमें से दो विधायकों (एक कांग्रेस एवं एक भाजपा) का निधन हो जाने से वर्तमान में दो सीटें खाली हैं और विधानसभा अध्यक्ष द्वारा कांग्रेस के छह विधायकों के इस्तीफे स्वीकार किये गये हैं. इस प्रकार अब सदन में कुल 222 सदस्य रह गये हैं.

कांग्रेस के 6 बागी विधायकों के इस्तीफे स्वीकार करने के बाद सत्तारूढ़ दल कांग्रेस के सदस्यों की संख्या 114 से घटकर 108 रह गयी है, जिनमें वे 16 बागी विधायक भी शामिल हैं जिनके इस्तीफे अभी स्वीकार नहीं किये गये हैं.

क्या कहता है मतदान का गणित

यदि ये विधायक मतदान में शामिल नहीं होते हैं, तो कांग्रेस के पास केवल 92 विधायक ही रह जाएंगे. इनके अलावा, इस सरकार को वर्तमान में चार निर्दलीय, दो बसपा एवं एक सपा विधायक का समर्थन भी प्राप्त है. यदि शक्ति परीक्षण में भी ये सभी इनके साथ रहते हैं, तो कमलनाथ सरकार के पास कुल मिलाकर 99 सदस्यों का समर्थन रहेगा. वहीं, राज्य विधानसभा में इस समय भारतीय जनता पार्टी के सदस्यों की संख्या 107 है.

इसे भी पढ़ें- #Coronavirusoutbreakindia : 22 मार्च रविवार को सुबह 7 बजे से रात 9 बजे तक देश भर में जनता कर्फ्यू

इस प्रकार कांग्रेस के 16 बागी विधायकों के मतदान में भाग न लेने पर इस सरकार का गिरना तय है, बशर्ते भाजपा के विधायक एकजुट रहें. लेकिन यदि कम से कम 13 बागी विधायकों के कमलनाथ सरकार के पक्ष में मतदान करते हैं, तो तभी यह सरकार बच सकती है, बशर्ते 4 निर्दलीय, दो बसपा एवं एक सपा विधायक पहले की तरह इस सरकार के समर्थन में मतदान करे. 

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button