न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

रांची के लापुंग में जंगली हाथी का कहर, तीन लोगों को कुचल कर मार डाला

285

Ranchi: झारखंड में जंगली हाथियों का उत्पात थमने का नाम नहीं ले रहा है. झारखंड में जहां जंगली हाथी फसल को नुकसान पहुंचा रहे हैं तो वहीं लोगों को कुचल कर मार भी रहे हैं. इसी दौरान एक और बड़ी घटना सामने आयी है, जहां राजधानी रांची के लापुंग थाना क्षेत्र में जंगली हाथी ने 3 लोगों को कुचल कर मार डाला और 2 लोग घायल हो गये. घटना के बाद लापुंग में हाथी के जबर्दस्त उत्पात से पूरे इलाके में दहशत का माहौल कायम हो गया है. हाथी ने कई घरों को भी तहस-नहस कर दिया है.

mi banner add

इसे भी पढ़ें – मोदी सरकार ने शहीदों के बच्चों की बढ़ायी स्कॉलरशिप और रघुवर सरकार ने पुलवामा शहीदों को ठगा

हाथी ने 3 लोगों को कुचल कर मार डाला

लापुंग में अपने झुंड से अलग होने बाद जंगली हाथी पहले खटंगा सरना टोली गांव पहुंचा. यहां सुषमा टोप्पो और सुमन अविरल खलखो को हाथी ने बुरी तरह से पटक-पटक कर और पैरों से कुचल कर मार डाला. गांव के लोग हल्ला करने लगे तो हाथी वहां से भाग गया. इसके बाद हाथी सेमर टोली गांव पहुंचा और बस्ती में घुस कर 70 वर्षीय एक महिला सुकरो उराइन को कुचल कर बुरी तरह से मार डाला. वहां से हाथी नदी टोली तिलाई गांव पहुंचा. यहां खेतों की रखवाली कर रहे किसान ठकरी उरांव व एक अन्य को घायल कर दिया.

राज्य गठन के बाद से 1200 लोगों की हाथी के हमले में हुई मौत

जंगली हाथियों के हमले में आये दिन ग्रामीणों की जान चली जाती है. वन विभाग के लिए यह एक बड़ी चुनौती बन गयी है. हाथी लोगों की जान सहित फसल और घरों को भी क्षति पहुंचा रहे हैं. वन विभाग की रेसक्यू टीम भी इसे रोकने में अबतक सफल नहीं रही है. राज्य गठन के बाद से अब तक हाथियों के हमले से 1200 लोग अपनी जान गंवा बैठे हैं.

Related Posts

BOI में घुसे चोर, कैश वोल्ट तोड़ने की कोशिश नाकाम, कुछ सिक्के ले भागे

बैंक के आमाघाटा ब्रांच की घटना, मुख्य दरवाजा तोड़कर अंदर घुसे चोर, ग्रिल भी तोड़ा

इसे भी पढ़ें – NEWS WING IMPACT: DC रांची ने बनायी पूर्व DGP डीके पांडेय की पत्नी की जमीन जांचने के लिए कमेटी, मंत्री ने कहा-कोई भी हो कानून से ऊपर नहीं

योजनाएं तो बन रही हैं पर कारगर नहीं

हाथियों पर काबू पाने के लिए वन विभाग योजनाएं तो बना रहा है, लेकिन वह कारगर साबित नहीं हो पा रही हैं. हाथियों के भ्रमण के लिए कॉरिडोर (एक प्राकृतिक स्थल से दूसरे प्राकृतिक स्थल तक) तैयार किया जाना था. इसके लिये जीआइएस मैपिंग भी हुई. लेकिन यह कॉरिडोर अब तक नहीं बन पाया है. राज्य के अंदर पूर्वी सिंहभूम, पश्चिमी सिंहभूम, गिरिडीह और दुमका में कॉरिडोर बनना था. वहीं अंतरराज्यीय कॉरिडोर उड़ीसा-चाईबासा, उड़ीसा- सारंडा, पूर्णिया-दलमा और सरायकेला- बंगाल में बनाया जाना था.

इसे भी पढ़ें –  गृहमंत्री पद संभालने के बाद शाह का ट्वीट, देश की सुरक्षा मोदी सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता  

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: