West Bengal

जिन्हें नागरिकता मिलेगी वे कहां जायेंगे और क्या खायेंगे, केला या लॉलीपॉप : ममता 

Purulia : प. बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सोमवार को एनआरसी और नागरिक संशोधन कानून के विरुद्ध पुरुलिया में भाजपा सरकार पर जम कर हमला बोला.

उन्होंने कहा कि केंद्र ने इन्हें लागू किया है पर यह राज्यों पर निर्भर करता है कि वह इसे अपने राज्यों में लागू करें या नहीं. उन्होंने लोगों से एनआरसी और सीएए का बहिष्कार करने की शपथ दिलायी.

मुख्यमंत्री ने सोमवार को सीएए और एनआरसी के विरुद्ध आयोजित पदयात्रा से पूर्व लोगों को संबोधन के दौरान ये बातें कहीं.

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अपने संबोधन में भाजपा सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि नागरिक संशोधन कानून के आंदोलन में उत्तर प्रदेश में 23 लोगों की जान गयी.

घटना में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने मारे गये लोगों के परिजनों को सहायता देने की घोषणा की थी, लेकिन बाद में वे मुकर गये क्योंकि उन लोगों ने विरोध आंदोलन में भाग लिया. लेकिन हम लोगों ने 2 परिवारों को पांच लाख रुपये की मदद दी.

इसे भी पढ़ें – हेमंत ने पहली ही कैबिनेट बैठक में रिक्त पदों को भरने का दिया निर्देश, 40,000 नौकरियों की जगी उम्मीद

एनआरसी के नाम पर किया जा रहा है षड्यंत्र

मुख्यमंत्री ने आरोप लगाया कि एनआरसी के नाम पर लोगों के विरुद्ध षड्यंत्र किया जा रहा है. उन्होंने हिंदू, मुस्लिम, ईसाई सभी को एकजुट होकर भाजपा सरकार को उखाड़ फेंकने और उन्हें अकेला कर देने का आह्वान किया.

उन्होंने कहा कि लोगों के अधिकार कोई नहीं छीन सकता. बंगाल में सभी धर्मों के लोग एक साथ मिल कर रहते हैं. उन्होंने कहा कि नागरिक संशोधन कानून और एनआरसी के विरुद्ध सर्वप्रथम हम लोगों ने आंदोलन शुरू किया और अब यह पूरे देश में फैल गया.

उन्होंने कहा कि इस आंदोलन में विद्यार्थी भी कूद पड़े हैं और उन्हें भी धमकाया जा रहा है. उन्होंने कहा कि मैं बंगाल में सीएए और एनआरसी नहीं लागू होने दूंगी और हमलोग यहां से किसी को नहीं जाने देंगे.

उन्होंने कहा कि केंद्र ने इन्हें लागू किया है पर यह राज्यों पर निर्भर करता है कि वह इसे अपने राज्यों में लागू करें या नहीं. उन्होंने कहा कि हमारे देश की जनसंख्या 130 करोड़ है जिसमें 110 करोड़ लोगों को नागरिकता मिलेगी तो फिर बाकी लोग कहां जायेंगे और क्या खाएंगे केला या लॉलीपॉप?

उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार की इन्हीं नीतियों के कारण महाराष्ट्र और झारखंड की जनता ने नकार दिया है और हम भी इन्हें अकेला बना देंगे. मालूम हो की पदयात्रा में उनके साथ राज्य के परिवहन मंत्री शुभेंदु अधिकारी, श्रम सह कानून मंत्री मलय घटक, पीयूपी मंत्री शांतिराम महतो, पुरुलिया जिला सभाधिपति सुजय बनर्जी सहित अन्य शामिल हुए.

पुरुलिया के विक्टोरिया मोड़ से शुरू की गयी रैली पुरुलिया शहर का भ्रमण करती हुई करीब 5 किलोमीटर दूरी तय  की और पुरुलिया टैक्सी स्टैंड पर आकर समाप्त हुई. इस दौरान सड़क के दोनों किनारे पर भारी संख्या में लोग ममता बनर्जी को देखने के लिए खड़े रहे.

इसे भी पढ़ें – #Pathalgadi: निर्दोषों पर किये केस वापस लेने का स्वागत, पर राष्ट्र विरोधियों को बख्शा जाना अनुचित- भाजपा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button