न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

धनबाद बार चुनाव में किसे मिलेगा जीत का ताज !

73

Vikash pandey

Dhanbad : धनबाद बार चुनाव को लेकर सरगमियां तेज हैं. सवाल है कि वर्तमान अध्यक्ष राधेश्याम गोस्वामी की टीम बरकरार रहेगी या नये परिणाम सामने आयेंगे. क्या कंसारी मंडल और देवीशरण सिन्हा की पुरानी टीम अधिवक्ताओं को लुभा पायेंगे या नये चेहरे बार एसोसिएशन में चमकेंगे. इन सवालों के तलाशते हुए न्यूज विंग ने दिग्गज प्रत्याशियों से बात की और जानने की कोशिश की कि इसबार अपने-अपने जीत के दावे के साथ क्या वादे किये और उनका मुख्य मुद्दा क्‍या रहेंगे.

अधिवक्ताओं के साथ हमेश खड़ा हूं :राधेश्याम गोस्वामी

 

बार एसोसिएशन के वर्तमान अध्यक्ष राधेश्याम गोस्वामी इस बार फिर से अध्यक्ष पद के उम्मीदवार हैं. उन्‍होंने कहा कि मैं हमेशा अधिवक्ताओं के कल्याण और मान-सम्मान के लिये तत्पर रहा हूं. एसडीओ कोर्ट में जहां अधिवक्ता बैठते हैं जमीन का पक्कीकरण करवायेंगे. इस बार हमने छावनी बनवायी. अधिवक्ताओं को एक हजार भत्ता के साथ 5000 फेस्टिवल अलाउंस देंगे. अधिवक्ताओं के हर पल का साथी बनूंगा. किसी भी अधिवक्ता की मृत्यु हो जाने पर आश्रितों को 10 हजार दिया जाता था. लेकिन अब इस राशि को बढ़ाकर 50 हजार कर दी है और अब एक लाख करेंगे. अभी बार काउंसिल 2 लाख 60 हजार से लेकर 7 लाख देता है. 70 साल से अधिक उम्र के अधिवक्ताओं को 7 हजार पेंशन दिया जाता है.

बार की गरिमा बनाये रखना प्राथमिकता :भगीरथी राय

इस बार भागीरथी राय अध्यक्ष पद के उम्मीदवार हैं. कहा कि अधिवक्ताओं का वेलफेयर और विकास कैसे हो, नये अधिवक्ताओं के लिए क्या कर सकते हैं, इसका मंथन कर उस पर कार्य करेंगे. स्टेट बार काउंसिल नये इनरोलमेंट करानेवालों को तीन साल के लिए एक हजार रुपये स्थापित होने के लिए दे रहा है, इसी तरह की व्यवस्था हम भी करने का प्रयास करेंगे. बार की गरिमा बनाये रखने के लिए नये लोगों को किताब मुहैया करा कर सहायता करेंगे. इनमें मेजर एक्ट, सीपीसी आदि की पुस्तकें होंगी. सभी वकीलों के लिए सीटिंग व्यवस्था करवायेंगे और जरूरत पड़ने पर सरकार से भी अनुशंसा करेंगे. भागीरथी राय 2 साल उपाध्यक्ष और 2 साल तक पूर्व में मुख्य उपाध्यक्ष भी रह चुके हैं. पिछ्ली बार महासचिव के पद के लिए चुनाव लड़े थे, लेकिन हार गये.

पिछ्ली कमेटी से लोगों का मोह भंग हो चुका है : देवी शरण सिन्हा

देवी शरण सिन्हा महासचिव पद के उम्मीदवार हैं. उनका कहना है कि पिछ्ली कमेटी से लोगों का मोह भंग हो चुका है. कोई भी विकास कार्य नहीं किया. कई आपराधिक मुकदमा उल्टा अधिवक्ताओं पर ही हुआ. इसके कारण मतदाता परिवर्तन चाह रहे हैं.दो बार जनरल सेक्रेटरी रह चुके सिन्हा ने कहा कि वकीलों की सही आवाज, मर्यादा, प्रतिष्ठा की रक्षा, वेलफेयर और विकास का कार्य बिना किसी पूर्वागृह के मेरे जीतने पर संपन्न होगा. इसके लिए समर्पित रूप से प्रयासरत रहूंगा. ताकि धनबाद बार काउंसिल की प्रतिष्ठा स्थापित हो. महिलाओं और युवा अधिवक्ताओं पर विशेष ध्यान दिया जायेगा. देवी शरण सिन्हा इससे पहले दो बार महासचिव रहे हैं.

बैंच और बार में समन्वय स्थापित करना प्राथमिकता है : कंसारी मंडल

अध्यक्ष पद के उम्मीदवार कंसारी मंडल ने कहा कि जीतने पर अधिवक्ताओं को दक्ष बनाने और न्यायालय में बहस की प्रस्तुति को सुदृढ करने के लिए सेमिनार करवाकर सभी को जानकारी मुहैया करायेंगे. महिला अधिवक्ताओं के लिए कॉमन रूम अवश्य बनेगा. स्वच्छ और स्वस्थ शौचालय की व्यवस्था और वरीय अधिवक्ताओं की एक सलाहकार समिति बनायी जायेगी. यह समय-समय पर एसोसिएशन के पदाधिकारियों को सही सलाह देकर कार्य पदद्धि को सही दिशा देंगे. तीन बार पहले भी चुनाव जीत चुके हैं. दो बार उपाध्यक्ष और एक बार एक्टिंग अध्यक्ष भी रह चुके हैं. पहले सेवाकाल में अधिवक्ताओं को जो सुविधाएं दी थी, उससे ज्यादा सुविधा दिलाने का एसोसिएशन के पदाधिकारी मिलकर काम करेंगे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: