ChaibasaMain Slider

कौन हैं अश्वनि कुमार मिश्रा और चाईबासा डीडीसी से क्या है रिश्ता!

Ranchi: कौन हैं अश्वनि कुमार मिश्रा. चाईबासा जिला प्रशासन और ठेकेदारों के बीच इस नाम की चर्चा बहुत है. इसके नाम की दो शिकायत पत्र मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन तक भी पहुंची है. इस अश्वनि कुमार मिश्रा का चाईबासा के डीडीसी आदित्य रंजन से क्या रिश्ता है.

क्यों चाईबासा में डीडीसी के स्तर से जारी होने वाले अधिकांश काम इसी अश्वनि कुमार मिश्रा की कंपनी त्रिनेत्रा या तिरुपति इंटरप्राइजेज नाम की कंपनी को मिलता है.

इसे भी पढ़ें –‘चित्रकूट में बच्चियों के शोषण’ मामले पर बोले राहुल: क्या यही है सपनों का भारत

advt

मुख्यमंत्री को लिखा गया था पत्र

फरवरी माह में झामुमो चाईबासा जिला के सचिव सोनाराम देवगम ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखा था. उस पत्र में सोनाराम देवगम ने आरोप लगाया था कि डीडीसी एक खास व्यक्ति को काम दे रहे हैं. सोनाराम देवगम ने पूरे मामले की जांच की मांग की थी. लेकिन किसी भी स्तर से जांच नहीं हुई.

इसके बाद सोनाराम देवगम ने 11 जून को दोबारा मुख्यमंत्री को पत्र लिखा. जिसमें पुराने आरोपों का जिक्र करते हुए दोबारा जांच की मांग की गयी है.

बोकारो का रहने वाला है अश्वनि मिश्रा

बताया जाता है कि अश्वनि कुमार मिश्रा मूल रुप से बोकारो का रहने वाला है. लेकिन लोग यही जानते हैं कि वह हजारीबाग का रहने वाला है. आदित्य रंजन हजारीबाग में एसडीओ के पद पर पदस्थापित थे.

इसके बाद उनकी पोस्टिंग चाईबासा डीडीसी के पद पर हुई. जिसके बाद से ही चाईबासा जिला में अश्वनि कुमार मिश्रा की कंपनी को काम मिलना शुरु हो गया.

adv

अश्वनि मिश्रा को नहीं जानताः आदित्य रंजन

चाईबासा के डीडीसी आदित्य रंजन ने बताया कि वह किसी अश्वनि कुमार मिश्रा को नहीं जानते. आरोप पूरी तरह बेबुनियाद है. उन्होंने साफ किया कि डीडीसी के अधीन जो भी कार्यकारी विभाग जिला परिषद, एनआरइपी आदि है, उसमें अश्वनि मिश्रा या उसकी किसी कंपनी का रजिस्ट्रेशन नहीं है.  सोनाराम देवगम ने जो भी आरोप लगाये हैं, उसकी जांच किसी भी एजेंसी से करायी जा सकती है.

इसे भी पढ़ें –चीन को अमेरिका की चेतावनी, ले सकते हैं कुछ और एक्शन: व्हाइट हाउस

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button