HEALTHJharkhandRanchi

कौन ले सकता है कोरोना का टीका, आसान भाषा में समझिए

Ranchi: कोविड-19 महामारी की रोकथाम हेतु सरकार द्वारा 16 जनवरी 2021 से कोविड-19 टीकाकरण कार्यक्रम शुरू किया गया था.

पहले चरण में हेल्थ केअर वर्कर्स और दूसरे चरण में फ्रंटलाइन वर्कर्स का टीकाकरण किया जा रहा है. तीसरे चरण में, एक मार्च 2021 से, आयु-उपयुक्त श्रेणियों के नागरिकों और सह रुग्णताओ के साथ टीकाकरण शुरू हो रहा है.

इसे भी पढ़ें: UPSC ने सिविल सर्विसेस परीक्षा का नोटिफिकेशन निकाला, 24 मार्च तक करें आवेदन

प्रश्न – कोविड टीके प्राप्त करने के लिए कौन पात्र हैं?

उत्तर:- सभी नागरिक जो 1 जनवरी 2022 को 60 वर्ष या उससे अधिक की आयु प्राप्त करेंगे.

  •  ऐसे सभी नागरिक जो 1 जनवरी 2022 के अनुसार 45 वर्ष से 59 वर्ष की आयु प्राप्त करेंगे, और उनमें से कोई भी विशिष्ट comorbidities या बीमारियां हैं.
  • हेल्थ केअर वर्कर्स (HCW), सहित MOHFW द्वारा निर्दिष्ट फ्रंटलाइन कार्यकर्ता (FLW) जिन्हें पहले से ही टीका लगाया जा रहा है.

प्रश्न – 45- 59 वर्ष के समूह के लिए निर्दिष्ट comorbidities/ बीमारियां कौन सी हैं, जो उन्हें वैक्सीन के योग्य बनाती हैं?

उत्तर- निम्नलिखित में से एक या अधिक बीमारियों वाले पात्र होंगे, बशर्ते कि उन्हें पंजीकृत चिकित्सक से एक विशिष्ट प्रारूप में प्रमाण पत्र प्राप्त हो.

1. हार्ट फेल्योर के साथ पिछले 1 साल में अस्पताल में भर्ती हुए हों

2. पोस्ट कार्डियक ट्रांसप्लांट के बाद/लेफ्ट वेंट्रिकुलर एसिस्ट डिवाइस (LVAD) के बाद

3.लेफ्ट वेंट्रिकुलर सिस्टोलिक शिथिलता (LVEF< 40%)

4. मध्यम या गंभीर वाल्वुलर हृदय रोग

5.गंभीर पल्मोनरी आर्टिरियल हाइपरटेंशन (पी ए एच) या जन्मजात हृदय रोग के साथ पी ए एच

6. कोरोनरी धमनी रोग के साथ सीएबीजी/पीटीसीए/एमआइ और उच्च रक्तचाप/मधुमेह उपचार पर

7. एंजाइना और उच्च रक्तचाप/मधुमेह उपचार

8. सीटी/एम आर आइ स्ट्रोक और उच्च रक्तचाप/ मधुमेह उपचार पर

9. पल्मोनरी आर्टिरियल हाइपरटेंशन और उच्च रक्तचाप/ मधुमेह उपचार पर

10. मधुमेह (>10 वर्ष की जटिलताओं) और उच्च रक्तचाप पर

इसे भी पढ़ें: कितने समय तक संक्रमण से सुरक्षा दे सकती है कोरोना वैक्सीन? जानिए WHO ने क्या कहा

11. किडनी/ लीवर/ हेमेटोपोेएटिक स्टेम सेल प्रत्यारोपण: प्राप्तकर्ता/ प्रतीक्षा सूची में

12. अंत चरण गुर्दा रोग/ हीमोडायलिसिस/ सी ए पी डी पर

13. मौखिक कॉर्टिकोस्टेरॉइड/ इम्यूनोसपरेसेंट दवाओं का लंबे समय तक उपयोग

14. विघटित सिरोसिस

15. पिछले 2 वर्षों में अस्पतालों में 15 गंभीर स्वसन रोग के साथ भर्ती हुए हो/FEV1 <50%

16. लिंफोमा/ ल्यूकेमिया/ मायलोमा

17. 1 जुलाई 2020 या उसके बाद किसी भी ठोस कैंसर का निदान या वर्तमान में या किसी भी ठोस कैंसर का निदान या वर्तमान में या किसी भी कैंसर चिकित्सा पर

18. सिकल सेल रोग/ अस्थि मज्जा विफलता/ आप्लास्टिक एनीमिया/ थैलेसीमिया मेजर प्राथमिक

19. प्रतिरक्षा विकार/ एचआईवी संक्रमण

20. बौद्धिक अक्षमता के कारण विकलांग व्यक्ति/ मस्कुलर डिस्ट्रॉफी/ एसिड अटैक श्वसन प्रणाली पर असर के साथ विकलांग व्यक्तियों के पास उच्च समर्थन की आवश्यकता वाले विकलांग/बहरे अंधापन सहित कई विकलांगताएं.

इसे भी पढ़ें: कोयला कंपनियों पर बकाया मामलाः महेश पोद्दार ने कहा- यूपीए सरकार ने ठगा, केंद्र ने झारखंड को दिये 250 करोड़

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: