न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

विधानसभा चुनाव में महागठबंधन होगा या नहीं, इस पर केंद्रीय नेतृत्व लेगा निर्णय  :  हेमंत सोरेन

हेमंत सोरेन ने चुनाव में ईवीएम पर सवाल खड़ा करते हुए बैलेट पेपर से चुनाव कराने की मांग भी की.

60

Ranchi : आगामी विधानसभा चुनाव में झारखंड मुक्ति मोर्चा की तरफ से महागठबंधन का स्वरूप कैसा होगा, महागठबंधऩ होगा या नहीं होगा, इसपर पार्टी का केंद्रीय नेतृत्व अंतिम निर्णय लेगा. निर्णय के बाद ही पार्टी नेतृत्व इसपर सभी घटक दलों से बातचीत करेगा. यह बात पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन ने पार्टी की दो दिवसीय कार्यसमिति की बैठक के उपरांत रविवार को प्रेस वार्ता में कही. उन्होंने यह भी कहा कि घटक दलों को इस माह के अंत तक महागठबंधन के स्वरूप को तय कर लेना है. इस  क्रम में जहां उन्होंने बीजेपी को निशाने पर लेते हुए लोकसभा चुनाव की जीत को सांगठनिक कार्यक्रम के तहत प्रसारित करने की बात कही,  वहीं चुनाव में ईवीएम पर सवाल खड़ा करते हुए बैलेट पेपर से चुनाव कराने की मांग भी की.

mi banner add
इसे भी पढ़ेंः छत्तीसगढ़ पुलिस ने बिस्किट कारखाने से 26 बाल मजदूरों को मुक्त कराया , झारखंड के बच्चे भी शामिल  

ईवीएम हटाकर बैलेट पेपर से हो चुनाव

ईवीएम पर सवाल खड़ा करते हुए हेमंत सोरेन ने कहा कि इससे जनता को अपने वोट देने के संवैधानिक अधिकार की जानकारी नहीं मिल पाती है. इससे चुनाव आयोग की विश्वसीयता पर भी सवाल खड़ा होता है. उन्होंने आगामी चुनाव में ईवीएम की जगह बैलेट पेपर से चुनाव कराने की मांग की.

इसे भी पढ़ेंः  वात्सल्यधाम से भागे दो बच्चे, 9 दिनों तक अधिकारी रहे अनजान, खुलासा होने के बाद जारी किया नोटिस
Related Posts

RTI से मांगी झारखंड में बाल-विवाह की जानकारी, BDO ने दूसरे राज्यों की वेबसाइट देखने को कहा

मेहरमा की बीडीओ ने मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ के जनजातीय विभागों के लिंक देकर लिखा, इन्हीं वेबसाइट पर मिलेगी जानकारी

अपनी जीत बतानी पड़ रही है बीजेपी को

कार्यसमिति की बैठक पर बात करते हुए हेमंत सोरेन ने कहा कि बैठक में संगठन के हर वर्ग और क्षेत्र के लोगों ने गंभीरता से अपनी बातों को रखा. जिसपर पार्टी नेतृत्व ने विचार करने की बात कही. वहीं लोकसभा चुनाव में बीजेपी को मिली जीत पर कहा कि इस जीत से किसी के अंदर भी कोई उत्साह नहीं दिख रहा. इसका कारण ईवीएम के कारण जनता को पहले ही जीत का पता था. हेमंत ने कहा कि यही वजह है कि बीजेपी को अपने संगठन कार्यक्रम के माध्यम से अपनी जीत को बताने के लिए गांवों में जाना पड़ रहा है.

इसे भी पढ़ेंः दर्द-ए-पारा शिक्षक: गर्मी की छुट्टियों में दूसरे के घरों की मरम्मत कर चलाना पड़ा परिवार

पार्टी चलायेगी डोर टू डोर कैम्पेन

विधानसभा चुनाव की तैयारी को लेकर हेमंत सोरेन ने कहा कि कार्यसमिति की बैठक में पार्टी ने जनता के बीच जाने का फैसला किया है. इसके लिए अपने-अपने क्षेत्र में पार्टी कार्यकर्ता हर सप्ताह एक पंचायत में तीन दिन का डोर टू डोर कैम्पेन चलायेंगे.  चुनाव परिणाम के बाद महागठबंधन की स्थिति पर हेमंत ने कहा कि हालांकि चुनाव परिणाम उम्मीद के विपरीत हैं, लेकिन इसका यह मतलब नहीं कि गठबंधन कमजोर हुआ है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: