National

कहां है #Recession? एक दिन में तीन फिल्मों ने 120 करोड़ रुपये की कमाई की : रविशंकर प्रसाद

Mumbai : केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि देश में मंदी नहीं है. पूछा कि  देश में एक दिन में तीन  फिल्मों ने 120 करोड़ रुपये  कमाये हैं, फिर कहां है मंदी? रविशंकर प्रसाद ने अर्थव्यवस्था में मंदी को पूरी तरह खारिज करते हुए  फिल्मों की कमाई का उदाहरण दिया.

रविशंकर प्रसाद ने कहा  कि दो अक्टूबर को रिलीज हुई तीन फिल्मों ने 120 करोड़ रुपये की कमाई की है. अर्थव्यवस्था दुरुस्त है तभी फिल्मों ने इतनी कमाई की है. इसी क्रम में उन्होंने बेरोजगारी पर NSSO की रिपोर्ट को भी गलत करार दिया.

इसे भी पढ़े : #RBI के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने दी चेतावनी, कहा- गंभीर संकट की तरफ बढ़ रही भारत की अर्थव्यवस्था

नैशनल हॉलीडे के दिन तीन फिल्मों ने 120 करोड़ रुपये का कारोबार किया

मोदी सरकार में कानून  मंत्री रविशंकर प्रसाद ने शनिवार को आयोजित संवाददाता सम्मेलन में   बेरोजगारी और अर्थव्यवस्था में सुस्ती को पूरी तरह खारिज किया.अर्थव्यवस्था में सुस्ती से इनकार करते हुए कहा, मेरा फिल्मों से लगाव है. फिल्में बड़ा कारोबार कर रही हैं. दो अक्टूबर को तीन फिल्में रिलीज हुई हैं. फिल्म उद्योग के विशेषज्ञ ने कहा है कि नैशनल हॉलीडे के दिन तीन फिल्मों ने 120 करोड़ रुपये का कारोबार किया.

जब देश में इकॉनमी थोड़ी साउंड है तभी तो 120 करोड़ रुपये का रिटर्न एक दिन में आ रहा है. जान लें कि  चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में विकास दर छह साल के निचले स्तर 5% पर पहुंच गयी है. रिजर्व बैंक सहित दुनिया की कई बड़ी रेटिंग एजेंसियों ने भी भारत के लिए विकास दर के अनुमान में कटौती की है. हालांकि, सरकार ने अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए कई अहम कदमों की घोषणा की है.

इसे भी पढ़े : #EconomyRecession: जारी है उत्पादन में गिरावट, इंडस्ट्रियल सेक्टर का सात सालों का सबसे खराब प्रदर्शन

बेरोजगारी पर NSSO की रिपोर्ट  केंद्रीय मंत्री ने खारिज की

संवाददाता सम्मेलन में  बेरोजगारी पर NSSO की वह  रिपोर्ट  भी केंद्रीय मंत्री ने खारिज की, जिसमें कहा गया है कि बेरोजगारी की दर 45 सालों में सर्वाधिक है. मंत्री ने कहा, वह रिपोर्ट गलत है. मैंने आपको 10 प्रासंगिक डेटा दिया है, जो रिपोर्ट में नहीं है. हमने कभी नहीं कहा कि हम सबको सरकारी नौकरी देंगे. कुछ लोग भ्रम फैलाने की कोशिश कर रहे हैं.

इसे भी पढ़े : केंद्र सरकार की आर्थिक नीतियों को लेकर बैंकरों की नाराजगी अब मुखर होने लगी है

 

Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close