JharkhandRanchi

किसानों की कर्ज माफी का फैसला फाइल से निकलकर बैंकों तक कब पहुंचेगा : सुदेश कुमार महतो

Ranchi: आजसू पार्टी के केंद्रीय अध्यक्ष और विधायक दल के नेता सुदेश कुमार महतो ने लॉकडाउन संकट में किसानों की दयनीय स्थिति पर चिंता जाहिर करते हुए सरकार की योजनाओं और तैयारियों पर सवाल उठायें हैं.

उन्होंने कहा कि किसानों की कर्ज माफी का फैसला फाइल से निकलकर बैंकों तक कब पहुंचेगा?

इसके साथ ही आजसू अध्यक्ष ने कहा है कि किसानों की कर्जमाफी से सरकार मुंह क्यों मोड़ रही है. जबकि बजट में दो हजार करोड़ का प्रावधान किया गया है. हालांकि यह प्रावधान कर्ज की तुलना में बेहद कम है. इसके बाद भी दो हजार करोड़ रुपये माफ कर देते, तो किसान दबाव से थोड़ी बहुत बच पाते.

इसे भी पढ़ें – #Lockdown: पांडिचेरी में फंसे झारखंड के 30 छात्र, सरकार से घर वापसी की लगा रहे गुहार

राज्य के किसानों पर है 7 हजार करोड़ रुपये का कर्ज

महतो ने कहा कि विधानसभा के बजट सत्र में 5 मार्च के अलपसूचित प्रश्न के जरिए मैंने किसानों की कर्जमाफी को लेकर सरकार की मंशा के बारे में पूछा था.

मेरे सवाल के जवाब में सरकार ने माना था कि राज्य के किसानों पर 7 हजार करोड़ रुपये का कर्ज है.

इसके बाद भी बजट में कर्जमाफी को लेकर महज 2000 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है. नयी सरकार गठन के पांच महीने होने को हैं और बजट सत्र के ढाई महीने बीत रहे हैं, किसानों की कर्जमाफी को लेकर सरकार ने कोई ठोस कदम नहीं उठाया.

जबकि मार्च महीने में ही किसानों समेत पूरे राज्य को लॉकडाउन का सामना करना पड़ा है. आजसू अध्यक्ष ने कहा कि चुनाव के वक्त सत्तारूढ़ दलों ने खुद को किसानों और मजदूरों का सबसे बड़ा हिमायती बताया था.

इसे भी पढ़ें – मृतक के घर सांत्वना देने पहुंचीं झरिया विधायक पूर्णिमा नीरज सिंह ने उड़ायी सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां

लॉकडाउन ने किसानों की तोड़ी कमर

सुदेश ने कहा कि लॉकडाउन में राज्य के कई इलाकों में किसानों की खेतों में सब्जियां और फल की पैदावार अच्छी हुई, लेकिन खरीदार नहीं मिलने की वजह से वे आंसू पीकर रहने को विवश हैं.

हाट-बाजार बंद हैं. सरकार की वेजफेड योजना भी प्रभावकारी नहीं हो पा रही है. किसानों ने बड़े पैमाने पर धान बेचे हैं, तो लैंपस और सहकारी समितियों से समय पर पैसे के भुगतान नहीं किये जा रहे हैं.

खेती को आगे बढ़ाने और घर-परिवार की आर्थिक स्थिति संभालने के लिए किसानों के खाते में तत्काल पैसे भेजने की जरूरत थी. पूर्व सरकार की वह योजना भी बंद कर दी गयी.

इसे भी पढ़ें – कोयला कारोबारी किरण महतो से हाइवा लूट मामले में भाजपा विधायक ढुल्लू महतो को मिली जमानत 

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close