न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

क्या घट रही है मोदी की लोकप्रियता ! अगर अभी चुनाव हुए तो BJP को हो सकता है 70 सीटों का नुकसान

सांसद और विधायक के कामों का रिपोर्ट कार्ड तैयार

809

Delhi: शुक्रवार 24 अगस्त को एक मोबाइल ऐप लॉन्च हुआ जो क्षेत्र के सांसद और विधायक के कामों का रिपोर्ट कार्ड तैयार करता है. जिसका नाम नेता ऐप रखा गया है. इस ऐप के जरिए क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों के कार्यो का आंकलन उस क्षेत्र की आम जनता द्वारा किये गये मूल्यांकन को आधार मानकार तैयार किया जाएगा. इसे पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने लॉन्च किया.

mi banner add

जनप्रतिनिधियों की बढ़ेगी जवाबदेही : प्रणब मुखर्जी

इलाके के सांसद और विधायक के कामों का रिपोर्ट कार्ड अब मोबाइल एप के जरिये जाना जा सकेगा. अपने तरह के इस अनूठे ‘नेता एप’ को आज पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने लॉंच किया. ‘नेता एप’ के जरिये जनप्रतिनिधियों के काम का आंकलन आम जनता द्वारा किए गए मूल्यांकन के आधार पर तैयार किया जाएगा. मुखर्जी ने इस एप को लोकतांत्रिक व्यवस्था में जनप्रतिनिधियों की जवाबदेही और जनता की भागीदारी बढ़ाने वाली पहल बताया.

इसे भी पढ़ें : पलामू: छह वर्ष बाद जागा प्रशासन, उतराखंड त्रासदी की राशि केरल भेजने का निर्णय

उन्होंने कहा लोकतंत्रिक व्यवस्था को जवाबदेही और पारदर्शिता के बिना कारगर नहीं बनाया सकता है. तकनीक के माध्यम से नेताओं की जवाबदेही, जनता की भागीदारी और व्यवस्था में पारदर्शिता लाने में यह एप स्वागतयोग्य पहल है. मुखर्जी ने कहा कि युवा आईटी विशेषज्ञ प्रथम मित्तल द्वारा विकसित नेता एप जनप्रतिनिधियों के कामकाज पर मतदाताओं और जनसामान्य की सतत निगरानी बनाये रखने के लिये कारगर हथियार साबित होगा.

इसे भी पढ़ें- PMCH के 400 कर्मचारी गये हड़ताल पर, मरीज पलायन को मजबूर

एंड्रॉयड और आईओएस आधारित स्मार्ट फोन पर पर उपलब्ध नेता एप 

मित्तल ने बताया कि एंड्रॉयड और आईओएस आधारित स्मार्ट फोन के अलावा वेबपोर्टल पर उपलब्ध नेता एप का इस्तेमाल कर कोई भी व्यक्ति अपने इलाके के सांसद और विधायक के काम का न सिर्फ रिपोर्टकार्ड जान सकेगा बल्कि उसके काम की रेटिंग भी खुद कर सकेगा. उन्होंने बताया कि इस एप का प्रायोगिक आधार पर हाल ही में कर्नाटक विधानसभा चुनाव में सफल प्रयोग किया गया था. इसमें चुनाव जीतने वाले 93 प्रतिशत उम्मीदवार नेता एप की श्रेष्ठ रेटिंग में शामिल थे.

इसे भी पढ़ें :न्यूजविंग इंपैक्टः महिला अफसर को परेशान करने का मामला, हजारीबाग DC से मांगी गई जानकारी 

लगभग 1.5 करोड़ लोग इस्तेमाल कर रहे है नेता एप

Related Posts

कर्नाटक : सियासी ड्रामा जारी, फ्लोर टेस्ट अटका,  विधानसभा शुक्रवार तक के लिए स्थगित ,भाजपा  धरने पर

भाजपा अध्यक्ष बीएस येदियुरप्पा ने कहा कि वे विश्वास मत पर फैसले तक सदन में रहेंगे.  हम सब यहीं सोयेंगे.

मित्तल ने बताया कि पिछले आठ महीनों में 543 संसदीय क्षेत्र और 4120 विधानसभा क्षेत्रों में अब तक लगभग 1.5 करोड़ लोगों ने नेता एप का इस्तेमाल शुरु कर दिया है. उन्होंने अगले साल आम चुनाव से पहले यह संख्या दस करोड़ तक पहुंचने की उम्मीद जतायी. इस अवसर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त एस वाई कुरैशी ने नेता एप को लोकतांत्रिक व्यवस्था में फीडबैक का बेहतर माध्यम बताते हुए कहा कि यह भारत में राजनीतिक प्रक्रिया और लोकतांत्रिक व्यवस्था में बड़े बदलाव का कारक बनेगा.

इसे भी पढ़ें : न्यूजविंग इंपैक्टः महिला अफसर को परेशान करने का मामला, हजारीबाग DC से मांगी गई जानकारी 

बढ़ रही है कांग्रेस की लोकप्रियता

नेता ऐप के डेटा के अनुसार अगर अभी लोकसभा चुनाव हुए तो बीजेपी को कम से कम 70 सीटों का नुकसान हो सकता है. हालांकि, इस डेटा में यूपी में समाजवादी पार्टी और बसपा के गठबंधन की स्थिति को नहीं जोड़ा गया है.

ऐप की माने तो, बीजेपी 2014 का संख्याबल 282 से घटकर 212 पर सिमट सकता है, जबकि कांग्रेस 44 से बढ़कर 110 सीटों पर पहुंच सकती है. नेता ऐप के सीईओ रॉबिन शर्मा के अनुसार, तीन महीने के  उपयोग से पता चलता है कि कांग्रेस की स्थिति में बेहतर सुधार हो रहा है, बीजेपी कमजोर पड़ रही है. वहीं, मित्तल ने ऐप के बारे में बताते हुए कहा कि एंड्रॉयड और आईओएस आधारित स्मार्टफोन के साथ-साथ वेबपोर्टल पर नेता एप उपलब्ध है. इसका इस्तेमाल कोई भी व्यक्ति कर सकता है. इस ऐप में क्षेत्र के सांसद और विधायक के काम का न सिर्फ रिपोर्टकार्ड जान सकेंगे बल्कि उसके काम की रेटिंग भी खुद कर सकेंगे.

इसे भी पढ़ेंः बोकारो भवन निर्माण विभाग की स्थिति दयनीय, तीन अवर प्रमंडलों में मात्र एक सहायक अभियंता

अच्छे रिपोर्ट कार्ड वाले उम्मीदवार चुनने में होगी आसानी : केजरीवाल

केजरीवाल ने कहा कि इससे न सिर्फ मतदाताओं को बेहतर काम करने वाले नेता का चयन करने में आसानी होगी बल्कि राजनीतिक दलों को भी अच्छे रिपोर्ट कार्ड वाले उम्मीदवार चुनने में यह एप मददगार बनेगा.

इस अवसर पर केन्द्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री विजय सांपला, पूर्व मंत्री मुरली मनोहर जोशी, शिवराज पाटिल, और अश्विनी कुमार के अलावा पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त नसीम जैदी भी मौजूद थे.

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: