JharkhandRanchi

“What Hemant Soren thinks today, India thinks tomorrow” : सुप्रियो भट्टाचार्य

♦जेएमएम नेता ने कहा, पीएम से पहले हेमंत ने 25 जून को ही की थी गरीबों को मुफ्त में अनाज देने की बात

Ranchi  :  बीजेपी प्रदेश अध्य़क्ष दीपक प्रकाश के हेमंत सरकार पर जनवितरण प्रणाली को ध्वस्त करने के आरोप पर जेएमएम ने पलटवार किया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 30 जून को लाये गरीब कल्याण अन्न योजना की बात करते हुए जेएमएम महासचिव सह प्रवक्ता सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा कि ऐसी योजना की पहल सीएम पहले ही कर चुके हैं. योजना में गरीब परिवार के प्रत्येक व्यक्ति को 5 किग्रा राशन देने की घोषणा हुई है. लेकिन पहले ही 25 जून को सीएम सोरेन ने राज्यपाल से मुलाकात कर कहा था कि दिसंबर तक सभी परिवार के प्रत्येक सदस्य को 5-5 किग्रा अनाज के साथ दाल दिया जाये. ऐसे में यह कहने में कोई परहेज नहीं कि मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन आज जो सोचते हैं, पूरा भारत इसे कल सोचेगा. मुख्यमंत्री की यह सोच एक बेहतर दूरदर्शिता को दिखाता है.

advt

इसे भी पढ़ें – Corona: गिरिडीह से 3 और लातेहार से 1 नये संक्रमित की पुष्टि, झारखंड का आंकड़ा 2529 पहुंचा

बिहार चुनाव को देख विशेष त्योहार का हुआ जिक्र

सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा कि गरीबों के हितार्थ अपनी योजनाओं की घोषणा करने के दौरान पीएम ने कई त्योहार का नाम लिया. लेकिन उन्होंने जिन त्योहार के नाम लिये हैं, वे किसी एक विशेष धर्म के प्रति थे. उन्हें सोचना चाहिए था कि वे पूरे देश के प्रधानमंत्री हैं. अभी हाल में बकरीद आनेवाला है. लेकिन उन्होंने इसका जिक्र नहीं किया. दिसम्बर में बड़ा दिन आयेगा, इसी तरह टुसू पर्व भी आयेगा, लेकिन पीएम ने अपनी बातों में इसका जिक्र नहीं किया. उन्होंने केवल और केवल बिहार चुनाव को देख कुछ त्योहार का ही नाम लिया.

जिन पीडीएस दुकानदारों पर हुई है कार्रवाई, सभी बीजेपी समर्थक

उन्होंने कहा कि बीजेपी शासन के दौरान पूरा पीडीएस सिस्टम बिचौलिये के हाथों में चला गया था. हेमंत सरकार ने सत्ता में आते ही इस पर त्वरित कार्रवाई की. करीब 150 से ज्यादा ऱाशन दुकानों को निलंबित या बर्खास्त किया गया. सैकड़ों को नोटिस भेजा गया है. बीजेपी नेता इसी कार्रवाई से तिलमिलाहट में हैं. क्योंकि सभी दुकानदार बीजेपी समर्थक हैं.

इसे भी पढ़ें – राज्य के तीन आईपीएस अधिकारियों का तबादला, आरके माल्लिक बने जेपीएचसीएल के एमडी

हेमंत सरकार की योजनाओं से सुदूरवर्ती क्षेत्रों के लोगों को जोड़ा गया

उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण के दौरान झारखंड ही एक मात्र राज्य था, जिन्होंने प्रवासी मजदूरों के लिए मनरेगा सहित कई योजनाओं का संचालन किया. हेमंत सरकार ने अपने सीमित संसाधनों के बल पर बिरसा हरित ग्राम योजना, नीलाम्बर-पीताम्बर जल समृद्धि योजना और वीर शहीद पोटो हो खेल विकास योजना की शुरुआत की. सुदूरवर्ती क्षेत्रों के लोगों को सीधा योजना से जोड़ा गया. वीर शहीद पोटो हो खेल विकास योजना के तहत सभी काम जेसीबी लगा कर नहीं बल्कि लोगों से कराया जा रहा है. इसी तरह नीलाम्बर-पीताम्बर जल समृद्धि योजना से बारिश के पानी को रोकने का काम किया जा रहा है. फिर भी बीजेपी को हेमंत सरकार के इस महत्वाकांक्षी योजना नहीं दिखती हैं.

नगर विकास में हुए सभी घोटालों की होगी जांच

सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा कि आज शहरों में सड़कों की जो स्थिति है, उसके पीछे का सीधा कारण नगर विकास विकास है. रोड़ से उपर नाली बना कर जिस तरह से घोटालों को अंजाम दिया गया है, उन सभी की जांच होगी. 6 साल से केंद्र में मोदी सरकार है, उसमें जितने भी घोटाले किये गये, उसका जिक्र तो बीजेपी वाले नहीं करते हैं. लेकिन छह माह की हेमंत सरकार जिसमें चार माह तक कोरोना काल ही रहा, तो मुख्यमंत्री पर विकास नहीं करने का आरोप लग रहा है. उन्होंने कहा कि कोरोना संकट काल में ग़रीबों,असहाय और जरुरतमंदों को भोजन उपलब्ध करवाने के लिए हेमंत सरकार ने 4121 पंचायतों में दीदी किचन केंद्र शुरू किये गये. इसके अलावा संचालित दाल-भात केंद्र और पुलिस थानों में संचालित कम्युनिटी किचन सहित हाईवे कम्युनिटी किचेन में खोले गये हैं.

इसे भी पढ़ें – कोरोना से निजात को लेकर केंद्र के दावे लचर साबित हो रहे हैं

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: