Fashion/Film/T.VJharkhandLead NewsRanchi

एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की पहली बरसी पर डायरेक्टर अनुभव सिन्हा क्या लिखा जो हुए ट्रोल

पिछले साल मुंबई में संदिग्ध स्थिति में हुई थी मौत

Naveen Sharma

Ranchi : बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की पिछले साल संदिग्ध स्थिति में हुई मौत को लेकर अभी भी लोग इस बात को लेकर असमंजस में हैं कि उसने सुसाईड किया था या किसी ने साजिश कर हत्या की है. हत्या की साजिश का पुलिस को अभी तक कोई सुराग नहीं मिला है लेकिन सुशांत से करीब से जुड़े हुए लोगों की गिरफ्तारी से लोगों को ये उम्मीद जगती है कि शायद इस मामले में रहस्य से पर्दा उठे.

अभी दो दिन पहले ही सुशांत के साथ उसके फ्लैट में रहनेवाले दोस्त सिद्धार्थ पिठानी को ड्रग्स मामले में नारकोटिस कंट्रोल ब्यूरो ने हैदराबाद से गिरफ्तार किया गया था. पिठानी को मुंबई ले जाया गया है जहां उससे पूछताछ चल रही है.

advt

अनुभव सिन्हा का ट्वीट

दरअसल सोशल मीडिया पर विभिन्न मुद्दों पर बेबाकी से अपनी राय रखने वाले फिल्म डायरेक्टर अनुभव सिन्हा ने सुशांत सिंह राजपूत की पहली बरसी से कुछ समय पहले ट्वीट करते हुए लिखा कि- “SSR Season 2 जल्द आ रहा है.” बस अनुभव के इतना लिखने की ही देरी थी कि सुशांत सिंह राजपूत के फैंस उन्हें जम कर ट्रोल करने लग गए.

कई सारे फैंस ने तो इसे सुशांत का अपमान बताया. एक शख्स ने लिखा- क्या आप ऐसा कह कर किसी की मौत का मजाक उड़ा रहे हैं? एक अन्य शख्स ने लिखा- आपको काहें तकलीफ हो रही है? सुशांत के एक समर्थक ने कहा कि अपने फायदे के लिए सुशांत का नाम लेना बंद करिए. वहीं कुछ लोग अनुभव की इस बात को मजाक में ले रहे हैं. एक शख्स ने लिखा कि- अभी SSR सीजन 1 खत्म नहीं हुआ तो 2 कैसे आ जाएगा.

भाई की पहली बरसी पर सोशल मीडिया से दूर रहेंगी बहन श्वेता

बता दें कि सुशांत सिंह राजपूत मामले में उनकी बहन श्वेता सिंह कीर्ति ने साल 2020 में अपने भाई को इंसाफ दिलाने के लिए जमीन-आसमान एक कर दिया था. सोशल मीडिया के जरिए उन्होंने कैंपेन चलाए जिसमें लाखों लोग जुड़े. मगर अब तक ये मामला अटका हुआ है.

वहीं इंडस्ट्री से शेखर सुमन और कंगना रनौत भी एक्टर सुशांत सिंह राजपूत के सपोर्ट में आए थे. मगर सुशांत की पहली बरसी पर बहन श्वेता पहाड़ों में जाएंगी और एकांत में समय बिताएंगी. उन्होंने एक इंटरव्यू में कहा था कि वे इस दौरान सोशल मीडिया से दूर रहेंगी.

हमेशा बच्चों की तरह निश्छल मुस्कुराने वाला और उत्साही नौजवान

मैंने सुशांत को अधिकतर बार हंसते मुस्कुराते हुए ही देखा है. फिल्मों में भी और कभी-कभार किसी चैनल पर इंटरव्यू या अन्य कार्यक्रमों में. उनके चेहरे पर व मुस्कान में एक बच्चे की तरह का भोलापन था जिसकी वजह से वे अन्य अभिनेताओं से अलग नजर आते थे.

इसे भी पढ़ें :खरकई नदी में डूबे दो बच्चे, एक को बचाया, दूसरे की तलाश जारी

रील लाइफ के महेंद्र सिंह धौनी

सुशांत मुझे खास तौर पर इसलिए भी पसंद थे कि उन्होंने धौनी की बॉयोपिक में महेंद्र सिंह धोनी का किरदार परफेक्ट तरीके से निभाया था. रांची के राजकुमार धौनी तो अपने सबसे फेवरेट क्रिकेट खिलाड़ियों में शामिल थे ही. इसलिए इस फिल्म में उनकी एक्टिंग देखने पर लगा कि धौनी की तरह दिखने.

उसकी तरह ही बैटिंग करने. धौनी की तरह चलने, कंधे उचकाने, बोलने बतियाने और धौनी के जैसा ही रिएक्ट करने के लिए सुशांत ने काफी मेहनत की थी. धौनी से कई बार मुलाकात कर उनकी हर गतिविधियों की बारीकियों पर ध्यान देकर. उन्हें निरंतर अभ्यास करने की वजह से ही वो एमएस धौनी अनटोल्ड स्टोरी में धौनी के रूप में जंचते हैं.

इस फिल्म में अनटोल्ड बातें कम ही थी खासकर हम रांची वासी मीडिया वालों के लिए. ऐसे में सुशांत सिंह राजपूत ने धौनी बनने के लिए जो मेहनत की थी उसी का कमाल था कि फिल्म अच्छी लगी थी . हम कह सकते हैं कि सुशांत का चयन सही था.

इसे भी पढ़ें :120 बोतल प्रतिबंधित अंग्रेजी शराब बरामद, कारोबारी के खिलाफ मामला दर्ज

रांची में शूटिंग करने आये थे सुशांत

यह फिल्म हम रांची वालों को एक स्पेशल फिलिंग देती है. रांची में फिल्म के काफी हिस्से की शूटिंग हुई थी इसलिए एक अपनापन महसूस हुआ. ये दूसरी हिंदी फिल्म है जिसकी लंबी शूटिंग रांची में हुई थी. धौनी के स्कूल जेवीएम श्यामली, मेकान, सीसीएल ,मेन रोड और रांची रेलवे स्टेशन के लोकेशन फिल्म में दिखाये गये थे.

इसे भी पढ़ें :मोबाइल टेस्टिंग वैन से होगा कोविड सैंपल कलेक्शन, 24 घंटे में मिलेगी रिपोर्ट

काई पो चे का क्रिकेट कोच

सुशांत पर मेरा ध्यान पहली बात 2013 में आई फिल्म काई पो चे से गया था. सिनेमा हॉल में तो ये फिल्म नहीं देख पाया था. टीवी पर यह फिल्म देखी थी. गुजरात के दंगों की पृष्ठभूमि पर बनी इस बेहतरीन फिल्म का नाम शुरू में अटपटा सा लगा. इसका मतलब नहीं जानता था पता चला कि गुजराती में पतंग को काटने के संदर्भ में ये इस्तेमाल होता है जैसे हम हिंदी पट्टी के कहते हैं वो काटा या छूते फक.

सुशांत इस फिल्म में एक युवा क्रिकेट कोच बने हैं जो एक जूनियर मुस्लिम समुदाय के गरीब लेकिन प्रतिभाशाली खिलाड़ी को निशुल्क ट्रेनिंग देते हैं. सुशांत अपनी कद काठी और हाव भाव से सचमुच के खिलाड़ी होने की फिलिंग देते हैं. इस फिल्म में क्रिकेट खिलाड़ी की भूमिका विश्वसनीय ढंग से निभाने की वजह से ही उन्हें धौनी की बायोपिक में धौनी का रोल ऑफर हुआ था.

इसे भी पढ़ें :बीएसएफ के प्रशिक्षु जवान ने फांसी लगा कर की आत्महत्या

छिछोरे में बेटे को सुसाइड के दंश से उबारने वाले सुशांत कैसे कर सकता है खुदकशी

निर्देशक नीतीश तिवारी की फिल्म छिछोरे (2019) के लीड रोल में सुशांत ही थे. इसमें इन्होंने अनिरुद्ध पाठक का किरदार निभाया था. इसमें इंजीनियरिंग के इंट्रेंस एक्जाम में फेल होने की वजह से आत्महत्या का प्रयास करने अपने बेटे को आत्महत्या के दंश से उबारने में मदद करते हैं. वे अपने कॉलेज के दिनों की बातें बता कर अपने बेटे राघव को समझाता है कि जीवन में किसी भी परीक्षा में फेल होना बुरा नहीं है. लूजर होना में भी कोई बुराई नहीं है बस अपनी पूरी ताकत झोंकनी चाहिए पूरा एफर्ट लगाना चाहिए उसके बाद रिजल्ट भले जो भी हो.

 

यूं सरेंडर करेंगे यकीन नहीं होता

अनिरुद्ध बने सुशांत ने फिल्म में भले ही अपने बेटे को समझा बुझाकर आत्महत्या के दंश से उबारकर सही राह दिखा दी थी लेकिन ये तो रील लाइफ थी. वास्तविक जिंदगी के संघर्ष, परेशानियां और तनाव शायद कुछ ज्यादा होते हैं जिनसे सहज उबरना बड़ा मुश्किल होता है. शायद इसीलिए सुशांत आत्महत्या जैसा कदम उठाने को मजबूर हुए.

लेकिन उनके जैसे हंसमुख, हैंडसम, स्मार्ट युवा से इस तरह जिंदगी से ऊब जाने, संघर्ष करने के बजाय यू सरेंडर करने की उम्मीद कतई नहीं थी. अभी तो महज 35 बसंत ही देखे थे ना तुमने. अभी तो एक लंबी पारी खेलनी थी यार.

तुम्हारे जैसा खिलाड़ी अच्छी बैटिंग कर रहा हो तो इस तरह से हिट विकेट कर अपना विकेट गंवा देने का कोई तुक नहीं बनता सुशांत. तुम पर जितना भी तनाव रहा हो पर मुझे उससे निजात पाने का यह तरीका पसंद नहीं आया. तुम खिलाड़ी थे तो स्पोर्ट्समैन स्पिरिट भी दिखाते भाई. लड़ते – जूझते यूं ही हार ना मानते.

 

सुशांत सिंह राजपूत की फिल्में

पैसा वसूल (2004)
शुद्ध देशी रोमांस (2013)
काई पो चे (2013)
पीके (2014)
डिटेक्टिव व्योमकेश बख्शी (2015)
एम एस धोनी: द अनटोल्ड स्टोरी (2016)
केदारनाथ (2018)
गुस्ताखियां (2018)
वेलकम टू न्यूयॉर्क (2018)
रोमिया अख्तर वॉल्टर (2019)
छिछोरे (2019)
सोनचिरैया (2019)
ड्राइव (2019)
दिल बेचारा (2020) मौत के बाद रीलीज हुई थी फिल्म
पानी (2020)

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: