न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पश्चिम बंगाल की कॉन्स्टीट्यूशनल बॉडी हुई पूरी तरह से ब्रेक डाउन : भाजपा

81

Ranchi : पश्चिम बंगाल सरकार पर सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी और अवमानना के नोटिस पर भाजपा प्रदेश प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव ने कहा कि इससे साबित होता है कि पश्चिम बंगाल की कॉन्स्टीट्यूशनल बॉडी पूरी तरह से ब्रेक डाउन हो गयी है. राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का लोकतांत्रिक संस्थाओं, मर्यादाओं और कानून पर से भी विश्वास उठ गया है. इसी तरह से निर्णय में जिस तरह से कोलकाता पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार को अनुसंधान में सहयोग करने की हिदायत दी गयी, उससे ममता बनर्जी सरकार को शर्मसार तक कर दिया है. पार्टी मुख्यालय में आयोजित प्रेसवार्ता में प्रतुल शाहदेव ने कहा कि ऐसा कर उन्होंने आतंक बनर्जी का परिचय दिया है. ममता बनर्जी जानती हैं कि आगामी चुनाव में पश्चिम बंगाल में उनकी स्थिति बदतर होनेवाली है. इसी के कारण वह तरह-तरह के हथकंडे अपना रही हैं.

ममता के राजनीतिक जीवन का फाइनल काउंटडाउन शुरू

प्रतुल शाहदेव ने कहा कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के कार्यक्रम की अनुमति देने के संबंध में दिन भर नौटंकी करके मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने दिखा दिया कि उन्हें भाजपा से डर लगता है. इससे पूर्व भी उन्होंने राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के कार्यक्रम में व्यवधान उत्पन्न किया था. जबकि, उसका कोई विशेष लाभ ममता नहीं ले सकीं. प्रतुल ने कहा कि ममता के राजनीतिक जीवन का फाइनल काउंटडाउन शुरू हो गया है और अगले चुनाव में पश्चिम बंगाल से तृणमूल कांग्रेस का सूपड़ा साफ होनेवाला है. आतंक के सहारे और संवैधानिक संस्थाओं की धज्जियां उड़ाकर कोई व्यक्ति लोकतंत्र में शासन नहीं कर सकता.

Aqua Spa Salon 5/02/2020

चिटफंड घोटाले पर हेमंत पर साधा निशाना

प्रतुल शाहदेव ने कहा कि चिटफंड घोटाले में बड़ी तादाद में संतालपरगना के आदिवासियों को बेवकूफ बनाकर उनके पैसे की ठगी की गयी थी. आज उसी क्षेत्र के नेता हेमंत सोरेन उनके पक्ष में खड़े हैं. इससे साफ प्रतीत होता है कि हेमंत सोरेन को संतालपरगना के आदिवासियों से कोई लगाव नहीं है और वह राजनीतिक लाभ और व्यक्तिगत स्वार्थ सिद्धि के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं.

घुसपैठियों और भ्रष्टाचारियों की नेता बन गयी हैं ममता : प्रवीण प्रभाकर

Related Posts

मौके पर उपस्थित प्रवक्ता प्रवीण प्रभाकर ने कहा है कि बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी बांग्लादेशी-रोहिंग्या और घोटालेबाजों को रोकने के बजाय भाजपा और सीबीआई को रोकने में लगी हैं. आखिर उन्हें पूरे देशवासियों को यह बताना चाहिए कि वह भाजपा और सीबीआई से इतना क्यों डरती हैं. ममता बनर्जी घुसपैठियों और भ्रष्टाचारियों की नेता बन गयी हैं. वह दुर्गा पूजा और रामनवमी का विरोध करती हैं, लेकिन गोहत्या से दिक्कत नहीं. योगी आदित्यनाथ को बंगाल में घुसने से रोकने की कोशिश कर ममता बनर्जी ने यह बता दिया कि वह देश के संघीय ढांचे और संविधान का सम्मान नहीं करतीं. उन्होंने बंगाल में अघोषित आपातकाल लगा रखा है.

राजनीति की ताबूत का अंतिम कील होगा यह कदम

बंगाल की राजनीति को लेकर प्रवीण प्रभाकर ने कहा कि बंगाल की राजनीति में ममता बनर्जी से ज्यादा क्रूर, अमानवीय और लोकतंत्र विरोधी नेता नहीं हुआ. प्रभाकर ने कहा कि मोदी-योगी को बंगाल में घुसने से रोकने का कुचक्र ममता बनर्जी की राजनीति की ताबूत का अंतिम कील बनेगा. ममता बनर्जी भाजपा को रोकने में जितनी ताकत लगायेंगी, कमल उतना ही खिलेगा.

इसे भी पढ़ें- ओडीएफ का खेल : केंद्र ने रोका पैसा, कहा- शौचालय बनाकर फोटो अपलोड करें, तब देंगे पैसा

इसे भी पढ़ें- हाईस्कूल शिक्षक नियुक्ति: नियमावली कुछ और विज्ञापन कुछ और, नतीजा कट ऑफ मार्क्स लाकर भी ज्वॉइनिंग…

Sport House

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like