न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पश्चिम बंगाल : भाजपा के उभरने से परेशान ममता बनर्जी कड़े फैसले लेने को तैयार, 31 को समीक्षा करेंगी

हमने दो-तीन ऐसे टीएमसी नेताओं की पहचान की है जिन्‍होंने भाजपा से पैसा लिया और पार्टी के खिलाफ काम किया है.

131

Kolkata : लोकसभा चुनाव 2019 में पश्चिम बंगाल में भाजपा के ऐतिहासिक प्रदर्शन ने राज्‍य की मुख्‍यमंत्री बनर्जी को चिंता में डाल दिया है. खबर है कि भाजपा के भगवा तूफान का सामना करने, अपनी पार्टी तृणमूल कांग्रेस को इस गंभीर संकट से उबारने के लिए ममता बनर्जी  कई कड़े फैसले लेने जा रही हैं. कहा जा रहा है कि ममता बनर्जी राजनीतिक और प्रशासनिक स्‍तर पर कई बड़े बदलाव करेंगी. इस संबंध में उन्‍होंने 31 मई को अंतिम समीक्षा बैठक बुलाई है.

शनिवार को ममता बनर्जी की बैठक में मौजूद टीएमसी के नेताओं के अनुसार संगठन को मजबूत करने के लिए ममता कुछ कड़े फैसले कर सकती हैं. ममता आगे बढ़कर भगवा लहर का खुद सामना करेंगी. उन्‍होंने पार्टी को और ज्‍यादा समय देने का भी फैसला किया है. उन्‍होंने बताया कि टीएमसी के दो से तीन नेता ममता के रेडार पर हैं.

इसे भी पढ़ें- दस सालों में 44 प्रतिशत बढ़ी करोड़पति व आपराधिक पृष्ठभूमि वाले सांसदों की संख्या

टीएमसी नेताओं ने भाजपा से पैसा लिया

बैठक के दौरान ममता ने कहा, ‘हमने दो-तीन ऐसे टीएमसी नेताओं की पहचान की है जिन्‍होंने भाजपा से पैसा लिया और पार्टी के खिलाफ काम किया है. अपने इस बयान के जरिए ममता ने यह संकेत दिया कि भीतरघातियों की तलाश जारी है और जल्‍द ही उनके खिलाफ वह ऐक्‍शन लेंगी. टीएमसी छोड़कर भाजपा में शामिल होने वाले नेताओं का नाम लिये बिना ममता ने कहा, अब हमारे सामने समस्‍या है. जब हम भ्रष्‍ट नेताओं के खिलाफ कार्रवाई करेंगे तो वे दूसरे दलों में जगह बना लेंगे. यह खतरनाक ट्रेंड है.’

ममता बनर्जी ने शनिवार की बैठक के बाद संगठन के अंदर बदलाव के निर्देश दिये हैं. ममता के भतीजे और टीएमसी एमपी अभिषेक बनर्जी को वोटर लिस्‍ट को अपडेट करने और पार्टी विधायकों के साथ समन्‍वय का जिम्‍मा दिया गया है. राज्‍य के शहरी विकास मंत्री फिरहद हकीम को हावड़ा, बीरभूम, हुगली और बर्दवान की जिम्‍मेदारी दी गयी है.  अन्‍य बड़े नेताओं को नयी जिम्‍मेदारी दी गयी है.

इसे भी पढ़ें- बिहार में सबसे अधिक वोटरों ने दबाया नोटा, जानें कहां कितने लोगों ने चुना नोटा का विकल्प

 ममता ने इस्तीफे की पेशकश की थी

शनिवार की बैठक के बाद ममता बनर्जी ने इस्तीफे की पेशकश की थी. इसके अलावा उन्होंने चुनाव आयोग, केंद्रीय सुरक्षा बल समेत केंद्र सरकार पर उनके खिलाफ काम करने का आरोप भी लगाया. इस मीटिंग के बाद ममता बनर्जी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की, जिसमें उन्होंने कहा कि मैंने मीटिंग की शुरुआत में ही कह दिया था कि मैं अब सीएम के तौर पर काम नहीं करना चाहती. टीएमसी नेताओं ने उनके इस्तीफे की इस पेशकश को नामंजूर कर दिया है.

बंगाल में भाजपा को 18 सीटें

भाजपा ने राज्य में शानदार प्रदर्शन करते हुए 18 सीटें हासिल की हैं.  टीएमसी ने 43.3 प्रतिशत वोट शेयर के साथ 42 में से 22 लोकसभा सीटें जीतीं. भाजपा को 40.3 प्रतिशत वोट शेयर के साथ 2 करोड़ 30 लाख 28 हजार 343 वोट हासिल हुए हैं. वहीं, टीएमसी को 43.3 फीसदी वोट शेयर के साथ 2 करोड़ 47 लाख 56 हजार 985 मत मिले.

इसे भी पढ़ें- 14 राज्‍यों के 49 विधायक जीत कर लोकसभा पहुंचे, कराने होंगे उपचुनाव

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्लर्क नियुक्ति के लिए फॉर्म की फीस 1000 रुपये, कितना जायज ? हमें लिखें..
झारखंड में नौकरी देने वाली हर प्रतियोगिता परीक्षा विवादों में घिरी होती है.
अब JSSC की ओर से क्लर्क की नियुक्ति के लिये विज्ञापन निकाला है.
जिसके फॉर्म की फीस 1000 रुपये है. यह फीस UPSC के जरिये IAS बनने वाली परीक्षा से
10 गुणा ज्यादा है. झारखंड में साहेब बनानेवाली JPSC  परीक्षा की फीस से 400 रुपये अधिक. 
क्या आपको लगता है कि JSSC  द्वारा तय फीस की रकम जायज है.
इस बारे में आप क्या सोंचते हैं. हमें लिखें या वीडियो मैसेज वाट्सएप करें.
हम उसे newswing.com पर  प्रकाशित करेंगे. ताकि आपकी बात सरकार तक पहुंचे. 
अपने विचार लिखने व वीडियो भेजने के लिये यहां क्लिक करें.

you're currently offline

%d bloggers like this: