West Bengal

West Bengal : वाम दलों और कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने हाथरस घटना को लेकर किया प्रदर्शन

Kolkata :  उत्तर प्रदेश के हाथरस में दलित लड़की से कथित सामूहिक दुष्कर्म व उसकी मौत के मामले को लेकर कोलकाता में शनिवार को वाम दलों और कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने जमकर प्रदर्शन किया. मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) और कांग्रेस के करीब 1,000 कार्यकर्ता दोपहर में मौलाली से एस्प्लेनेड की ओर बढ़े. उनके हाथों में तख्तियां थी, जिन पर ‘केंद्र की फासीवादी भाजपा सरकार और बंगाल की तृणमूल कांग्रेस सरकार मुर्दाबाद’ तथा ‘लोकतंत्र का गला घोंटने वालों का मुर्दाबाद’ जैसे नारे लिखे थे.

Jharkhand Rai

इसे भी पढ़ेंः दुर्गा पूजा के पहले दक्षिण पूर्व रेलवे ने रेलवे बोर्ड के पास भेजा 41 स्पेशल ट्रेनें चलाने का प्रस्ताव

जब उन्होंने एस्प्लेनेड में बैरीकेड हटाने की कोशिश की, तब पुलिस के साथ उनकी झड़प हुई. वे प्रदर्शन के लिए कोलकाता में उत्तर प्रदेश भवन की ओर जाने का प्रयास कर रहे थे. दोनों दलों ने दावा किया कि झड़प में उनके कई कार्यकर्ताओं को चोटें लगी, हालांकि पुलिस ने इससे इनकार किया है. बाद में, उन्होंने एस्प्लेनेड चौराहे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के पुतले फूंके.

एसएफआइ नेता सुभजीत सरकार ने कहा, ‘हमने लोकतांत्रिक शक्तियों पर हमले और देशभर में, खासकर उत्तरप्रदेश में दुष्कर्म की बढ़ती घटनाओं पर अंकुश लगाने में विफल रहने को लेकर मोदी का पुतला फूंका. हमने बंगाल में कानून व्यवस्था के चरमरा जाने और महिलाओं पर हमले बढ़ने को लेकर तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी का भी पुतला फूंका.

Samford

इसे भी पढ़ेंः गिरिडीह : कोडरमा सांसद अन्नपूर्णा देवी ने कृषि बिल को बताया ऐतिहासिक, योगी सरकार की तारीफ की

उल्लेखनीय है कि गत 14 सितंबर को हाथरस जिले के एक गांव में 19 वर्षीय एक दलित लड़की से चार युवकों ने कथित तौर पर सामूहिक दुष्कर्म किया था. पीड़िता की हालत बिगड़ने पर उसे दिल्ली स्थित सफदरजंग अस्पताल ले जाया गया था, जहां मंगलवार तड़के उसकी मौत हो गई थी. इसके बाद आरोप है कि स्थानीय प्रशासन ने रातोंरात (बुधवार तड़के) बिना परिवार की सहमति के उसके शव का दाह-संस्कार भी कर दिया. इस पूरे प्रकरण को लेकर राष्ट्रव्यापी रोष छाया हुआ है. इधर, मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी इस घटना के खिलाफ शनिवार को कोलकाता में विरोध मार्च निकाला.

इसे भी पढ़ेंः सिर्फ 84 स्पेशलिस्ट डॉक्टरों के ही भरोसे है राज्य का स्वास्थ्य सिस्टम, 1369 विशेषज्ञों की है कमी

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: